बंपर भर्तियां, टेलीकॉम सेक्टर इस साल ला सकता है 20 लाख नौकरियां घर लौट रही किशोरी से सामूहिक दुष्कर्म, एक गिरफ्तार, दो फरार मुंबई मनपा चुनाव : सीटों के बंटवारे को लेकर भाजपा-शिवसेना की बैठक रही बेनतीजा बिग बॉस में मोना बनेगी दुल्हनियां एक फरवरी को ही पेश होगा आम बजट ! 105 अप्रचलित एवं अनावश्यक कानून होंगे निरस्त पांच चुनावी राज्यों से 64 करोड़ की नकदी, 8 करोड़ के नशीले पदार्थ जब्त सलमान से नाराज सिंघम, जानिए क्यों तमिलनाडु: जलीकट्टू के समर्थन में प्रदर्शन, हाई कोर्ट ने दखल देने से किया इंकार यूपी में "कल्याण" की रणनीति पर अमल कर रही है भाजपा, ओबीसी मतदाताओं को रिझाने का चलेगी दांव सलमान को 18 साल पुराने दर्द से पांच मिनट में मिली छुट्टी 20 साल का इंतजार खत्म, भारतीय सेना को जल्द मिलेंगे बुलेट प्रूफ हेलमेट खुल्लम खुल्ला: ऋषि कपूर ने किया खुलासा, पैसे देकर खरीदा था बेस्ट एक्टर अवॉर्ड बसपा के खाते में जमा सौ करोड़ पर तीन माह में निर्णय ले निर्वाचन आयोग : उच्च न्यायालय राज्य सरकार सिफारिश करे तो जायरा को मिलेगी सुरक्षा: किरण रिजिजू कुमार विश्वास ने भाजपा में शामिल होने की अटकलों का उड़ाया मजाक मायके में महिला की गला रेत कर हत्या पैंटीन का अंतर्राष्ट्रीय चेहरा बनने वाली भारत की पहली एक्ट्रेस बनी प्रियंका इस युवक से परेशान होकर सपना ने किया था 'सुसाइड' का प्रयास कार खरीदने निकले तीन लोगों से 15 लाख की लूट
प्रसिद्ध वैज्ञानिक जगदीश चंद्र बसु को गूगल ने आज समर्पित किया डूडल
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 02:11:29 PM
1 of 1

नई दिल्ली। आज गूगल ने भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिक जगदीश चंद्र बसु के 158वें जन्मदिन पर डूडल बनाकर उन्हें याद किया। जगदीश चंद्र बसु का जन्म पूर्वी बंगाल में ढाका जिले के फरीदपुर में हुआ था, जो अब बांग्लादेश में है। बसु भौतिकी, जीवविज्ञान, वनस्पति विज्ञान और पुरात्व जैसे विषयों के अच्छे जानकार थे। वह भारत के पहले वैज्ञानिक थे जिन्हें अमेरिकी पेटेंट ट हासिल हुआ था। 

जगदीश चंद्र बसु ने एक सिस्मोग्राफ नाम का यंत्र बनाया था, जिससे पेड़ों की बढ़ोतरी को मापना संभव हो पाया और बसु की इसी उपलब्धि को ध्यान में रखते हुए ही गूगल ने आज उनकी याद में डूडल बनाया। गूगल के इस डूडल में बसु को दिखाया गया और उनकी एक तरफ एक पेड़ है जो एक तार से बंधा है और वह तार एक यंत्र से जुड़ा है।

वह यंत्र बसु की दूसरी ओर रखा हुआ है और उसी यंत्र के उपर की तरफ एक काले रंग का बोर्ड है जिसमें कुछ तरंगे दिख रही हैं, जो पेड़ में हो रही बढ़ोतरी को दर्शा रही हैं। बसु को रेडियो विज्ञान का पिता भी माना जाता था, वह पहले वैज्ञानिक थे, जिन्होंने रेडियो और सूक्ष्म तरंगों की प्रकाशिकी पर कार्य किया था। चांद पर मौजूद एक ज्वालामुखी को बसु नाम दिया गया है और इसी से बसु के महानतम जीवन की महानतम उपलब्धियों का अंदाजा लगाया जा सकता है।

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: दुबई के पास मिला अनोखा फल, जिस पर लिखा हुआ था कुछ ये...
यह भी पढ़े: इस नेल पॉलिश की कीमत हजारों, लाखों में नहीं बल्कि करोड़ों में... जानिए इसकी खास बातें



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.