संजीवनी टुडे

GST परिषद ने सिगरेट पर बढ़ाया सेस, नहीं मिलेगा विनिर्माता को अप्रत्याशित मुनाफा

संजीवनी टुडे 18-07-2017 08:08:30

GST council will not get cess on cigarettes unanticipated profit for manufacturers

नई दिल्ली। माल एवं सेवा कर जीएसटी परिषद की और से सिगरेट पर उपकर बढ़ा दिया है। वित्त मंत्री अरुण जेटली के मुताबिक, GST दरें तय होने के बाद विसंगति के कारण सिगरेट विनिर्माता अप्रत्याशित मुनाफा ले रहे थे और इसी को ध्यान में रखते हुए यह कदम उठाया गया है। 

 

इस नए निर्णय के मुताबिक जहां सिगरेट पर जीएसटी की 28% की उच्चतम दर लागू रहने के साथ 5% का मूल्यानुसार कर भी बना रहेगा। साथ ही इस पर उपकर की दर बढ़ा दी गयी है। परिषद के इस निर्णय के अनुसार अब प्रति एक हजार सिगरेट स्टिक्स पर मात्रानुसार तय उपकर 485 से 792 रुपए तक बढ़ गया है। 

यह भी पढ़े: IIFA 2017: सोनाक्षी ने आईफा में किया फैशन ब्लंडर, टि्वटर पर हुई ट्रोल  

 

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये GST परिषद की आपात बैठक के बाद संवाददाताओं से बातचीत में जेटली ने कहा कि सिगरेट पर उपकर में बढ़ोतरी से सरकार को 5,000 करोड़ रुपए का अतिरिक्त राजस्व मिलेगा, अन्यथा यह विनिर्माताओं के खाते में जाता। जीएसटी परिषद ने मई में सिगरेट पर 28%की कर दर तय की थी। इसके उपर 5% का मूल्यानुसार कर लगाया गया है। 65 एमएम तक की फिल्टर और गैर फिल्टर सिगरेट पर 1,591 रूपये प्रति हजार स्टिक्स का उपकर लगाया गया। उससे उपर विभिन्न लंबाई की सिगरेट पर उपकर की दर 2,126 से 4,170 रुपए थी।


गौरतलब है कि जेटली के मुताबिक, इस स्थिति को सुधरने के लिए जीएसटी परिषद ने सिगरेट पर निश्चित उपकर 485 से 792 रुपए प्रति हजार स्टिक्स बढ़ा दिया है। हालांकि इससे सिगरेट की कीमत नहीं बढ़ेगी, क्योंकि उपकर में बढ़ोतरी से सिर्फ विनिर्माताओं का अप्रत्याशित मुनाफा खत्म होगा। 

WATCH VIDEO

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

More From business

loading...
Trending Now
Recommended