बिडेन हो सकते है अमेरिका के अगले राष्ट्रपति आशिकी-3 में आलिया-सिद्धार्थ करेंगे रोमांस अमिताभ ने किया बहू ऐश्वर्या की सुसाइड की बात को नजर अंदाज। जमीन विवाद को लेकर मारपीट प्रेमी जोड़े ने ट्रेन के आगे कूदकर दी जान शाहरूख एक बुरी लत, जिससे आप छुटकारा नहीं पा सकते: आदित्य आईएसएल में विदेशी खिलाड़ियों के बीच भारतीयों ने भी बिखेरी चमक.. डोनाल्ड ट्रम्प विश्व की समस्याओं को सुलझाने में सक्षम : माइक पेंस विजय के शार्ट पिच गेंदों पर आउट होने को तवज्जो नहीं दें: कुंबले परीक्षा में फेल होने से दुखी छात्रा ने की आत्महत्या सलमान और शाहरुख कर सकते है एक साथ काम जल-स्वावलम्बन अभियान केे दूसरे चरण में नगरीय क्षेत्र भी होंगे प्रदेश के सभी पुस्तकालयों का 31 मार्च तक हो जायेगा डिजिटलाईजेशन इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई टेस्ट को लेकर अभी कोई फैसला नहीं किया गया: बीसीसीआई चार बच्चो को बेचने के आरोपी की जमानत खारिज राजस्थान में मार्च तक हर शहरी निकाय होगा कैश लैस जबरन घर में घुसकर महिला से दुष्कर्म का प्रयास, आरोपी गिरफ्तार बिकने से बची चार नाबालिग बच्चियां, दलाल गिरफ्तार आस्ट्रेलिया ने बड़ी जीत से श्रृंखला पर कब्जा किया.. अंतर्राज्यीय डकैती गिरोह: आठ सदस्य गिरफ्तार
ट्रंप की मंशा को लेकर कोई चिंता नहीं: कर्नाटक आईटी मंत्री
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 10:49:42 PM
1 of 1

बेंगलूरू। कर्नाटक के सूचना प्रौद्योगिकी :आईटी: मंत्री प्रियंक खड़गे ने आज कहा कि अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के शासन का भारत की सिलिकन वैली कहे जाने वाले बेंगलूरू पर क्या असर होगा इसको लेकर उन्हें कोई चिंता नहीं है।

उन्होंने कहा कि जो भी कंपनियां यहां काम कर रही हैं वह काफी गहराई से जुड़ चुकीं हैं और यहां से कहीं ओर जाने के बजाय अपने काम का विस्तार करने की सोच रहीं हैं।

प्रियंक खड़गे ने कहा, ‘‘ब्रिटेन जब यूरोपीय संघ से अलग हुआ, मुझे कोई परवाह नहीं हुई, ट्रंप ने चुनाव जीत लिया है और हम अगले चाल साल उनका शासन देखेंगे। उनके शासन का भारत की सिलिकॉन वैली, बेंगलूरू पर क्या असर होगा? मुझे इसकी परवाह नहीं है।’’ खड़गे यहां आईटीई डॉट बिज2016 के कार्यक्रम में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे क्यों चिंता नहीं है क्योंकि हमारी स्थिति काफी मजबूत है। जिन लोगों के भी यहां दफ्तरी काम हैं और सेवायें ले रहे हैं - वह कहीं ओर जाने के बजाय कारोबार के विस्तार के बारे में सोच रहे हैं।’’ खड़गे ने कहा, हालांकि, ट्रंप क्या चाहते हैं इस बारे में कुछ भी कहना काफी मुश्किल है, क्योंकि उन्हें अपनी सोच को लेकर कोई विचार सामने नहीं आया है। लेकिन जहां तक आईटी रोजगार के नुकसासन की बात है, वह एशियाई देशों से कुछ वापस लेने को लेकर गंभीर हैं।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.