संजीवनी टुडे

आईआईपी आंकड़ें जारी, 2.4 फीसदी रही औद्योगिक विकास दर

संजीवनी टुडे 12-02-2019 21:00:27


नई दिल्ली। केंद्र सरकार ने मंगलवार को दिसम्बर,2018 में औद्योगिक उत्‍पादन सूचकांक (आईआईपी) के आंकड़े जारी किए। जिसमें खनन, विनिर्माण(मैन्‍युफैक्‍चरिंग) एवं बिजली क्षेत्र, विनिर्माण क्षेत्र के 23 उद्योग समूहों, प्राथमिक वस्‍तुओं(प्राइमरी गुड्स), पूंजीगत सामान, मध्‍यवर्ती वस्‍तुओं में विकास दर के आंकड़े विस्तार से प्रस्तुत किए। जारी आंकड़ों के मुताबिक दिसम्बर, 2018 में औद्योगिक उत्‍पादन सूचकांक(आईआईपी) 133.7 अंक रहा, जो दिसम्बर,2017 के मुकाबले 2.4 फीसदी ज्‍यादा है। इसका मतलब यही है कि दिसम्बर,2018 में औद्योगिक विकास दर 2.4 फीसदी रही। उधर, अप्रैल-दिसम्बर,2018 में औद्योगिक विकास दर पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 4.6 फीसदी आंकी गई है।

खनन, विनिर्माण(मैन्‍युफैक्‍चरिंग) एवं बिजली क्षेत्रों की उत्‍पादन वृद्धि दर दिसम्बर,2018 में दिसम्बर,2017 के मुकाबले क्रमश: (-)1.0 फीसदी, 2.7 फीसदी तथा 4.4 फीसदी रही। उधर, अप्रैल-दिसम्बर2018 में इन तीनों क्षेत्रों यानी सेक्‍टरों की उत्‍पादन वृद्धि दर पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि की तुलना में क्रमश: 3.1, 4.7 तथा 6.4 फीसदी आंकी गई है। उद्योगों की दृष्टि से विनिर्माण क्षेत्र के 23 उद्योग समूहों(दो अंकों वाली एनआईसी-2008 के अनुसार) में से 13 समूहों ने दिसम्बर, 2017 की तुलना में दिसम्बर, 2018 के दौरान धनात्मक वृद्धि दर दर्ज की है। 

इस दौरान ‘तंबाकू उत्पादों के विनिर्माण’ ने 27.9 प्रतिशत की सर्वाधिक धनात्‍मक वृद्धि दर दर्ज की है। 

इसके बाद 'अन्‍य परिवहन उपकरणों के विनिर्माण' का नम्‍बर आता है, जिसने 17.9 प्रतिशत की धनात्‍मक वृद्धि दर दर्ज की है। इसी तरह 'पहनने वाले परिधानों के विनिर्माण' ने 16.5 प्रतिशत की धनात्‍मक वृद्धि दर दर्ज की है। दूसरी ओर 'फर्नीचर के विनिर्माण' ने (-) 18.7 प्रतिशत की सर्वाधिक ऋणात्‍मक वृद्धि दर दर्ज की है। इसी तरह 'अन्‍य विनिर्माण' ने (-) 16.4 प्रतिशत और ‘कोक एवं रिफाइंड पेट्रोलियम उत्पादों के विर्निमाण’ ने (-) 5.4 प्रतिशत की ऋणात्‍मक वृद्धि दर दर्ज की है।

जयपुर में प्लॉट मात्र 2.30 लाख में Call On: 09314188188

उपयोग आधारित वर्गीकरण के अनुसार दिसम्बर,2018 में प्राथमिक वस्‍तुओं(प्राइमरी गुड्स), पूंजीगत सामान, मध्‍यवर्ती वस्‍तुओं एवं बुनियादी ढांचागत/निर्माण वस्‍तुओं की उत्‍पादन वृद्धि दर दिसम्बर 2017 की तुलना में क्रमश: (-) 1.2 फीसदी, 5.9 फीसदी(-) 1.5 फीसदी और 10.1 फीसदी रही। 

MUST WATCH & SUBSCRIBE

जहां तक टिकाऊ उपभोक्‍ता सामान का सवाल है, इनकी उत्‍पादन वृद्धि दर दिसम्बर,2018 में 2.9 फीसदी रही है। इसी तरह गैर-टिकाऊ उपभोक्‍ता सामान की उत्‍पादन वृद्धि दर दिसम्बर,2018 में 5.3 फीसदी रही।

More From business

Loading...
Trending Now
Recommended