‘गोलमाल अगेन’ को लेकर लोगों ने दिया ये Compliment, अजय ने दिए कुछ ऐसे मजेदार जवाब वीरेंद्र सहवाग के ‘दर्जी’ बुलाने पर रॉस टेलर ने दिया कुछ ऐसा जवाब... छेड़खानी के डर से लोकल ट्रेन से कूद गई छात्रा 'मर्सल' के GST वाले सीन से राजनीतिक में मची हलचल, रजनीकांत ने की तारीफ श्रीलंका के खिलाफ 3 टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारतीय का ऐलान प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केंन्द्र योजना का लाभ उठाकर आप कमा सकते है 30 से 35 हजार मैं फक्कड़ हूं लेकिन दुनिया के खातिर अपनी लाइफस्टाइल नहीं छोड़ सकती: राधे मां बेकाबू होकर ब्रिज से नीचे गिरी बाइक, छात्र की हुई मौत फिल्म प्रमोशन के दौरान राजकुमार राव की टूटी टांग, पहुंचे अस्पताल जन्मदिन पर प्रभास ने फैंस को दिया ये खास तोहफा युवक के मुंह में तमंचा ठूंसकर मार दी गई गोली राजधानी एक्सप्रेस का टिकट कन्फर्म नहीं हुआ तो रेलवे देगा फ्लाइट का टिकट! भारतीय डॉक्टर एेसे कर रहा ISIS की हेल्प, खोज में जुटीं जांच एजेंसियां बिलकिस बानो गैंगरेप मामला: सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार से 4 हफ्तों में मांगी विस्तार रिपोर्ट देवी षष्ठी माता और भगवान सूर्य को प्रसन्न करने के लिए की जाती है छठ पूजा मोहसिन रजा ने शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड को मिलाने के लिए मांगी विधिक राय राजस्थान सरकार के विवादित बिल पर हंगामा, कांग्रेस ने मुंह पर काली पट्टी बांध किया विरोध प्रदर्शन ...तो इसलिए न्यूजीलैंड से पराजित हुई टीम इंडिया क्या सचमुच युद्ध की कोई साजिश रच रहा था चीन? अब 50,000 से ज्यादा कैश ट्रांजेक्शन पर आवश्यक है ओरिजिनल ID
नेपाल सरकार ने संसद में पेश किया संविधान संशोधन विधेयक
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 09:11:39 AM
1 of 1

काठमांडू। नेपाल सरकार ने संसद में संविधान संशोधन विधेयक पेश किया है। इसके माध्यम से आंदोलनरत मधेसियों और दूसरे समूहों की मांगों को पूरा करने का प्रयास किया गया है। संविधान संशोधन विधेयक को मंगलवार को संसद सचिवालय में पंजीकृत किया गया। इसके पहले दोपहर बाद प्रधानमंत्री के सरकारी आवास बालूवाटर में कैबिनेट की बैठक में मसौदे को पारित किया गया। इसमें मधेसी पार्टियों की प्रमुख मांगों ऊपरी सदन में प्रतिनिधित्व, प्रांतीय सीमाओं का दोबारा निर्धारण, विभिन्न भाषाओं को मान्यता देने और नागरिकता का मुद्दा प्रस्तावित है।


इन मांगों को लेकर मधेसी पार्टियों के समूह फेडरल अलायंस ने सरकार को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया था। इसके एक दिन बाद कैबिनेट की बैठक हुई। इस अलायंस ने हाशिये पर कर दिए गए लोगों के लिए ज्यादा अधिकार और प्रतिनिधित्व दिए जाने की मांगों को लेकर आंदोलन छेड़ रखा है। इन्हीं मुद्दों को लेकर पिछले साल सितंबर से लेकर इस फरवरी तक बड़े पैमाने पर आंदोलन हुआ था। इसमें 50 लोग मारे गए और देश में भारत से आपूर्ति बाधित हो गई थी। 


प्रस्तावित विधेयक में सरकार ने नवलपरासी, रुपनदेही, कपिलवस्तु, बांके, डांग और बर्दिया को दूसरे तराई प्रांत में शामिल किया है। इसे प्रांत 5 के तौर पर जाना जाएगा। उप प्रधानमंत्री और गृहमंत्री बिमलेंद्र निधि ने बताया कि सरकार ने सीमाओं से जुड़ी चिंताओं को दूर करने के लिए आयोग बनाने का फैसला भी किया है।


विपक्ष ने किया विरोध

मुख्य विपक्षी पार्टी सीपीएन-यूएमएल के उपाध्यक्ष भीम रावन ने कहा कि संविधान संशोधन विधेयक देश के हित में नहीं है। इससे समाज का ध्रुवीकरण और विभिन्न राजनीतिक समूहों में संघर्ष बढ़ेगा।

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.