भविष्यवाणी- वन-डे सीरीज को टीम इंडिया 4-1 के अंतर से जीतेगी 2022 तक नक्सलवाद और आतंकवाद ख़त्म हो जाएंगे: राजनाथ सिंह अब आपके स्मार्टफोन से खुलेगा सूटकेस का ताला 2022 तक खत्म होगा आतंकवाद और नक्सलवाद: राजनाथ सिंह कुक के दोहरे शतक से इंग्लैंड मजबूत, सचिन के रिकॉर्ड पर मड़राया खतरा सोहा के घर हुआ बेबी शावर का सेलिब्रेशन, भतीजे तैमूर पर टिकी सबकी नज़रें कालाधन नहीं ईमानदारी का पैसा चाहिए: अमित शाह Night Shift में काम करना आपके स्वास्थ्य के लिए हो सकता है हानिकारक मासूम बच्ची का वीडियो देखकर विराट-शिखर ने दिया इमोशनल संदेश वेस्ट बंगाल ज्यूडिशियल डिपार्टमेंट ने नॉन ऑफिशियल मैरिज ऑफिसर पदों के लिए भर्ती गोरखपुर में पीड़ित परिवारों से मिले राहुल, CM योगी बोले - पिकनिक स्‍पॉट न बनाएं अक्षय की पत्नी ट्विंकल ने की 'टॉयलेट...पार्ट 2' की शूटिंग शुरू, देखें PHOTO युवाओं की आकांक्षा भारत का भविष्य तय करेगी: डॉ जितेंद्र सिंह यहां पर नजर आया श्रीलंका में पाया जाने वाला उड़ने वाला सांप गोरखपुर के पीड़ित परिवारों से मिले राहुल गाँधी इस शख्स की कमाई इतनी कि चाह कर भी नहीं कर पाता खर्च! मोस्ट वांटेड क्रिमिनल गदऊ पासी पर बढ़ी इनाम की धनराशि Asus Rog Strix लैपटॉप आकर्षित लुक व बेहतरीन फीचर के साथ फ़िल्मी दुनिया से दूर हैं 'मोहब्बतें गर्ल', परिवार के साथ कर रहीं लाइफ एन्जॉय पाक ने आतंकी बुरहान को बताया नेशनल हीरो, 'आजादी ट्रेन' में लगाए पोस्टर
नेपाल सरकार ने संसद में पेश किया संविधान संशोधन विधेयक
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 09:11:39 AM
1 of 1

काठमांडू। नेपाल सरकार ने संसद में संविधान संशोधन विधेयक पेश किया है। इसके माध्यम से आंदोलनरत मधेसियों और दूसरे समूहों की मांगों को पूरा करने का प्रयास किया गया है। संविधान संशोधन विधेयक को मंगलवार को संसद सचिवालय में पंजीकृत किया गया। इसके पहले दोपहर बाद प्रधानमंत्री के सरकारी आवास बालूवाटर में कैबिनेट की बैठक में मसौदे को पारित किया गया। इसमें मधेसी पार्टियों की प्रमुख मांगों ऊपरी सदन में प्रतिनिधित्व, प्रांतीय सीमाओं का दोबारा निर्धारण, विभिन्न भाषाओं को मान्यता देने और नागरिकता का मुद्दा प्रस्तावित है।


इन मांगों को लेकर मधेसी पार्टियों के समूह फेडरल अलायंस ने सरकार को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया था। इसके एक दिन बाद कैबिनेट की बैठक हुई। इस अलायंस ने हाशिये पर कर दिए गए लोगों के लिए ज्यादा अधिकार और प्रतिनिधित्व दिए जाने की मांगों को लेकर आंदोलन छेड़ रखा है। इन्हीं मुद्दों को लेकर पिछले साल सितंबर से लेकर इस फरवरी तक बड़े पैमाने पर आंदोलन हुआ था। इसमें 50 लोग मारे गए और देश में भारत से आपूर्ति बाधित हो गई थी। 


प्रस्तावित विधेयक में सरकार ने नवलपरासी, रुपनदेही, कपिलवस्तु, बांके, डांग और बर्दिया को दूसरे तराई प्रांत में शामिल किया है। इसे प्रांत 5 के तौर पर जाना जाएगा। उप प्रधानमंत्री और गृहमंत्री बिमलेंद्र निधि ने बताया कि सरकार ने सीमाओं से जुड़ी चिंताओं को दूर करने के लिए आयोग बनाने का फैसला भी किया है।


विपक्ष ने किया विरोध

मुख्य विपक्षी पार्टी सीपीएन-यूएमएल के उपाध्यक्ष भीम रावन ने कहा कि संविधान संशोधन विधेयक देश के हित में नहीं है। इससे समाज का ध्रुवीकरण और विभिन्न राजनीतिक समूहों में संघर्ष बढ़ेगा।

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.