'साथ निभाना साथिया' की गोपी बहू ने सेलिब्रेट किया अपना 30 वां जन्मदिन शरियत में दखलअंदाजी कर रहा सुप्रीम कोर्ट: दारुल उलूम BSE की 200 कंपनियों के कारोबार पर लगाई रोक बैडमिंटन: मिश्रित युगल में रंकीरेड्डी-मनीषा की जोड़ी दूसरे दौर में बाहर 14 साल छोटी लड़की के साथ शादी करेंगे 'दिया और बाती हम' के 'सूरज सा' आज बैंक रहें हड़ताल पर, 35 हजार करोड़ का लेनदेन ठप 200 CEO में बोले मोदी - 'न्यू इंडिया' के लिए एक सैनिक बने पुजारा-हरमनप्रीत सहित 17 खिलाड़ियों को करेंगे राष्ट्रपति अर्जुन अवार्ड से सम्मानित चुनावों में होता है ऐसा माहौल जिसके वजह से सामने आते है बागी वाड्रा के बीकानेर जमीन डील मामले की सीबीआई जांच, बोला कांग्रेस पर हमला सोहा ने योगा करते दिखाया अपना बेबी बंप, फैंस ने किया ऐसा कमेंट स्पॉन्सर नाइकी किट से नाखुश टीम इंडिया, BCCI से की शिकायत चीन में सितंबर से दौड़ेगी दुनिया की सबसे तेज बुलेट ट्रेन हिरण शिकार मामले की अगली सुनवाई 30 अगस्त को 'TripleTalaq': इस प्रथा का 35 साल पहले फिल्म के जरिये इस लेखिका ने किया था विरोध लाहौर में वर्ल्ड इलेवन की कमान संभाल सकते है अमला-फाफ डु प्लेसी पीएम मोदी: 9,500 से अधिक सड़क परियोजनाओं का करेंगे शुभारंभ ट्रिपल तलाक: SC के फैसले पर इन बॉलीवुड हस्तियों ने दिया अपना रिएक्शन तीन तलाक पर बोले आजम खां - धार्मिक आस्थाओं से खिलवाड़ न हो यदि प्रेमी से झगड़ा या गुस्सा हो तो कभी भी ना करें ऐसा...!
भारतीय कानून से छूट पाने के लिए सलेम पहुंचा यूरोपीय अदालत
sanjeevnitoday.com | Sunday, June 18, 2017 | 10:38:10 AM
1 of 1

 

मुंबई। 1993 के बम धमाकों के केस में हाल ही में दोषी करार दिए गए अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम को सजा होने का एहसास काफी पहले ही हो गया था। शायद तभी फैसला आने के महीनों पहले 48 वर्षीय सलेम ने यूरोपियन कोर्ट ऑफ ह्यूमन राइट्स (ECHR) में याचिका दाखिल करके अपने पुर्तगाल वापसी की मांग की थी। उसने भारत में अपनी मौजूदगी और ट्रायल, दोनों को ही गैरकानूनी ठहराया है। 

दरअसल, पुर्तगाल के कोर्ट ने सलेम के प्रत्यर्पण की मंजूरी इस शर्त पर दी थी कि उसे मौत की सजा नहीं दी जाएगी। वहीं, बिल्डर प्रदीप जैन के मर्डर के मामले में दोषी ठहराए जाने के एक साल पहले 2014 में लिसबन की अदालत ने 2003 के प्रत्यर्पण के फैसले को खारिज कर दिया। 

पुर्तगाल की कोर्ट में सलेम ने दलील दी थी कि उसके खिलाफ ऐसे मामलों में ट्रायल चल रहा है, जिसमें उसे मौत की सजा हो सकती है। हालांकि, कोर्ट ने यह भी कहा था कि सलेम की पुर्तगाल वापसी पुर्तगाली सरकार की जिम्मेदारी है। अब सलेम पुर्तगाल के खिलाफ ECHR की शरण में पहुंचा है। वह चाहता है कि ECHR पुर्तगाली सरकार से उसकी वापसी सुनिश्चित कराए। 

सलेम ने यह याचिका जनवरी 2017 में ECHR में लगाई है। इसका मकसद अपने खिलाफ भारत में चल रहे ट्रायल को रोकना है। ECHR ने पुर्तगाल की सरकार से इस मामले में उसका पक्ष पूछा, जिसका जवाब मार्च में भेजा गया। वहीं, यूरोपीय अदालत ने सलेम से पूछा है कि क्या उसने दूसरी अदालतों या ट्राइब्यूनलों में कोई अर्जी लगाई थी? 

ECHR को भेजे गए जवाब में फरवरी में सलेम के यूरोपीय वकील ने कई दलीलों का जिक्र किया था, जिसके आधार पर उसके पुर्तगाल वापसी की मांग की गई थी। सलेम के मुंबई के वकील तारिक सैयद ने बताया कि प्रत्यर्पण का आदेश खारिज किए जाने और सलेम के पक्ष में फैसला आने के बावजूद उसे वापस पुर्तगाल ले जाने को लेकर कूटनीतिक कोशिशें नहीं की गई। इसी बात को ECHR में उठाया गया है। 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.