संजीवनी टुडे

सरकार के लिए चिंता बनी खाद्य वस्तुओं की महंगाई, लॉकडाउन के बाद कीमतों में हुई 30 प्रतिशत की बढ़ोतरी

संजीवनी टुडे 17-09-2020 15:15:53

खाद्य वस्तुओं की महंगाई भारत सरकार हेतु चिंता बनती जा रही है।


नई दिल्ली। खाद्य वस्तुओं की महंगाई भारत सरकार हेतु चिंता बनती जा रही है। सब्जियों सहित खाने-पीने की अनेक वस्तुओं संग दाल के दाम भी अब तेजी से बढ़ने लगे हैं। लॉकडाउन के पश्चात से दाल की कीमतों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। बीते वर्ष की इस अवधि से तुलना करें तो दालों की कीमत में 20 से 30 पतिशत की वृद्धि हुई है। 

दिल्ली-एनसीआर मार्केट में दालें महंगी 
दिल्ली-एनसीआर मार्केट में खुदरा दुकानदार दालों के कम उत्पादन का हवाला देकर दामों में वृद्धि कर रहे हैं। बीते कुछ समय से दालों की प्रति किलो कीमत 15 से 20 रुपये तक बढ़ चुकी है। बीते वर्ष इस अवधि में चना दाल का दाम 70-80 रुपये प्रति किलो था परन्तु इस बार यह 100 रुपये से अधिक तक पहुंच चुका है। अरहर दाल 100 रुपये प्रति किलो बिक रही है। 

दामों में कमी के आसार नहीं 
मार्केट ऑपरेटरों की माने तो जुलाई तक उड़द दाल की कीमत में प्रति क्विंटल 500 रुपये, अरहर में 600 रुपये एवं मूंग में 800 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि हो चुकी है। कोरोना संक्रमण के कारण दालों की पैदावार कम हुई है थोक कीमतें अधिक होने से खुदरा दामों पर प्रभाव पड़ रहा है। लिहाजा दालें महंगी हो रही हैं। 

बीते दिनों आलू-प्याज सहित तमाम सब्जियों की कीमत में वृद्धि हुई हैं। इसके बाद दालों की बढ़ी कीमतें लोगों को परेशान कर रही हैं। हालांकि सरकार का बोलना है कि वह दानों पर नजर बनाए हुए किन्तु अभी दालों की कीमत में कोई खास कमी दर्ज नहीं की गई है। विश्लेषकों के मुताबिक खाद्य महंगाई ऊंची बने रहेगी क्योंकि कोरोना के कारण सप्लाई चेन प्रभावित हुआ है। 

यह खबर भी पढ़े: चीन किसी भी द्विपक्षीय समझौते को मानने को तैयार नहीं, लेकिन हम भी देश का मस्तक झुकने नहीं देंगे: राजनाथ सिंह

ऐसी ही ताजा खबरों व अपडेट के लिए डाउनलोड करे संजीवनी टुडे एप

More From business

Trending Now
Recommended