वजन कम नहीं करते ये सिंगर, तो हो जाती इनकी मौत टाटा मैजिक ने बाइक को मारी टक्कर, बाइकसवार की हालत गंभीर कांग्रेस ने संसद की कार्यवाही बाधित होने के लिए सरकार को जिम्मेदार ठहराया.. जूनियर हॉकी विश्वकप : भारत ने कनाडा को 4-0 से हराया जानिए, ये हैं मोहब्बतें के कलाकार कर रहें हैं डबल सेलिब्रेशन की तैयारी सड़क हादसे में नाबालिग की मौत, स्थानीय लोगों ने सड़क जाम कर किया विरोध उत्तर भारत पर घने कोहरे की चादर,ट्रेनों सहित कई उड़ाने प्रभावित कुंआ धंसकने से एक मजदूर की मौत, एक घायल रईस’ के बाद जल्द छोटे पर्दे पर वापसी करेंगे किंग खान अमेरिका का ‘बड़ा रक्षा साझेदार’ बनेगा भारत भारत के सख्त रुख से घबराया पाक,बासित बोले भारत के साथ नहीं रखना चाहते दुश्मनी नोटबंदी: 30 दिसंबर तक लोगों को राहत नहीं मिलने पर मोदी सरकार का विरोध तेज कर सकती है शिवसेना.. दुष्कर्म में असफल रहने पर बच्चे व पति पर किया हमला, हालत गंभीर चूहा पकड़ अभियान ! चूहों को गिरफ्तार करने के लिए पार्को को किया बंद रेलवे बुकिंगकर्ता रिफंड को लेकर परेशान मैं नोटबंदी से खुश हूं, यह कदम एकदम सही है: शरमन जोशी नरेश हत्याकांड: धौलपुर से बसपा विधायक बीएल कुशवाह को उम्रकैद हत्या के आरोपी को आजीवन कारावास, एक लाख का जुर्माना पुरस्कार पाने या नहीं पाने से संगीत प्रभावित नही होता है: अनुष्का डीजल-पेट्रोल, बीमा पालिसी, रेल टिकट के लिए कार्ड, आनलाइन भुगतान पर मिलेगी छूट..
नेपाल सरकार ने संसद में पेश किया संविधान संशोधन विधेयक
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 09:11:39 AM
1 of 1

काठमांडू। नेपाल सरकार ने संसद में संविधान संशोधन विधेयक पेश किया है। इसके माध्यम से आंदोलनरत मधेसियों और दूसरे समूहों की मांगों को पूरा करने का प्रयास किया गया है। संविधान संशोधन विधेयक को मंगलवार को संसद सचिवालय में पंजीकृत किया गया। इसके पहले दोपहर बाद प्रधानमंत्री के सरकारी आवास बालूवाटर में कैबिनेट की बैठक में मसौदे को पारित किया गया। इसमें मधेसी पार्टियों की प्रमुख मांगों ऊपरी सदन में प्रतिनिधित्व, प्रांतीय सीमाओं का दोबारा निर्धारण, विभिन्न भाषाओं को मान्यता देने और नागरिकता का मुद्दा प्रस्तावित है।


इन मांगों को लेकर मधेसी पार्टियों के समूह फेडरल अलायंस ने सरकार को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया था। इसके एक दिन बाद कैबिनेट की बैठक हुई। इस अलायंस ने हाशिये पर कर दिए गए लोगों के लिए ज्यादा अधिकार और प्रतिनिधित्व दिए जाने की मांगों को लेकर आंदोलन छेड़ रखा है। इन्हीं मुद्दों को लेकर पिछले साल सितंबर से लेकर इस फरवरी तक बड़े पैमाने पर आंदोलन हुआ था। इसमें 50 लोग मारे गए और देश में भारत से आपूर्ति बाधित हो गई थी। 


प्रस्तावित विधेयक में सरकार ने नवलपरासी, रुपनदेही, कपिलवस्तु, बांके, डांग और बर्दिया को दूसरे तराई प्रांत में शामिल किया है। इसे प्रांत 5 के तौर पर जाना जाएगा। उप प्रधानमंत्री और गृहमंत्री बिमलेंद्र निधि ने बताया कि सरकार ने सीमाओं से जुड़ी चिंताओं को दूर करने के लिए आयोग बनाने का फैसला भी किया है।


विपक्ष ने किया विरोध

मुख्य विपक्षी पार्टी सीपीएन-यूएमएल के उपाध्यक्ष भीम रावन ने कहा कि संविधान संशोधन विधेयक देश के हित में नहीं है। इससे समाज का ध्रुवीकरण और विभिन्न राजनीतिक समूहों में संघर्ष बढ़ेगा।

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.