संजीवनी टुडे

PNB घोटाले के बाद सरकारी बैंकों के निजीकरण से जेटली का इंकार

संजीवनी टुडे 24-02-2018 15:50:48

Source: Google

नई दिल्ली। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पीएनबी  के 11,400 करोड़ रुपये के फ्रॉड के बाद सरकारी बैंकों के निजीकरण से इनकार किया है। जेटली के मुताबिक,  राजनीतिक रूप से इस पहल को स्वीकार नहीं किया जा सकता है। इकनॉमिक टाइम्स ग्लोबल बिजनेस समिट में जेटली ने कहा कि पीएनबी घोटाले के बाद कई लोगों ने बैंकों के निजीकरण की चर्चा शुरू कर दी थी।

यह भी देखें: वीडियो : MP में छात्र-छात्राओं ने ली बीजेपी को वोट नहीं देने की शपथ, वीडियो हुआ वायरल

gfg

उद्योग मंडल फिक्की के अध्यक्ष राशेष शाह ने शुक्रवार को जेटली से मुलाकात कर चरणबद्ध तरीके से बैंकों के निजीकरण की प्रक्रिया शुरू करने का आग्रह कहा था। शाह ने कहा था कि सार्वजनिक क्षेत्र में सिर्फ दो-तीन बैंक होने चाहिए। नीरव मोदी के जरिए पीएनबी से घोटाला किए जाने के बाद से निजीकरण की मांग उठने लगी है। उद्योग मंडल एसोचैम ने भी सरकार से सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों में अपनी हिस्सेदारी घटाकर 50 प्रतिशत से कम पर लाने को कहा है। 

MUST WATCH

गोदरेज समूह के आदि गोदरेज के मुताबिक, बैंकों का निजीकरण देश के लिए अच्छा होगा, क्योंकि निजी बैंकों में कम या न के बराबर फर्जीवाड़ा होता है। इस तरह बजाज समूह के राहुल बजाज ने भी बैंकों के निजीकरण के पक्ष में बोला है।

Rochak News Web

More From business

Trending Now
Recommended