loading...
गर्मियों में स्किन को ठंडा रखने में मदद करेंगे ये तेल इस खूबसूरत कपल की तस्वीर को गौर से देखने के बाद निकल जाएगी आपकी चीख बॉलिवुड एक्ट्रेस मनीषा कोईराला ये लुक देखकर चौंक जायेंगे आप शहीद आयुष यादव की मां ने आर्थिक मदद लेने से साफ इंकार किया एक मई से देशभर में बदलेगा बच्चों को गोद लेने का प्रावधान मनोज तिवारी ने गरीब मजदूर के घर खाया खाना ट्रिपल तलाक के मुद्दे का हल निकालने के लिए मुस्लिम समाज खुद आगे आए: PM मोदी जब मालिक के इशारे पर कुत्ते ने एक अधेड़ को नोच-नोच कर मार डाला सीटेट परीक्षा का साल में एक बार ही आयोजन करेगा सीबीएसई राज्‍यसभा सांसद कहकशां परवीन के घर पर बम हमला, बॉडगार्ड सहित चार घायल सरकार ने नक्सलियों को उनके ही मांद में घुसकर मुंहतोड़ जवाब देने का फैसला किया मेरे और कुमार विश्वास बीच दरार दिखाने वाले लोग पार्टी के दुश्मन है: केजरीवाल NDMC ने जारी की टैक्स डिफाल्टरों की सूची, दिल्ली गोल्फ क्लब सहित कई बड़े होटल है शामिल जल्द आने वाली है उबर की उड़ने वाली टैक्सी, किराया भी होगा कम हमलावरों ने पुलिस स्टेशन को बनाया निशाना, 1 की मौत चार जख्मी LIVE IPL KKR VS SRH: बरसात के कारण मैच चालू होने में लगेगा तोडा समय, उथप्पा और पांडेय क्रीज पर मौजूद, सात ओवर में 52 रन कृषि मंत्री ने किया गुजराती लुहार समाज के भवन का लोकार्पण 13 भाषाओं को जानता है ये रोबोट, अब हिंदी और मेवाड़ी सीखने आया है उदयपुर VIDEO: देखिये प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 'मन की बात' की खास बातें! LIVE IPL KKR VS SRH: कोलकाता की शुरुआत बेहद खराब, ओपनर जोड़ी गंभीर-नारायण पेवेलियन लोटे, स्कोर 16/2
नेपाल सरकार ने संसद में पेश किया संविधान संशोधन विधेयक
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 09:11:39 AM
1 of 1

काठमांडू। नेपाल सरकार ने संसद में संविधान संशोधन विधेयक पेश किया है। इसके माध्यम से आंदोलनरत मधेसियों और दूसरे समूहों की मांगों को पूरा करने का प्रयास किया गया है। संविधान संशोधन विधेयक को मंगलवार को संसद सचिवालय में पंजीकृत किया गया। इसके पहले दोपहर बाद प्रधानमंत्री के सरकारी आवास बालूवाटर में कैबिनेट की बैठक में मसौदे को पारित किया गया। इसमें मधेसी पार्टियों की प्रमुख मांगों ऊपरी सदन में प्रतिनिधित्व, प्रांतीय सीमाओं का दोबारा निर्धारण, विभिन्न भाषाओं को मान्यता देने और नागरिकता का मुद्दा प्रस्तावित है।


इन मांगों को लेकर मधेसी पार्टियों के समूह फेडरल अलायंस ने सरकार को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया था। इसके एक दिन बाद कैबिनेट की बैठक हुई। इस अलायंस ने हाशिये पर कर दिए गए लोगों के लिए ज्यादा अधिकार और प्रतिनिधित्व दिए जाने की मांगों को लेकर आंदोलन छेड़ रखा है। इन्हीं मुद्दों को लेकर पिछले साल सितंबर से लेकर इस फरवरी तक बड़े पैमाने पर आंदोलन हुआ था। इसमें 50 लोग मारे गए और देश में भारत से आपूर्ति बाधित हो गई थी। 


प्रस्तावित विधेयक में सरकार ने नवलपरासी, रुपनदेही, कपिलवस्तु, बांके, डांग और बर्दिया को दूसरे तराई प्रांत में शामिल किया है। इसे प्रांत 5 के तौर पर जाना जाएगा। उप प्रधानमंत्री और गृहमंत्री बिमलेंद्र निधि ने बताया कि सरकार ने सीमाओं से जुड़ी चिंताओं को दूर करने के लिए आयोग बनाने का फैसला भी किया है।


विपक्ष ने किया विरोध

मुख्य विपक्षी पार्टी सीपीएन-यूएमएल के उपाध्यक्ष भीम रावन ने कहा कि संविधान संशोधन विधेयक देश के हित में नहीं है। इससे समाज का ध्रुवीकरण और विभिन्न राजनीतिक समूहों में संघर्ष बढ़ेगा।

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.