संघर्ष और आपदाओं से प्रभावित लोगों के लिए UNO ने मांगी 22.2 अरब डॉलर की वैश्विक मदद स्टार स्क्रीन अवार्ड में बिग बी, आलिया को मिले शीर्ष सम्मान! तीन छात्रों ने की जूनियर्स की रैगिगं, प्रशासन ने छात्रों को किया निष्कासित केजरीवाल 20 दिसम्बर को भोपाल में करेंगे विशाल परिवर्तन रैली चाय वाला राजू रातों रात बना करोड़पति बद्रीनाथ की दुल्हनिया करेगी, माधुरी के तम्मा तम्मा पर डांस! सोना गिरा, चांदी मे आया सुधार आईएस ने बगदादी का उत्तराधिकारी चुनने को बैठक की! प्रवर्तन निदेशालय ने मनीलांड्रिंग मामले में दो बैंक अधिकारियों को किया गिरफ्तार फरहान अख्तर ने अक्षय के साथ फिल्म में काम करने से किया मना! भारतीय ऊर्जा कंपनियों से प्रधानमंत्री का बहुराष्ट्रीय कंपनी बनने का आहवान 'क्रैक' मैं अक्षय कुमार के साथ नज़र आएंगी ये एक्ट्रेस! मोदी एक बार फिर टाइम पर्सन ऑफ़ द ईयर नोटबंदी के बाद बैंकों में लौटे 3.4 % जाली नोट नोटबंदी की हिमाकत कर रहे लोगों को जनता सिखाएगी सबक : अखिलेश जल्दी ही लॉजी स्टेपवे का नया संस्करण लॉन्च करेगी Renault दिल्ली सरकार की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट में 12 दिसंबर को होगी सुनवाई विषय पर तत्काल चर्चा शुरू की जाए: राजनाथ सिंह आलिया को मिला सर्वश्रेष्ठ एक्ट्रेस का पुरस्कार बारातियों से भरी बस ट्रक में घुसी, तीन की मौत
अमरीका में भारतीय नागरिक ने कबूला आतंकवादी साजिश रचने का गुनाह
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 12:42:41 PM
1 of 1

न्यूयार्क। अमरीका में शरण लिए हुए 42 वर्षीय एक भारतीय व्यक्ति ने खालिस्तानी आतंकवादियों को कथित रूप से सहयोगी सामग्री और संसाधन उपलब्ध करा कर अधिकारियों की हत्या सहित भारत में आतंकी साजिश रचने का अपना गुनाह कबूल कर लिया है।

अमरीका में कार्यकारी सहायक अटॉर्नी जनरल फॉर नेशनल सिक्युरिटी मेरी मैककॉर्ड ने बताया कि नेवादा के रहने वाले बलविंदर सिंह ने यूएस डिस्ट्रिक्ट जज लैरी हिक्स के सामने आतंकवादियों को सहयोगी सामग्री उपलब्ध कराने के मकसद से साजिश रचने का अपना गुनाह कबूल कर लिया। बलविंदर यह जानता था कि उसकी सहायता से विदेशों में आतंकवादी हमलों को अंजाम दिया सकता है। मेरी ने कहा कि सिंह ने विदेश में हिंसा और हंगामे के मकसद से आतंकवादियों को सहयोगी सामग्री और संसाधन उपलब्ध कराने की कोशिश की।’’

उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद में शामिल व्यक्ति की पहचान, उसे रोकना और इसके लिए जिम्मेदार ठहराना अमरीकी न्याय विभाग की शीर्ष प्राथमिकता है। ‘‘झाजी’’,‘‘हैप्पी’’ और ‘‘बलजीत सिंह’’ उर्फ बलविंदर सिंह को 2013 के दिसंबर में हिरासत में लिया गया था। उसे कानूनी रूप से अधिकतम 15 साल की जेल और रिहा किए जाने के बाद देश से बाहर भेजे जाने की सजा हुई। उसकी सजा 27 फरवरी को तय हुई थी।

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.