सेंसर बोर्ड ने 'पद्मावती' को लौटाया वापस, टल सकती है रिलीज डेट देश और दुनिया के इतिहास में 18 नवंबर की महत्वपूर्ण घटनाएं टाटा संस ने अपने दो अधिकारियों को बोर्ड में नियुक्त किया चेहरे पर निखार लाने के लिए करें ये घरेलू ट्रीटमेंट्स भयानक सड़क हादसे में सात लोगो की मौत युवा विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप के लिए भारतीय टीम घोषित पद्मावती के विरोध में सर्वसमाज और करणी सेना ने किया विरोध प्रदर्शन एनजीटी ने दिल्ली-एनसीआर में निर्माण गतिविधियों पर प्रतिबंध हटाया, ट्रकों को प्रवेश की अनुमति वैश्विक स्तर पर शांति एवं स्थिरता स्थापित करने वाली ताकत है भारत-फ्रांस सामरिक गठजोड़: पीएम मोदी गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा के 70 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी एक सप्ताह पहले लश्कर-ए-तैयबा में शामिल हुए फुटबॉलर ने किया आत्मसमर्पण MRP स्टीकर लगाने समय अवधि में की बढ़ोतरी राफेल युद्धक विमान सौदे से नाराज कांग्रेस ने मोदी सरकार पर सवालों से किया हमला मुख्यमंत्री ने की वित्त मंत्री से मुलाकात, वर्तमान अफीम नीति में बदलाव के लिए जताया आभार इस्लामिक स्टेट इराक और सीरिया में गवां चुका है 95 फीसदी हिस्सा: गठबंधन सेना राजदेव हत्याकांड : SC ने तेज प्रताप की वायरल तस्वीरों पर सीबीआई से मांगी रिपोर्ट जापान में एक ट्रेन के तय समय से पहले चलने पर रेलवे ने जारी किया माफ़ी नामा आलू डालो, सोना निकलेगा, राहुल गांधी के वायरल वीडियो की सच्चाई, देखें वीडियो BJP नेता शिव कुमार के बाद घायल लड़की ने भी तोडा दम GST से पहले के सामान को नई MRP स्टिकर के साथ बेचने की समयसीमा 31 दिसंबर तक बढ़ी
मोसुल: 15 लाख नागरिकों के लिए ‘बेहद चिंतित’ है संयुक्त राष्ट्र
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 11:13:47 AM
1 of 1

संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र के मानवीय मामलों एवं आपदा राहत के महासचिव ने इराकी शहर मोसुल को आईएसआईएल के कब्जे से मुक्त कराने के अभियानों की शुरूआत पर नागरिकों के सिर पर मंडराने वाले खतरों के प्रति गहरी चिंता जताई है। स्टीफन ओ ब्रियन ने जिहादी समूह इस्लामिक स्टेट का हवाला देते हुए कहा की मैं मोसुल में रहने वाले उन 15 लाख लोगों की सुरक्षा को लेकर बेहद चिंतित हूं, जो आईएसआईएल के कब्जे से शहर को मुक्त कराने के सैन्य अभियानों के दौरान प्रभावित हो सकते हैं।

JAIPUR:  सबसे सस्ते प्लाट और फार्म हाउस CALL: 09313166166


उन्होंने चेतावनी दी कि वहां होने वाली गोलीबारी में फंसने या स्नाइपर द्वारा निशाना बनाए जाने का सबसे ज्यादा खतरा परिवारों पर है। इराक का यह उत्तरी शहर वही स्थान है, जहां आईएस के नेता अबु बकर अल-बगदादी ने सार्वजनिक तौर पर जून 2014 में इराक और सीरिया में ‘खिलाफत’ की घोषणा की थी। ईरान और अमेरिकी नेतृत्व वाले गठबंधन की मदद से इराकी बलों ने आईएस के कब्जे में जा चुका काफी क्षेत्र वापस हासिल कर लिया है। मोसुल शहर इराक में इस चरमपंथी समूह का आखिरी सबसे बड़ा गढ़ है।


इराकी प्रधानमंत्री हैदर अल-अब्दी ने कहा है कि मोसुल में सिर्फ सरकारी बल ही दाखिल होंगे। यह एक सुन्नी बहुल शहर है और आईएस ने यहां के स्थानीय लोगों में शिया बहुल सुरक्षा बलों के प्रति नाराजगी के चलते इस क्षेत्र पर तुलनात्मक रूप से आसानी से कब्जा कर लिया था। अमेरिकी रक्षामंत्री एश्टन कार्टर ने कहा कि यह अभियान जिहादी समूह को हराने के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। 

यह भी पढ़े : क्या आप जानते है छोटे स्तन होने के ये 10 फायदे...?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : एलन बॉर्डर से आगे निकले MS धोनी, बने दुनिया के दूसरे सबसे सफल कप्तानयह भी पढ़े : युवती को इस्‍लाम स्वीकार न करने पर किया दुष्कर्म, भाई को चीखें सुनने पर किया मजबूर



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.