loading...
Shocking: मिर्गी से बढ़ता हैं मौत का खतरा..! गजब: महिलाओं के मुकाबले पुरुष होते हैं सीखने में आगे..! भारत से होगी अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी संस्थान की शुरुआत दिल्ली: सभी 272 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेंगी जद यु दिल्ली: सभी 272 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेंगी जद यु काला दिवस रहा जाटों के शक्ति प्रदर्शन का दूसरा नमूना व्हाट्सएप्प के प्रयोग ने लौटा दी महिला की जान..! जानिए! नैमिषारण्य में 84 कोसी परिक्रमा का ऐतिहासिक महत्व बिना नंबर बताये रिचार्ज कराने की सुविधा देगा VODAFONE..! शादी का झांसा देकर युवती से यौन शोषण, मुकदमा दर्ज अखिलेश का वादा, चुनाव के बाद रोज पत्रकारों से मिलेंगे कलिंगा लांसर्स ने जीता एचआईएल के पांचवें संस्करण का खिताब रामजस कॉलेज में हुई हिंसा की जांच के लिए पैनल गठित PICS: सनी लियोनी अपने फिगर को लेकर हुई सतर्क.. करना चाहती है ये काम अशोक गहलोत ने कोटा विवाद को लेकर की भाजपा की निंदा, घटना के लिए बताया जिम्मेदार मारुति सुजुकी इंडिया ने रिट्ज की घरेलू व अंतरराष्ट्रीय बाजारों में बिक्री रोकी स्कूल टेम्पो चालक ने नाबालिग छात्रा को बनाया दुष्कर्म का शिकार, मामला दर्ज मोटरस्पोर्ट्स : पहले दिन असगर अली और मुस्तफा को बढ़त सपा का काम नहीं, अखिलेश का झूठ बोलता है: स्मृति ईरानी बॉलीवुड की इस एक्ट्रेस ने शादी की बात पर तोड़ी चुप्पी
दक्षिण कोरिया की राजनीति में नाटकीय मोड़, राष्ट्रपति ने लिया इस्तीफा देने का फैसला
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 10:16:03 AM
1 of 1

सियोल। दक्षिण कोरिया की राष्ट्रपति पार्क ग्यून अपने पद से इस्तीफा देने के लिए तैयार हो गई हैं। उन्होंने सारा भार संसद पर सौंप दिया है। संसद से उन्होंने यह तय करने को कहा है कि वह कब और कैसे इस्तीफा देंगी। पार्क की सहेली चोई सुन सिल और उनके दो सहयोगियों पर सरकारी प्रभाव के दुरुपयोग करने का आरोप है। इस मुद्दे पर देश में राजनीतिक संकट पैदा हो गया है। विपक्ष उनसे लगातार इस्तीफे की मांग कर रहा है। 

मंगलवार को राष्ट्रपति पार्क ने कहा कि मैं अपने भविष्य के बारे में सबकुछ संसद पर छोड़ दूंगी। इसमें मेरे कार्यकाल की अवधि कम करना भी शामिल होगा। इस नाटकीय मोड़ से राजनीतिक संकट के समाधान का भार संसद पर आ गया है। अप्रैल में हुए चुनाव में पार्क की कंजरवेटिव पार्टी ने अप्रत्याशित रूप से बहुमत खो दिया था। इस वजह से विपक्ष के साथ गठबंधन बनाना पड़ा था।

मुख्य विपक्षी डैमोक्रेटिक पार्टी ने पार्क की पेशकश ठुकरा दी। पार्टी ने इसे महाभियोग से बचने की एक चाल कहा है। पार्टी संसद में शुक्रवार तक महाभियोग लाना चाहती है। पार्क के इस्तीफा या संविधान कोर्ट द्वारा महाभियोग को बरकरार रखने की स्थिति में 60 दिनों के भीतर 5 साल के लिए राष्ट्रपति नामित करना होगा। इस अवधि में अंतरिम के रूप में प्रधानमंत्री देश का नेतृत्व करेंगे।

यह भी पढ़े: यहां पर हवाई सफर से भी महंगा है बैलगाड़ी का किराया!

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े: ये लड़की बिलकुल सामान्य थी 10 साल तक और अब..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.