AC में रहने की आदत आपकी सेहत के लिए नुकसानदायक पनीर खाने का सही समय और फायदे घंटो तक गेम खेलना स्वास्थ्य के लिए खतरनाक कपूर के तेल से दूर करे डैंड्रफ की समस्या आपकी बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करेगा ये फेस पैक महिला सशक्तिकरण की प्रतीक हैं मिताली राज : शिवराज सिंह विश्व बैंक की टीम के सदस्यो ने की शिक्षा मंत्री देवनानी से मुलाकात 78 हजार निजी विद्यालयों के अप्रशिक्षित शिक्षकों को भी करनी होगी टीचर ट्रेनिंग प्रो कबड्डी लीग 2017: तमिल थलाइवाज और हरियाणा स्टीलर्स का मुकाबला 25-25 से रहा ड्रा बांग्लादेश में जाने ले रहा है बाढ़, 30 की मौत लाल किला पर रही राजस्थानियो की धूम, जयहिंद के साथ जय जय राजस्थान की रही गूंज... BCCI के शीर्ष अधिकारियों को हटाने की सीओए ने SC से की मांग हिजबुल मुजाहिदीन को अमेरिका ने विदेशी आतंकवादी संगठन किया घोषित INDvsSL: वनडे सीरीज में रोहित शर्मा बने उपकप्तान, कहा- मौके का उठाऊंगा फायदा जयपुर की कई कॉलोनियों में शुक्रवार को नहीं होगी बीसलपुर पानी की सप्लाई तिरंगे के सम्मान में नक्सली भी पीछे नहीं, दी सलामी टीम इण्डिया के ‘गब्बर’ श्रीलंका की सड़को पर ऑटो चलाकर उठा रहे है लुफ्त इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय का स्वच्छता पखवाड़ा सम्पन्न जम्मू-कश्मीर में 12 जगहों पर मारा छापा, सात लोगों को किया गिरफ्तार शारापोवा को मिली वाइल्ड कार्ड इंट्री, यूएस ओपन में खेलेगी पहला ग्रैंड स्लेम
पाकिस्तान की 'मदर टेरेसा' ने करांची के निजी अस्पताल में तोडा दम
sanjeevnitoday.com | Friday, August 11, 2017 | 07:48:40 PM
1 of 1

इस्लामाबाद। गुरुवार को करांची के एक निजी अस्पताल में पाकिस्तान की 'मदर टेरेसा' डॉ. रुथ फाउ का निधन हो गया। उन्होंने पाकिस्तान में कुष्ठ रोग को खत्म करने के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया था।


87 बर्षीय डॉ. रुथ फाउ का लंबी बीमारी के चलते करांची के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। डॉ. रुथ फाउ ने पहली बार 1960 में पाकिस्तान का दौरा किया था और कुष्ठ रोगियों का दर्द उनके दिल को इस कदर छू गया कि उन्होंने कुष्ठ रोगियों के इलाज के लिए पाकिस्ताम ने रहने का फैसला कर लिया।

यह भी पढ़े: जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए करे टमाटर का इस्तेमाल

डॉ. फाऊ का जन्म लिपज़िक में 1929 को हुआ था। दूसरे विश्व युद्ध में उनका घर बमबारी में तबाह हो गया था। उन्होंने मेडिसीन की पढ़ाई की और बाद में उन्हें दक्षिण भारत जाने का आदेश दिया गया। लेकिन वीज़ा की दिक्कतों के चलते उन्हें कराची में रुकना पड़ा और वहीं उन्होंने पहली बार कुष्ठ रोग के बारे में पता चला। पाकिस्तान में लोगों का सेवा करने वाली डॉ रुथ फाउ को 1979 में पाकिस्तान का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान हिलाल-ए-इम्तियाज और 1989 में हिलाल-ए-पाकिस्तान से नवाजा गया।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी ने डॉ. फॉ की तारीफ करते हुए कहा कि वह भले ही जर्मनी में पैदा हुई थीं, लेकिन उनका दिल हमेशा पाकिस्तान में रहा। साथ ही यह भी कहा कि वह यहां कुष्ठ रोग से पीड़ित लोगों का जीवन बेहतर बनाने आई थीं। ऐसा करते हुए वह यहीं की होकर रह गईं।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.