loading...
Shocking: मिर्गी से बढ़ता हैं मौत का खतरा..! गजब: महिलाओं के मुकाबले पुरुष होते हैं सीखने में आगे..! भारत से होगी अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी संस्थान की शुरुआत दिल्ली: सभी 272 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेंगी जद यु दिल्ली: सभी 272 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेंगी जद यु काला दिवस रहा जाटों के शक्ति प्रदर्शन का दूसरा नमूना व्हाट्सएप्प के प्रयोग ने लौटा दी महिला की जान..! जानिए! नैमिषारण्य में 84 कोसी परिक्रमा का ऐतिहासिक महत्व बिना नंबर बताये रिचार्ज कराने की सुविधा देगा VODAFONE..! शादी का झांसा देकर युवती से यौन शोषण, मुकदमा दर्ज अखिलेश का वादा, चुनाव के बाद रोज पत्रकारों से मिलेंगे कलिंगा लांसर्स ने जीता एचआईएल के पांचवें संस्करण का खिताब रामजस कॉलेज में हुई हिंसा की जांच के लिए पैनल गठित PICS: सनी लियोनी अपने फिगर को लेकर हुई सतर्क.. करना चाहती है ये काम अशोक गहलोत ने कोटा विवाद को लेकर की भाजपा की निंदा, घटना के लिए बताया जिम्मेदार मारुति सुजुकी इंडिया ने रिट्ज की घरेलू व अंतरराष्ट्रीय बाजारों में बिक्री रोकी स्कूल टेम्पो चालक ने नाबालिग छात्रा को बनाया दुष्कर्म का शिकार, मामला दर्ज मोटरस्पोर्ट्स : पहले दिन असगर अली और मुस्तफा को बढ़त सपा का काम नहीं, अखिलेश का झूठ बोलता है: स्मृति ईरानी बॉलीवुड की इस एक्ट्रेस ने शादी की बात पर तोड़ी चुप्पी
प्रसिद्ध वैज्ञानिक जगदीश चंद्र बसु को गूगल ने आज समर्पित किया डूडल
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 02:11:29 PM
1 of 1

नई दिल्ली। आज गूगल ने भारत के प्रसिद्ध वैज्ञानिक जगदीश चंद्र बसु के 158वें जन्मदिन पर डूडल बनाकर उन्हें याद किया। जगदीश चंद्र बसु का जन्म पूर्वी बंगाल में ढाका जिले के फरीदपुर में हुआ था, जो अब बांग्लादेश में है। बसु भौतिकी, जीवविज्ञान, वनस्पति विज्ञान और पुरात्व जैसे विषयों के अच्छे जानकार थे। वह भारत के पहले वैज्ञानिक थे जिन्हें अमेरिकी पेटेंट ट हासिल हुआ था। 

जगदीश चंद्र बसु ने एक सिस्मोग्राफ नाम का यंत्र बनाया था, जिससे पेड़ों की बढ़ोतरी को मापना संभव हो पाया और बसु की इसी उपलब्धि को ध्यान में रखते हुए ही गूगल ने आज उनकी याद में डूडल बनाया। गूगल के इस डूडल में बसु को दिखाया गया और उनकी एक तरफ एक पेड़ है जो एक तार से बंधा है और वह तार एक यंत्र से जुड़ा है।

वह यंत्र बसु की दूसरी ओर रखा हुआ है और उसी यंत्र के उपर की तरफ एक काले रंग का बोर्ड है जिसमें कुछ तरंगे दिख रही हैं, जो पेड़ में हो रही बढ़ोतरी को दर्शा रही हैं। बसु को रेडियो विज्ञान का पिता भी माना जाता था, वह पहले वैज्ञानिक थे, जिन्होंने रेडियो और सूक्ष्म तरंगों की प्रकाशिकी पर कार्य किया था। चांद पर मौजूद एक ज्वालामुखी को बसु नाम दिया गया है और इसी से बसु के महानतम जीवन की महानतम उपलब्धियों का अंदाजा लगाया जा सकता है।

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: दुबई के पास मिला अनोखा फल, जिस पर लिखा हुआ था कुछ ये...
यह भी पढ़े: इस नेल पॉलिश की कीमत हजारों, लाखों में नहीं बल्कि करोड़ों में... जानिए इसकी खास बातें



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.