loading...
जमैका टेस्ट: यूनुस खान ने रचा इतिहास जो किसी पाकिस्तानी के नाम नहीं, द्रविड़ और सचिन के क्लब में हुए शामिल दस साल की मासूम का रेप कर आरोपी फरार,पीड़िता की हालत गंभीर तुअर दाल के बंपर उत्पादन के चलते आयात शुल्क 10 प्रतिशत से बढ़ाकर 25 हो : खाद्य मंत्रालय J&K: आतंकियों ने कि सत्ताधारी पार्टी पीडीपी नेता अब्दुल गनी की गोली मारकर हत्या नवाजुद्दीन ने कराया अपना 'DNA टेस्ट', धर्म के नाम पर राजनीति करने वालों को दिया करारा जवाब IPL-10: 250 रुपए का क्रिकेट सट्टा हार गया तो नाबालिग ने बेरहमी से किया दोस्त का कत्ल पशु तस्करी मामले में केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में पेश की रिपोर्ट, UID नंबर जारी करने कि सिफारिश रेलवे की नई पहल 'उदय एक्सप्रेस', साधारण किराए पर लग्जरी जैसा सफर! क्रिकेट: क्रिकेट इतिहास में पहली बार बना ये शर्मनाक रिकार्ड, चीन की टीम महज 28 रन पर हुई ऑलआउट राज्य सरकार जल्द लागु करेंगी सभी विभागों में फाइल मॉनिटरिंग सिस्टम आज भारत में LG G6 स्मार्टफोन होगा लॉन्च, जानिए खासियत... ये कंपनी दे रही है 80 पैसे में 1 जीबी डाटा, जानिए... MCD चुनाव के एग्जिट पोल को देख घबराए केजरीवाल Video: देखिए, कैसे हुई बाहुबली-2 की शूटिंग और सेट डिज़ाइन? जुलाई से शुरू होगी डबल डेकर AC ट्रेन जयललिता के कोडनडु टी एस्टेट में चौकीदार की हुई हत्या रिपोर्ट: एयरटेल ने 4जी एलटीई OpenSignal के मामले में रिलायंस जियो को पछाड़ ऑटो चालक के बेटे को Free में मिला जस्टिन बीबर के कॉन्सर्ट का गोल्डन टिकट चुनाव आयोग ने केंद्र सरकार को लिखी चिट्ठी, कहा- चुनाव मेें रिश्वत देने वालों को किया जाए अमान्य घोषित Kawasaki ने भारत में Z250 का 2017 का वर्जन किया लॉन्च,जाने कीमत
नेपाल में संविधान संशोधन विधेयक को लेकर दूसरे दिन भी प्रदर्शन..
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 04:03:10 PM
1 of 1

काठमांडो। नेपाल में संविधान संशोधन विधेयक के विरोध में आज लगातार दूसरे दिन भी सरकार-विरोधी प्रदर्शन हुए। इस विधेयक का लक्ष्य आंदोलनरत मधेशियों और अन्य जातीय समूहों की मांगों को पूरा करने के लिए प्रांतीय सीमाओं में परिवर्तन करना है।

नेपाल की राष्ट्रीय समाचार एजेंसी आरएसएस के मुताबिक संसद में पेश किये गये संविधान संशोधन विधेयक के तहत राज्य की सीमाओं में परिवर्तन के विरोध में अर्घाखांची जिले में जिला स्तरीय अनिश्चितकालीन हड़ताल का आह्वान किया गया है।

संबंधित जिलों के लोगों ने विधेयक को ‘‘अव्यवहारिक ’’ बताया है क्योंकि इसमें पर्वतीय क्षेत्र को प्रोविंस नंबर पांच से अलग करके तराई के अंतर्गत रखने का प्रस्ताव है। प्यूथान-रोल्पा संघर्ष समिति के समन्वयक मुक्ति प्रसाद शर्मा ने बताया कि प्रदर्शन तब तक जारी रहेगा, जब तक सरकार विधेयक वापस नहीं ले लेती है।

संविधान संशोधन विधेयक के प्रावधान के तहत अर्घाखांची, पाल्पा, गुल्मी, रोल्पा और प्यूथान को प्रोविंस नंबर पांच से अलग कर प्रोविंस नंबर चार के अंतर्गत रखा जाना है। बुटवाल और प्यूथान में प्रदर्शन शुरू हुआ, जिससे यातायात पूरी तरह बाधित हो गया और दुकान एवं शिक्षण प्रतिष्ठान बंद रहे।

इसी बीच इस मुद्दे को लेकर गुल्मी जिले में अनिश्चितकालीन हड़ताल का आह्वान किया गया है जबकि पाल्पा में भी विरोध प्रदर्शन जारी है।

यह भी पढ़े: जेब में रखे चीनी करेगा मोबाइल चार्ज ये है तरीका

यह भी पढ़े: नोटबंदी से नोटवाली हुई एप्पल, इस तरह हुआ फायदा

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.