अपना अजुर्न अवार्ड भारत की महिलाओं को करती हूं समर्पित: बेमबेम देवी 'साथ निभाना साथिया' की गोपी बहू ने सेलिब्रेट किया अपना 30 वां जन्मदिन शरियत में दखलअंदाजी कर रहा सुप्रीम कोर्ट: दारुल उलूम BSE की 200 कंपनियों के कारोबार पर लगाई रोक बैडमिंटन: मिश्रित युगल में रंकीरेड्डी-मनीषा की जोड़ी दूसरे दौर में बाहर 14 साल छोटी लड़की के साथ शादी करेंगे 'दिया और बाती हम' के 'सूरज सा' आज बैंक रहें हड़ताल पर, 35 हजार करोड़ का लेनदेन ठप 200 CEO में बोले मोदी - 'न्यू इंडिया' के लिए एक सैनिक बने पुजारा-हरमनप्रीत सहित 17 खिलाड़ियों को करेंगे राष्ट्रपति अर्जुन अवार्ड से सम्मानित चुनावों में होता है ऐसा माहौल जिसके वजह से सामने आते है बागी वाड्रा के बीकानेर जमीन डील मामले की सीबीआई जांच, बोला कांग्रेस पर हमला सोहा ने योगा करते दिखाया अपना बेबी बंप, फैंस ने किया ऐसा कमेंट स्पॉन्सर नाइकी किट से नाखुश टीम इंडिया, BCCI से की शिकायत चीन में सितंबर से दौड़ेगी दुनिया की सबसे तेज बुलेट ट्रेन हिरण शिकार मामले की अगली सुनवाई 30 अगस्त को 'TripleTalaq': इस प्रथा का 35 साल पहले फिल्म के जरिये इस लेखिका ने किया था विरोध लाहौर में वर्ल्ड इलेवन की कमान संभाल सकते है अमला-फाफ डु प्लेसी पीएम मोदी: 9,500 से अधिक सड़क परियोजनाओं का करेंगे शुभारंभ ट्रिपल तलाक: SC के फैसले पर इन बॉलीवुड हस्तियों ने दिया अपना रिएक्शन तीन तलाक पर बोले आजम खां - धार्मिक आस्थाओं से खिलवाड़ न हो
मोदी-ट्रंप ख़त्म करने को तुले हुए है पुरानी परम्परा
sanjeevnitoday.com | Monday, June 19, 2017 | 09:44:34 AM
1 of 1

 

न्यूयॉर्क। भारत और एशिया मामलों पर जाने माने विशेषज्ञ ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप 'सधे हुए कारोबारी' हैं, जो चीजों को पूरा करने के लिए पुरानी परंपराएं तोडऩे के इच्छुक हैं। एशिया सोसायटी पॉलिसी इंस्टीट्यूट के साथ भारत के लिए सीनियर फेलो मार्शल बाउटन ने एक साक्षात्कार में कहा, ट्रंप प्रशासन माल को निर्यात करने के लिए बाजार चाहता है और भारत निवेश चाहता है। वहां कहीं एक सौदा है। 

 

 

ये दोनों नेता सधे हुए कारोबारी हैं और ये दोनों चीजों को पूरा करने के लिए पुरानी परिपाटी और पुरानी नीति को तोडऩा चाहते हैं। उन्होंने सुझाव दिया कि दोनों नेताओं को अगले सप्ताह उनकी पहली बैठक के दौरान द्विपक्षीय आर्थिक संबंध बदलने पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। द शिकागो काउंसिल ऑन ग्लोबल अफेयर्स के अवकाशप्राप्त अध्यक्ष बाउटन ने दोनों देशों के बीच आर्थिक संबंधों को राजनीतिक और सुरक्षा सहयोग के मुकाबले 'सबसे कमजोर' बताया। 

भारत का निर्यात तेजी से बढ़ा 15 वर्षों में
बाउटन ने कहा कि अगर मोदी और ट्रंप अमरीका-भारत संबंधों के बारे में बड़ा सोचना चाहते हैं तो उन्हें इस तरीके से आर्थिक संबंधों में बदलाव लाने के बारे में सोचना चाहिए जैसे जॉर्ज बुश के तहत असैन्य परमाणु समझौते और बराक ओबामा के तहत जलवायु समझौते के साथ कूटनीतिक संबंध मजबूत हुए थे। भारत और एशिया मामलों के जानकार बाउटन ने कहा कि भारत के साथ अब अमरीका का व्यापार 100 अरब डॉलर तक बढ़ गया है। 

हालांकि पिछले 15 वर्षों में भारत का निर्यात तेजी से बढ़ा है लेकिन अमरीका में भारतीय माल का निर्यात 2016 में कुल अमरीकी निर्यात का केवल 2.1 फीसदी ही रहा। मोदी की अमरीकी यात्रा ऐसे समय में हो रही है जब आव्रजन सुधार पर ट्रंप प्रशासन के ध्यान केंद्रित करने के बीच एच1बी वीजा को लेकर भारतीय आईटी पेशेवरों और कंपनियों के बीच चिंताएं बढ़ रही है। हालांकि बाउटन ने कहा कि एच1बी वीजा मोदी-ट्रंप की बैठक के लिए प्राथमिकताओं में शायद ही शामिल होगा। 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.