loading...
loading...
loading...
दुनिया भर में कई कंपनियों पर साइबर हमला, सबसे बुरा असर यूक्रेन पर खड़े ट्रक में अनियंत्रित होकर घुसी कार, 5 लोग घायल सिक्किम से सेना हटाओ, नहीं तो कैलाश मानसरोवर यात्रा शुरू नहीं होगी: चीन Video: 'जग्गा जासूस' की शूटिंग के दौरान रणबीर को हिम्मत देती नजर आई कैटरीना तस्करी के मामले में आरोपी को10 साल की कैद, 1 लाख 5 हजार का जुर्माना महागठबंधन और राष्ट्रपति चुनावों को लेकर नेताओ ने पार्टी प्रवक्ताओं को दी फालतू बयान ना देने की सलाह मानसरोवर यात्रा के लिए चीन ने रखी भारत के सामने शर्त, कहा- पहले सिक्किम से हटे भारतीय सैनिक चोरो ने की 7 घरों से 7 लाख की चोरी फाइनेंसियल ईयर में निफ्टी पहुंच सकता है10,300 से 10,400 के स्तर पर: HDFC सिक्युरिटीज आज अंतिम दिन राष्ट्रपति पद की उम्मीदवार मीरा कुमार दाखिल करेगी नामांकन 100 दिन पूरे: विपक्ष का योगी सरकार पर हमला, कहा- सब अखिलेश का किया धरा है नया कुछ नहीं है युवती की संदिग्ध हालात में हुई मृत्यु वित्त मंत्री ने की बिटकॉइन पर अंतर- मंत्रालय बैठक इस 'इंटरकोर्स' शब्दों को लेकर विवादों में फंसी 'जब हैरी मेट सेजल' नशे पर रोकथाम: 'ब्रेथ एनालाइजर' के जरीय हो रही है स्कूल बसों के ड्राइवर खल्लासियों की जांच दुष्कर्म मामले पर हुई मारपीट, 5 युवक घायल सलाहुद्दीन को इंटरनेशनल टेररिस्ट घोषित किया जाना अनुचित: पाक मोदी- ट्रंप मुलाकात से बौखलाया चीन, कहा- अमेरिका से मिलकर चीन के मुकाबले खड़े होने की भारत की कोशिश विफल राजस्थान में मानसून का प्रवेश, पंजाब हरियाणा में अगले 3 दिनों में मानसून पहुंचने के आसार: मौसम विभाग बारिश शुरू हुई तो बेटे लक्ष्य को स्कूल से लाने छतरी लेकर पहुंचे तुषार कपूर, देखें तस्वीरें
नेपाल सरकार ने संसद में पेश किया संविधान संशोधन विधेयक
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 09:11:39 AM
1 of 1

काठमांडू। नेपाल सरकार ने संसद में संविधान संशोधन विधेयक पेश किया है। इसके माध्यम से आंदोलनरत मधेसियों और दूसरे समूहों की मांगों को पूरा करने का प्रयास किया गया है। संविधान संशोधन विधेयक को मंगलवार को संसद सचिवालय में पंजीकृत किया गया। इसके पहले दोपहर बाद प्रधानमंत्री के सरकारी आवास बालूवाटर में कैबिनेट की बैठक में मसौदे को पारित किया गया। इसमें मधेसी पार्टियों की प्रमुख मांगों ऊपरी सदन में प्रतिनिधित्व, प्रांतीय सीमाओं का दोबारा निर्धारण, विभिन्न भाषाओं को मान्यता देने और नागरिकता का मुद्दा प्रस्तावित है।


इन मांगों को लेकर मधेसी पार्टियों के समूह फेडरल अलायंस ने सरकार को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया था। इसके एक दिन बाद कैबिनेट की बैठक हुई। इस अलायंस ने हाशिये पर कर दिए गए लोगों के लिए ज्यादा अधिकार और प्रतिनिधित्व दिए जाने की मांगों को लेकर आंदोलन छेड़ रखा है। इन्हीं मुद्दों को लेकर पिछले साल सितंबर से लेकर इस फरवरी तक बड़े पैमाने पर आंदोलन हुआ था। इसमें 50 लोग मारे गए और देश में भारत से आपूर्ति बाधित हो गई थी। 


प्रस्तावित विधेयक में सरकार ने नवलपरासी, रुपनदेही, कपिलवस्तु, बांके, डांग और बर्दिया को दूसरे तराई प्रांत में शामिल किया है। इसे प्रांत 5 के तौर पर जाना जाएगा। उप प्रधानमंत्री और गृहमंत्री बिमलेंद्र निधि ने बताया कि सरकार ने सीमाओं से जुड़ी चिंताओं को दूर करने के लिए आयोग बनाने का फैसला भी किया है।


विपक्ष ने किया विरोध

मुख्य विपक्षी पार्टी सीपीएन-यूएमएल के उपाध्यक्ष भीम रावन ने कहा कि संविधान संशोधन विधेयक देश के हित में नहीं है। इससे समाज का ध्रुवीकरण और विभिन्न राजनीतिक समूहों में संघर्ष बढ़ेगा।

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.