संजीवनी टुडे

दिव्यात्मा बाब के शहादत दिवस पर विशाल रक्तदान शिविर का आयोजन

संजीवनी टुडे 10-07-2019 19:06:52

169 वें शहादत दिवस पर विशेष प्रार्थनाओं से श्रद्धांजलि अर्पित की


जयपुर। स्थानीय आध्यात्मिक सभा जयपुर की ओर से बहाई धर्म के अग्रदूत " दिव्यात्मा बाब "  के शहादत दिवस पर बापू नगर स्थित बहाई हाउस में एक विशेष प्रार्थना सभा का आयोजन किया गया| " दिव्यात्मा बाब " जो कि बहाई धर्म के अग्रदूत माने जाते हैं , बाब का शाब्दिक अर्थ द्वार है जिसका तात्पर्य उस एक नए धर्म के आगमन से है जो समस्त मानवजाति के बीच एकता व विश्व शान्ति स्थापित करेगा | 

ु

 बाब' का जन्म सन् 1819 को ईरान देश के शिराज नामक शहर में हुआ व महज 25 वर्ष की आयु में ही स्वयं को ईश्वर के अवतार के रूप में 23 मई सन् 1844 में घोषित किया व 31 वर्ष की उम्र में तत्कालीन तानाशाही सरकार द्वारा 9 जुलाई 1850 को सार्वजनिक रूप से हजारों लोगों की तादाद के बीच शहीद कर दिया गया | मात्र 6 वर्ष के अल्प समय में ही " दिव्यात्मा बाब " के लाखों की संख्या मे अनुयायी बने व कई हजार लोगों ने उनके प्रेम के निमित धर्म की रक्षा हेतु अपना बलिदान किया |

ु
 
स्थानीय आध्यात्मिक सभा की सचिव सहर हगीगत अनवरी ने बताया की इस अवसर पर श्रद्धांजलि स्वरूप एक रक्तदान शिविर का भी आयोजन किया गया , स्नेहा अनंत ने दिन के महत्तव के बारे में बताया ,और अध्यक्ष निजात हगीगत ने सभी का धन्यवाद दिया.|

ु

जहां बहाई धर्मानुयायी व अन्य मित्र रक्तदान करके " दिव्यात्मा बाब " को प्रतीकात्मक रूप से श्रद्धांजलि अर्पित की | यह दिन उन नो दिनों मे से एक है जिस दिन बहाईयों का कार्य करना निषेध होता है |

More From bahaifaith

Trending Now
Recommended