संजीवनी टुडे

सरकार को भी चुना लगा रहे हैं लोग! 5.95 लाख अकाउंट की जांच, 5.38 लाख फर्जी निकले

संजीवनी टुडे 24-09-2020 13:54:29

किसानों की आर्थिक मदद के लिए सरकार की ओर से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम चलाई जा रही है। इसके तहत किसानों के बैंक अकाउंट में सीधे रकम भेजी जाती है। अभी तक इसकी छह किश्तें भेजी जा चुकी हैं। लेकिन कोई सोच भी नहीं सकता कि इतने फुलप्रूफ सिस्टम में भी फर्जीवाड़ा करने वाले लोग सेंध लगा लेंगे।


जयपुर। किसानों की आर्थिक मदद के लिए सरकार की ओर से प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम चलाई जा रही है। इसके तहत किसानों के बैंक अकाउंट में सीधे रकम भेजी जाती है। अभी तक इसकी छह किश्तें भेजी जा चुकी हैं। लेकिन कोई सोच भी नहीं सकता कि इतने फुलप्रूफ सिस्टम में भी फर्जीवाड़ा करने वाले लोग सेंध लगा लेंगे। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि स्कीम में अवैध तरीके से पैसा निकालने के मामले की जब जांच शुरू हुई तो अपात्र यानी फर्जी लोगों के आंकड़े को देखकर सरकार हैरान हो गई।

pm modi

सूत्रों के मुताबिक तमिलनाडु में 5.95 लाख लाभार्थियों के अकाउंट की जांच की गई जिसमें से 5.38 लाख फर्जी निकले। अब संबंधित बैंकों के जरिए फर्जी लाभार्थियों के बैंक अकाउंट में गई रकम को वसूलने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है, ताकि यह पैसा केंद्र सरकार के अकाउंट में वापस आए और उसका सही जगह इस्तेमाल हो सके। अब तक 61 करोड़ रुपये वसूले गए हैं। 

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि 96 कांट्रैक्ट कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त कर दी गईं हैं। अपात्र लाभार्थियों के रजिस्ट्रेशन के लिए जिम्मेदार पाए गए 34 अधिकारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई शुरू की गई है। 3 ब्लॉक स्तरीय अधिकारियों तथा 5 सहायक कृषि अधिकारियों को सस्पेंड किया गया है। ये लोग पासवर्ड के दुरुपयोग के लिए जिम्मेदार पाए गए थे। 13 जिलों में एफआईआर (FIR) दर्ज करके संविदा कर्मियों सहित 52 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। 

pm modi

भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए राज्य सरकार ने केंद्र के साथ विचार-विमर्श करके एक स्टैंडर्ड ऑपरेटिंग सिस्टम तैयार कर प्रणाली को सुदृढ़ करने का काम शुरू किया है। हालांकि, सरकार ने यह स्पष्ट किया है कि असली किसान परिवारों की पहचान करने की पूरी जिम्मेदारी राज्य सरकारों की है। 

कैसे रोका गया फर्जीवाड़ा?

पीएम मोदी की ड्रीम स्कीम में से फर्जी तरीके से करोड़ों रुपये निकालने का मामला सामने आने के बाद राज्य सरकार ने जांच करवाई. इससे यह पता चला कि कुछ बेईमान लोगों ने स्कीम के तहत अपात्र व्यक्तियों की बड़ी संख्या में बुकिंग करने के लिए जिला अधिकारियों के लॉग-इन आईडी और पासवर्ड का दुरूपयोग किया था

pm modi

कृषि विभाग द्वारा रखे गए कांट्रैक्ट कर्मचारी भी इस गैरकानूनी कार्य में शामिल पाए गए थे। राज्य सरकार ने तत्काल जिला अधिकारियों के पासवर्ड को बदल दिया था. ब्लॉक स्तरीय पीएम-किसान खातों एवं जिला स्तरीय पीएम-किसान लॉग-इन आईडी को निष्क्रिय कर दिया गया। ताकि फर्जीवाड़ा रुक जाए। 

यह खबर भी पढ़े: राष्ट्रपति ट्रंप का दावा, कोविड-19 की वैक्सीन बनाने के अंतिम चरण में अमेरिकी कंपनी, ट्रायल के रजिस्ट्रेशन के लिए से लोगों से लगाई गुहार

यह खबर भी पढ़े: चीन की पोल खोलने वाली महिला वायरोलॉजिस्ट का सनसनीखेज दावा, कोरोना वायरस को छिपाने के प्रयास में WHO भी शामिल

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From business

Trending Now
Recommended