भारत अकेले शांति के रास्ते पर नहीं चल सकता: पीएम मोदी ऑस्ट्रेलियन ओपन टेनिस टूर्नामेंट के दूसरे दौर में पहुंचे जोकोविच पड़ोस युवक ने पीया मासूम बच्ची का खून, मामला सुनकर उड़ जायेंगे होश एक बार फिर साथ नजर आएंगी ये जोड़ी AAP को छोड़ BJP में शामिल हो सकते है कुमार विश्वास नोटबंदी: गड़बड़ी करने वाले बैंकों के कर्मचारियों पर सरकारी कार्रवाई Sanjeevni Today: Top Stories of 9am जो शक्तिशाली पडोसी देश है उनके बीच मतभेद स्वाभाविक: PM मोदी ISI की साजिश थी, इंदौर-पटना एक्सप्रेस का पटरी से उतरना निक्केई 0.20% कमजोरी के साथ 18,776 ओबामा प्रशासन की ट्रंप पर फर्जी आरोप लगाकर कमजोर करने की कोशिश: पुतिन जो रूट नहीं खेलेंगे इस साल IPL, छोड़ने की बताई ये वजह आतंकवाद से निपटने के लिए भारत की सहायता की जरुरत है :अमेरिका दो साल में घरेलू हवाई यात्रियों की संख्या बढ़ी डेढ़ गुना पढ़ें: इतिहास के पन्नों में 18 जनवरी का दिन क्यों है खास पाकिस्तान विमान हादसा : जांच के लिए पायलटों के शव निकाले जाएंगे कब्र खोदकर! अपराधियों और बागियों के आलावा मुलायम की और से सबको OK 'आर्मी जवानो' को मिलेंगे मॉडर्न-हेलमेट, इसमें क्या होगा खास खुशखबरी : वोडाफोन 250 में देगा 4 जीबी डेटा डीविलियर्स ने क्रिकेट से संन्यास को लेकर दिया ये बड़ा बयान, कहा...
ट्रंप की मंशा को लेकर कोई चिंता नहीं: कर्नाटक आईटी मंत्री
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 10:49:42 PM
1 of 1

बेंगलूरू। कर्नाटक के सूचना प्रौद्योगिकी :आईटी: मंत्री प्रियंक खड़गे ने आज कहा कि अमेरिका के निर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के शासन का भारत की सिलिकन वैली कहे जाने वाले बेंगलूरू पर क्या असर होगा इसको लेकर उन्हें कोई चिंता नहीं है।

उन्होंने कहा कि जो भी कंपनियां यहां काम कर रही हैं वह काफी गहराई से जुड़ चुकीं हैं और यहां से कहीं ओर जाने के बजाय अपने काम का विस्तार करने की सोच रहीं हैं।

प्रियंक खड़गे ने कहा, ‘‘ब्रिटेन जब यूरोपीय संघ से अलग हुआ, मुझे कोई परवाह नहीं हुई, ट्रंप ने चुनाव जीत लिया है और हम अगले चाल साल उनका शासन देखेंगे। उनके शासन का भारत की सिलिकॉन वैली, बेंगलूरू पर क्या असर होगा? मुझे इसकी परवाह नहीं है।’’ खड़गे यहां आईटीई डॉट बिज2016 के कार्यक्रम में बोल रहे थे।

उन्होंने कहा, ‘‘मुझे क्यों चिंता नहीं है क्योंकि हमारी स्थिति काफी मजबूत है। जिन लोगों के भी यहां दफ्तरी काम हैं और सेवायें ले रहे हैं - वह कहीं ओर जाने के बजाय कारोबार के विस्तार के बारे में सोच रहे हैं।’’ खड़गे ने कहा, हालांकि, ट्रंप क्या चाहते हैं इस बारे में कुछ भी कहना काफी मुश्किल है, क्योंकि उन्हें अपनी सोच को लेकर कोई विचार सामने नहीं आया है। लेकिन जहां तक आईटी रोजगार के नुकसासन की बात है, वह एशियाई देशों से कुछ वापस लेने को लेकर गंभीर हैं।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.