संजीवनी टुडे

News

टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज से ज्यादा हुई Infosys की ग्रोथ

Sanjeevni Today 17-10-2016 10:32:02

नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज का फाइनेंशियल परफॉर्मेंस सितंबर क्वॉर्टर में निराशाजनक रहा है और इंफोसिस ने मौजूदा फिस्कल ईयर के लिए अपने रेवेन्यू गाइडेंस में दूसरी बार कमी की है। इसको देखते हुए ऐसे इनवेस्टर्स फिर वेटिंग मोड में आ जाएंगे, जो इन कंपनियों के शेयरों में इनवेस्टमेंट के सही टाइम का इंतजार कर रहे थे। शार्ट टर्म में फॉरेन करेंसी के मुकाबले रुपये में मजबूती आने और बैंकिंग, फाइनेंशियल सर्विसेज और इंश्योरेंस के अलावा रिटेल जैसे बिजनेस वर्टिकल्स में सुस्त ग्रोथ के चलते इन कंपनियों का ग्रोथ मोमेंटम कम हो सकता है, लेकिन लॉन्ग टर्म इनवेस्टर्स सस्ते दाम में इन कंपनियों के शेयरों में पैसा लगाने के बारे में सोच सकते हैं।

JAIPUR:  सबसे सस्ते प्लाट और फार्म हाउस CALL: 09313166166

इन कंपनियों में पर्याप्त क्लाइंट एडिशन हो रहे हैं, ऑपरेटिंग क्षमता बेहतर हो रही है,और एंप्लॉयीज के नौकरी छोड़ने की रफ्तार में स्थिरता आ रही है। लॉन्ग टर्म इनवेस्टर्स को इंफोसिस बेहतर लग सकती है।  पिछले कुछ क्वॉर्टर्स में इसका रेवेन्यू ग्रोथ बेहतर हुई है, और शेयर सस्ते में मिल रहा है।डॉलर में हासिल होने वाले रेवेन्यू के हिसाब से तुलना करने पर पता चलता है कि इंफोसिस ने टीसीएस जैसी बड़े कॉम्पिटटर से बेहतर परफॉर्मेंस देना शुरू कर दिया है। इंफोसिस ने इस सितंबर क्वॉर्टर में लगातार पांचवीं बार सालाना आधार पर टीसीएस से ज्यादा डॉलर रेवेन्यू कमाई है। मार्च 2009 से जून 2015 के बीच हर क्वॉर्टर में इंफोसिस की डॉलर रेवेन्यू ग्रोथ टीसीएस के मुकाबले कम रही थी। सितंबर 2016 वाले क्वॉर्टर में इंफोसिस का रेवेन्यू सालाना आधार पर 8.2 पर्सेंट बढ़कर $258.7 करोड़ हो गया, लेकिन इस दौरान टीसीएस का रेवेन्यू 5.2 पर्सेंट बढ़कर $437.4 करोड़ हो गया। यहां तक कि क्वॉर्टरली बेसिस पर भी इंफोसिस ने टीसीएस के 0.3 पर्सेंट रेवेन्यू ग्रोथ के मुकाबले 3.4 पर्सेंट ग्रोथ दिया।

इंफोसिस ने रेवेन्यू के अलावा नेट प्रॉफिट और ऑपरेटिंग प्रॉफिट मार्जिन के मोर्चे पर भी एनालिस्टों के अनुमान से बेहतर परफॉर्मेंस दी है। शुक्रवार को कंपनी का शेयर गिरावट के साथ बंद हुआ था, जब उसने मौजूदा फिस्कल के लिए फोरकास्ट में भारी कमी की। मौजूदा फिस्कल ईयर में कंपनी की रेवेन्यू ग्रोथ 8-9 पर्सेंट रहने का अनुमान दिया गया है। इसमें करेंसी मूवमेंट को फैक्टर नहीं किया गया है। यह जुलाई में दिए गए 10-12.5 पर्सेंट रेवेन्यू ग्रोथ अनुमान से कम और अप्रैल में दिए गए 11.5-13.5 पर्सेंट के अनुमान से बहुत कम है। रेवेन्यू ग्रोथ में आई सुस्ती के बीच ऑपरेटिंग क्षमता बेहतर बनाने पर कंपनी का फोकस बढ़ा है। फॉरेन करेंसी में उतार-चढ़ाव और एंप्लॉयीज की सैलरी में बढ़ोतरी के बीच तिमाही आधार पर टीसीएस और इंफोसिस, दोनों का ही ऑपरेटिंग मार्जिन बढ़ा है। इससे पता चलता है कि डिमांड में सुधार आने पर दोनों ही कंपनियां दमदार वापसी कर सकती हैं।

यह भी पढ़े : बिस्तर में अपने साथी से कुछ ऐसा चाहती हैं लड़कियां...!!

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े : क्या आप जानते है छोटे स्तन होने के ये 10 फायदे...?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

Watch Video

More From business

Recommended