आशिकी-3 में आलिया-सिद्धार्थ करेंगे रोमांस अमिताभ ने किया बहू ऐश्वर्या की सुसाइड की बात को नजर अंदाज। जमीन विवाद को लेकर मारपीट प्रेमी जोड़े ने ट्रेन के आगे कूदकर दी जान शाहरूख एक बुरी लत, जिससे आप छुटकारा नहीं पा सकते: आदित्य आईएसएल में विदेशी खिलाड़ियों के बीच भारतीयों ने भी बिखेरी चमक.. डोनाल्ड ट्रम्प विश्व की समस्याओं को सुलझाने में सक्षम : माइक पेंस विजय के शार्ट पिच गेंदों पर आउट होने को तवज्जो नहीं दें: कुंबले परीक्षा में फेल होने से दुखी छात्रा ने की आत्महत्या सलमान और शाहरुख कर सकते है एक साथ काम जल-स्वावलम्बन अभियान केे दूसरे चरण में नगरीय क्षेत्र भी होंगे प्रदेश के सभी पुस्तकालयों का 31 मार्च तक हो जायेगा डिजिटलाईजेशन इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई टेस्ट को लेकर अभी कोई फैसला नहीं किया गया: बीसीसीआई चार बच्चो को बेचने के आरोपी की जमानत खारिज राजस्थान में मार्च तक हर शहरी निकाय होगा कैश लैस जबरन घर में घुसकर महिला से दुष्कर्म का प्रयास, आरोपी गिरफ्तार बिकने से बची चार नाबालिग बच्चियां, दलाल गिरफ्तार आस्ट्रेलिया ने बड़ी जीत से श्रृंखला पर कब्जा किया.. अंतर्राज्यीय डकैती गिरोह: आठ सदस्य गिरफ्तार उपहार मामले में अंसल बंधुओं को नोटिस
दक्षिण कोरिया की राजनीति में नाटकीय मोड़, राष्ट्रपति ने लिया इस्तीफा देने का फैसला
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 10:16:03 AM
1 of 1

सियोल। दक्षिण कोरिया की राष्ट्रपति पार्क ग्यून अपने पद से इस्तीफा देने के लिए तैयार हो गई हैं। उन्होंने सारा भार संसद पर सौंप दिया है। संसद से उन्होंने यह तय करने को कहा है कि वह कब और कैसे इस्तीफा देंगी। पार्क की सहेली चोई सुन सिल और उनके दो सहयोगियों पर सरकारी प्रभाव के दुरुपयोग करने का आरोप है। इस मुद्दे पर देश में राजनीतिक संकट पैदा हो गया है। विपक्ष उनसे लगातार इस्तीफे की मांग कर रहा है। 

मंगलवार को राष्ट्रपति पार्क ने कहा कि मैं अपने भविष्य के बारे में सबकुछ संसद पर छोड़ दूंगी। इसमें मेरे कार्यकाल की अवधि कम करना भी शामिल होगा। इस नाटकीय मोड़ से राजनीतिक संकट के समाधान का भार संसद पर आ गया है। अप्रैल में हुए चुनाव में पार्क की कंजरवेटिव पार्टी ने अप्रत्याशित रूप से बहुमत खो दिया था। इस वजह से विपक्ष के साथ गठबंधन बनाना पड़ा था।

मुख्य विपक्षी डैमोक्रेटिक पार्टी ने पार्क की पेशकश ठुकरा दी। पार्टी ने इसे महाभियोग से बचने की एक चाल कहा है। पार्टी संसद में शुक्रवार तक महाभियोग लाना चाहती है। पार्क के इस्तीफा या संविधान कोर्ट द्वारा महाभियोग को बरकरार रखने की स्थिति में 60 दिनों के भीतर 5 साल के लिए राष्ट्रपति नामित करना होगा। इस अवधि में अंतरिम के रूप में प्रधानमंत्री देश का नेतृत्व करेंगे।

यह भी पढ़े: यहां पर हवाई सफर से भी महंगा है बैलगाड़ी का किराया!

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े: ये लड़की बिलकुल सामान्य थी 10 साल तक और अब..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.