loading...
गूगल का वाॅयस-कंट्रोल फीचर कर रहा है आपको रिकाॅर्ड, इस तरह करें डिलीट दिल्ली में 115 करोड़ की संपत्ति का मालिक है लालू परिवार: सुशील मोदी शो 'ये है मोहब्बतें' में होने वाली है इस एक्ट्रेस की एंट्री अब पासपोर्ट के लिए हिंदी में कर सकते है अप्लाई टेस्ट क्रिकेट से संन्यास पर यूनुस खान ने दिया ये बड़ा बयान, कहा... CM योगी ने दिया इन समस्याओ को दूर करने का आदेश सार्वजनिक जगहों पर मिलने वाले फ्री वाई-फाई इस्तेमाल करते हैं तो इन बातों का ध्यान रखें... जिनिता शेठ का जन्मदिन सैलिब्रेट करते नजर आए करण वाही पन्नीरसेल्वम फिर बन सकते है तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बालों को दें डिफ्रैंट स्टाइल ट्रक में भैंस लेकर जा रहे 3 युवकों के साथ मारपीट, FIR दर्ज धोनी के बाद 10 लाख से ज्यादा लोगों की आधार डिटेल्स लीक मोंटे कार्लो फाइनल में रामोस विनोलास से भिड़ेंगे राफेल नडाल जॉन सीना और निकी बेला ने कपड़े उतार कर फैंस को दिया वादा किया पूरा PM मोदी की अध्यक्षता वाली नीति आयोग की बैठक शुरू गूगल ने अपने फोटो स्कैनिंग ऐप में नया अपडेट किया रिलीज राज्यरानी एक्सप्रेस के दो बोगी पटरी से उतरी, कोई हताहत नहीं गर्लगैंग के साथ पार्टी करती नजर आई मौनी राय बाबरी मामले में CBI पर सवाल उठाने पर BJP ने कटियार को किया अलग MCD चुनाव में बीजेपी की 225 से ऊपर सीटें आएंगी: मनोज तिवारी
ट्रंप की मंशा को लेकर कोई चिंता नहीं: कर्नाटक आईटी मंत्री
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 10:49:42 PM
1 of 1

बेंगलूरू। कर्नाटक के सूचना प्रौद्योगिकी :आईटी: मंत्री प्रियंक खड़गे ने आज कहा कि अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के शासन का भारत की सिलिकन वैली कहे जाने वाले बेंगलूरू पर क्या असर होगा इसको लेकर उन्हें कोई चिंता नहीं है।

उन्होंने कहा कि जो भी कंपनियां यहां काम कर रही हैं वह काफी गहराई से जुड़ चुकीं हैं और यहां से कहीं ओर जाने के बजाय अपने काम का विस्तार करने की सोच रहीं हैं।

प्रियंक खड़गे ने कहा, ‘‘ब्रिटेन जब यूरोपीय संघ से अलग हुआ, मुझे कोई परवाह नहीं हुई, ट्रंप ने चुनाव जीत लिया है और हम अगले चाल साल उनका शासन देखेंगे। उनके शासन का भारत की सिलिकॉन वैली, बेंगलूरू पर क्या असर होगा? मुझे इसकी परवाह नहीं है।’’ खड़गे यहां आईटीई डॉट बिज2016 के कार्यक्रम में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे क्यों चिंता नहीं है क्योंकि हमारी स्थिति काफी मजबूत है। जिन लोगों के भी यहां दफ्तरी काम हैं और सेवायें ले रहे हैं - वह कहीं ओर जाने के बजाय कारोबार के विस्तार के बारे में सोच रहे हैं।’’ खड़गे ने कहा, हालांकि, ट्रंप क्या चाहते हैं इस बारे में कुछ भी कहना काफी मुश्किल है, क्योंकि उन्हें अपनी सोच को लेकर कोई विचार सामने नहीं आया है। लेकिन जहां तक आईटी रोजगार के नुकसासन की बात है, वह एशियाई देशों से कुछ वापस लेने को लेकर गंभीर हैं।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.