loading...
loading...
loading...
बदमाशों ने नमाज पढ़कर लौट रहे व्यक्ति को मारी गोली, हत्या के बाद मस्जिद में फेंके गोश्त के टुकड़े कश्मीर मुद्दे को लेकर भारत को पाकिस्तान से करनी होगी बातचीत: बासित Jio के इस धमाकेदार ऑफर से मिलेगा 600 से ज्यादा शहरों को लाभ हॉलिडे एंजॉय कर रही मौनी रॉय की देखे, हॉट तस्वीरें शहरी विकास मंत्री एम वैंकेया नायडू ने किया स्मार्ट सिटी के लिए 30 और नए शहरों की सूची का ऐलान ट्रंप का आेबामा प्रशासन से सवाल, क्यों नहीं की चुनाव में रूसी हस्तक्षेप को रोकने की कोशिश अनोखी शादी: दुल्हे की लंबाई 6 फीट 1 इंच, दुल्हन 2 फीट 8 इंच 2 सगे भाई सहित हुए 4 युवक गिरफ्तार श्रीकांत ऑस्ट्रेलिया ओपन सुपरसीरीज के सेमीफाइनल में Surrogate के जरिए तीसरे बच्चे को जन्म देगी किम कार्दशियन DSP की हत्या के बाद श्रीनगर में कर्फ्यू और तनाव का माहौल 5 अंक की गिरावट के साथ सैंसेक्स हुआ 31,286 इस पत्थर की पूजा करने से धन और शोहरत में होती है बढ़ोतरी! 15 वर्षीय लड़की को दंबग लड़के ने घर में खींचकर किया दुष्कर्म 3 पैसे की बढ़ोतरी के साथ रुपया 64.56 के स्तर पर भारत में लांच हुआ वनप्लस 5 स्मार्टफोन, जानिए खासियत यामी गौतम ने कुछ इस अंदाज में मनाया योग दिवस वेस्टइंडीज में धोनी से मिलने पंहुचा उनका करीबी यार 'इसरो' के 31 उपग्रहों के सफल प्रक्षेपण पर PM मोदी ने दी बधाई भारतीय रेलवे में बोतलबंद पानी की सप्लाई पर किया बड़ा काम
आखिर भारतीय किसान क्यों है परेशान?
sanjeevnitoday.com | Sunday, June 18, 2017 | 12:43:32 PM
1 of 1

 

नई दिल्ली। 'मां बच्चे को दूध तब ही पिलाती है जब बच्चा रोता है। अभी बच्चा काफी तेज रो रहा है।' भारत में खेती के हाल को एमपी किसान आंदोलन के मुखिया माने गए शिव कुमार शर्मा कुछ ऐसे ही बयां करते हैं। कक्का के नाम से मशहूर शर्मा राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के अध्यक्ष भी हैं। किसानों की दशा को लेकर वह कहते हैं, 'हम सभी जानते हैं कि किसान क्यों दुखी है। किसान निराशा की हदें पार कर चुका है और अब हमारे पास दो ही विकल्प हैं- आंदोलन या आत्महत्या।'

 

यह विचार केवल कक्काजी के नहीं बल्कि सभी किसान नेताओं के हैं। दिल्ली के जंतर-मंतर पर तमिलनाडु के किसानों ने 41 दिनों तक प्रदर्शन किया। किसानों ने सरकार का ध्यान खींचने के लिए पेशाब पीने जैसे प्रतीकों का भी सहारा लिया। महाराष्ट्र में किसानों ने सब्जियों और दूध की सप्लाइ बंद कर दी और आखिर में सीएम देवेंद्र फडणवीस को यूपी की योगी सरकार की तरह ही लोन माफी का वादा करना पड़ा। 

RSS से जुड़े भारतीय किसान संघ के सचिव मोहिनी मोहन मिश्रा का मानना है कि लोन माफी इस समस्या का समाधन नहीं है। वह कहते हैं, 'सभी किसान कर्जमाफी की मांग नहीं कर रहे, कुछ कर रहे हैं। यूपीए की सरकार ने भी कर्जमाफी की थी और वीपी सिंह की सरकार ने भी कर्ज माफ किया था। असली किसान जानते हैं कि यह सिर्फ वोट बैंक की राजनीति है। एक ऐसी लॉलीपॉप जो उन्हें कर्जे से मुक्ति नहीं दिला पाएगी।'



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.