रिलायंस जियो का 399 का रिचार्ज हुआ महंगा, देने होंगे अब इतने ऐतिहासिक दिन: पूरी दुनिया में द्विशताब्दी जन्मदिवस समारोह मनाया जा रहा VIDEO : हर्षिता दहिया मर्डर केस में जीजा ने कबूला अपना गुना कहा- मान ही नहीं रही थी वर्ल्डस्टील एसोसएिशन के कोषाध्यक्ष बने सज्जन जिंदल सैनिक स्कूल में टीचर एवं वार्ड बॉय पदों के लिए निकली भर्ती, इस तरह करे आवेदन 21 और 22 अक्टूबर 2017 को मनाई जाएगी युगावतार बहाउल्लाह के जन्म की 200वी वर्षगांठ भैया दूज विशेष : क्यों मनाया जाता है ये त्यौहार, पढ़िए इससे जुडी कथा? राजस्थान पुलिस ने कांस्टेबल पदों के लिए माँगा आवेदन, इस तरह करे आवेदन कांग्रेस ने पूर्व क्रिकेटर अजहरुद्दीन को तेलंगाना से चुनाव लड़ने के लिए किया आमंत्रित लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर आज से यातायात बंद, एक्सप्रेस-वे पर 24 को वायुसेना के 20 विमान करेंगे अभ्यास ...तो इस कारण से नहीं दिखाई दे रहा है 200 रुपए का नोट VIDEO : प्रधानमंत्री ने केदारनाथ का किया दौरा, कई परियोजनाओं की रखी आधारशिला जन्मदिन मुबारक हो पाजी, 39 बरस के हुए सहवाग मोदी ने केदारनाथ मंदिर में की पूजा-अर्चना, देखे वीडियो वीडियो : हर्षिता दहिया की मर्डर मिस्ट्री सुलझी, जीजा ने करवायी साली की हत्या सरपंच के घर बिना दस्तक दिए घुसा बुजुर्ग, मिली ऐसी सजा... बिहार: कारोबारी की हत्या के विरोध में मचा बवाल, पुलिस फायरिंग में 1 की मौत आगरा एक्सप्रेस-वे पर पहली बार उड़ान भरेंगे परिवहन विमान AN-32 हिमाचल: चंबा में रावी नदी पर बना पुल क्षतिग्रस्त, 6 लोग हुए घायल आज है गोवर्धन पूजा, जानिए पूजन विधि और महत्व
पाकिस्तान की 'मदर टेरेसा' ने करांची के निजी अस्पताल में तोडा दम
sanjeevnitoday.com | Friday, August 11, 2017 | 07:48:40 PM
1 of 1

इस्लामाबाद। गुरुवार को करांची के एक निजी अस्पताल में पाकिस्तान की 'मदर टेरेसा' डॉ. रुथ फाउ का निधन हो गया। उन्होंने पाकिस्तान में कुष्ठ रोग को खत्म करने के लिए अपना पूरा जीवन समर्पित कर दिया था।


87 बर्षीय डॉ. रुथ फाउ का लंबी बीमारी के चलते करांची के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया। डॉ. रुथ फाउ ने पहली बार 1960 में पाकिस्तान का दौरा किया था और कुष्ठ रोगियों का दर्द उनके दिल को इस कदर छू गया कि उन्होंने कुष्ठ रोगियों के इलाज के लिए पाकिस्ताम ने रहने का फैसला कर लिया।

यह भी पढ़े: जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए करे टमाटर का इस्तेमाल

डॉ. फाऊ का जन्म लिपज़िक में 1929 को हुआ था। दूसरे विश्व युद्ध में उनका घर बमबारी में तबाह हो गया था। उन्होंने मेडिसीन की पढ़ाई की और बाद में उन्हें दक्षिण भारत जाने का आदेश दिया गया। लेकिन वीज़ा की दिक्कतों के चलते उन्हें कराची में रुकना पड़ा और वहीं उन्होंने पहली बार कुष्ठ रोग के बारे में पता चला। पाकिस्तान में लोगों का सेवा करने वाली डॉ रुथ फाउ को 1979 में पाकिस्तान का दूसरा सर्वोच्च नागरिक सम्मान हिलाल-ए-इम्तियाज और 1989 में हिलाल-ए-पाकिस्तान से नवाजा गया।

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी ने डॉ. फॉ की तारीफ करते हुए कहा कि वह भले ही जर्मनी में पैदा हुई थीं, लेकिन उनका दिल हमेशा पाकिस्तान में रहा। साथ ही यह भी कहा कि वह यहां कुष्ठ रोग से पीड़ित लोगों का जीवन बेहतर बनाने आई थीं। ऐसा करते हुए वह यहीं की होकर रह गईं।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.