loading...
VIDEO: 'फिल्लौरी' के इस सीन को हटाया सेंसर बोर्ड ने! अनुष्का की तारीफ करते हुए शाहरुख़ ने कहा- असंभव पर भरोसा बनाये रखो लीबिया के पास, भूमध्य सागर में नाव डूबी, 250 अफ्रीकन माइग्रेंट्स के मारे जाने का शक पति के साथ CM योगी आदित्यनाथ से मिलने पहुंचीं अपर्णा यादव धोनी ने संन्यास को लेकर दिया ये बड़ा बयान, कहा... डॉलर के मुकाबले रुपए में हुई 4 बढ़ोतरी DGP जावीद अहमद ने जारी किया फरमान, आइजी करें थानों का औचक निरीक्षण Airtel करेगी तिकोना नेटवर्क्स के 4G बिजनेस का अधिग्रहण मोदी दिखे अलग अंदाज़ में जिन्हें देखकर यूपी के BJP सांसद भी हुए हैरान यूपी बोर्ड परीक्षा: विज्ञान के इम्तिहान में 58 हजार ने छोड़ी परीक्षा पुणे की टीम में मिशेल मार्श की जगह टीम में शामिल हुआ ये खिलाड़ी क्रेडिट कार्ड सेवा को बंद करने के लिए काटा 5 पैसे का चेक 'बेवॉच' का दूसरा ट्रेलर हुआ लॉन्च एंटी रोमियो स्क्वॉयड के बाद भी लेडी IPS अफसर के मुंह पर छोड़ा सिगरेट का धुआं, फिर... विधानसभाउपाध्यक्ष ने संसदीय प्रक्रियाओं के उल्लंघन करने पर जबरदस्त नाराजगी की जाहिर स्वास्थ्य सेवा में ‘बेहतरीन’ काम कर रही हैं भारतीय-अमेरिकी सीमा वर्मा : ट्रंप अवैध नॉन बैंकिंग कंपनियों पर होगी कार्रवाई ट्रिप एडवायर्स की सूची में जयपुर ने को मिला स्थान कपिल के खिलाफ दायर FIR पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाया UP: 100 से साल ज्यादा पुराना ‘टुंडे कबाबी’ रेस्त्रा पर मंडराया बंद होने का खतरा
नेपाल सरकार ने संसद में पेश किया संविधान संशोधन विधेयक
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 09:11:39 AM
1 of 1

काठमांडू। नेपाल सरकार ने संसद में संविधान संशोधन विधेयक पेश किया है। इसके माध्यम से आंदोलनरत मधेसियों और दूसरे समूहों की मांगों को पूरा करने का प्रयास किया गया है। संविधान संशोधन विधेयक को मंगलवार को संसद सचिवालय में पंजीकृत किया गया। इसके पहले दोपहर बाद प्रधानमंत्री के सरकारी आवास बालूवाटर में कैबिनेट की बैठक में मसौदे को पारित किया गया। इसमें मधेसी पार्टियों की प्रमुख मांगों ऊपरी सदन में प्रतिनिधित्व, प्रांतीय सीमाओं का दोबारा निर्धारण, विभिन्न भाषाओं को मान्यता देने और नागरिकता का मुद्दा प्रस्तावित है।


इन मांगों को लेकर मधेसी पार्टियों के समूह फेडरल अलायंस ने सरकार को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया था। इसके एक दिन बाद कैबिनेट की बैठक हुई। इस अलायंस ने हाशिये पर कर दिए गए लोगों के लिए ज्यादा अधिकार और प्रतिनिधित्व दिए जाने की मांगों को लेकर आंदोलन छेड़ रखा है। इन्हीं मुद्दों को लेकर पिछले साल सितंबर से लेकर इस फरवरी तक बड़े पैमाने पर आंदोलन हुआ था। इसमें 50 लोग मारे गए और देश में भारत से आपूर्ति बाधित हो गई थी। 


प्रस्तावित विधेयक में सरकार ने नवलपरासी, रुपनदेही, कपिलवस्तु, बांके, डांग और बर्दिया को दूसरे तराई प्रांत में शामिल किया है। इसे प्रांत 5 के तौर पर जाना जाएगा। उप प्रधानमंत्री और गृहमंत्री बिमलेंद्र निधि ने बताया कि सरकार ने सीमाओं से जुड़ी चिंताओं को दूर करने के लिए आयोग बनाने का फैसला भी किया है।


विपक्ष ने किया विरोध

मुख्य विपक्षी पार्टी सीपीएन-यूएमएल के उपाध्यक्ष भीम रावन ने कहा कि संविधान संशोधन विधेयक देश के हित में नहीं है। इससे समाज का ध्रुवीकरण और विभिन्न राजनीतिक समूहों में संघर्ष बढ़ेगा।

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.