आशिकी-3 में आलिया-सिद्धार्थ करेंगे रोमांस अमिताभ ने किया बहू ऐश्वर्या की सुसाइड की बात को नजर अंदाज। जमीन विवाद को लेकर मारपीट प्रेमी जोड़े ने ट्रेन के आगे कूदकर दी जान शाहरूख एक बुरी लत, जिससे आप छुटकारा नहीं पा सकते: आदित्य आईएसएल में विदेशी खिलाड़ियों के बीच भारतीयों ने भी बिखेरी चमक.. डोनाल्ड ट्रम्प विश्व की समस्याओं को सुलझाने में सक्षम : माइक पेंस विजय के शार्ट पिच गेंदों पर आउट होने को तवज्जो नहीं दें: कुंबले परीक्षा में फेल होने से दुखी छात्रा ने की आत्महत्या सलमान और शाहरुख कर सकते है एक साथ काम जल-स्वावलम्बन अभियान केे दूसरे चरण में नगरीय क्षेत्र भी होंगे प्रदेश के सभी पुस्तकालयों का 31 मार्च तक हो जायेगा डिजिटलाईजेशन इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई टेस्ट को लेकर अभी कोई फैसला नहीं किया गया: बीसीसीआई चार बच्चो को बेचने के आरोपी की जमानत खारिज राजस्थान में मार्च तक हर शहरी निकाय होगा कैश लैस जबरन घर में घुसकर महिला से दुष्कर्म का प्रयास, आरोपी गिरफ्तार बिकने से बची चार नाबालिग बच्चियां, दलाल गिरफ्तार आस्ट्रेलिया ने बड़ी जीत से श्रृंखला पर कब्जा किया.. अंतर्राज्यीय डकैती गिरोह: आठ सदस्य गिरफ्तार उपहार मामले में अंसल बंधुओं को नोटिस
नेपाल की संसद में संविधान संशोधन विधेयक पेश
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 12:37:43 AM
1 of 1

काठमांडो: नए कानून को लेकर साल भर से जारी राजनीतिक संकट को खत्म करने की दिशा में नेपाल सरकार ने आज संसद में संविधान संशोधन विधेयक पेश किया जिसके जरिये आंदोलनरत मधेसी पार्टियों एवं अन्य जातीय समूहों की चिंताएं दूर करने का प्रयास किया गया है। संसद के सूत्रों के मुताबिक, मंत्रिपरिषद द्वारा इसका मसौदा पारित किए जाने के बाद संविधान संशोधन विधेयक को संसद सचिवालय में पंजीकृत किया गया था। मंत्रिमंडल की बैठक आज दोपहर बालूवाटर में प्रधानमंत्री के आधिकारिक आवास पर हुई। प्रांतीय सीमाओं का पुन: निर्धारण और नागरिकता का मुद्दा, इन आंदोलनरत मधेसी पार्टियों की दो प्रमुख मांग है।

Image result for Nepal's Constitution Amendment Bill in Parliament

प्रतिनिधित्व से जुड़े प्रावधानों में संशोधन...
आज संसद में पेश विधेयक में प्रांतीय सीमाओं के पुनर्निर्धारण, विभिन्न भाषाओं को मान्यता देने, नागरिकता और राष्ट्रीय असेंबली में प्रतिनिधित्व से जुड़े प्रावधानों में संशोधन करने का प्रस्ताव किया गया है। संसदीय सचिवालय के एक अधिकारी ने कहा कि यह विधेयक नेपाल के संविधान के अनुच्छेद 296 के मुताबिक लाया गया है जो पंजीकरण के पांच दिन बाद परिपक्व होगा।

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.