loading...
बिजली दरों की बढ़ोत्तरी के विरोध में भाजपा ने सदन में किया हंगामा योगी आदित्यनाथ के खिलाफ कमेंट को लेकर शीरिष कुंदर ने माफी मांगी तीन सड़क हादसों में मासूम समेत तीन की मौत केंद्र सरकार ने अप्रत्यक्ष कर में पारदर्षिता की लिये CBEC के नाम व कार्य में किये बदलाव कुलदीप की शानदार गेंदबाजी को लेकर उनके कोच ने दिया ये बयान केवल एमसीडी का नहीं, मिनी इंडिया का चुनाव है: वेंकैया नायडू अगले माह अमित शाह 3 दिन के लिए राजस्थान दौरे पर, वसुंधरा के नेतृत्व में ही होगा अगला चुनाव जिओ ने फ्री डाटा सर्विस ख़त्म होने से पहले लॉन्च किये वार्षिक प्लान VIDEO: इन बॉलीवुड स्टार्स की ये तस्वीरें देखकर दंग रह जाऐंगें आप! जेटली मानहानि केस: मुश्किल में फंसे केजरीवाल, कोर्ट ने तय किये आरोप सीएम केजरीवाल के खिलाफ अवमानना नोटिस तैयार, 20 मई से ट्रायल शुरू वंश बढ़ाने के लिए भाई से संबंध बनाने के लिए कहता था पति, तो पत्नी ने कर दी हत्या गोरखपुर में सरकार: एमपी इंटर काॅलेज में आयोजित अभिनन्दन समारोह में शामिल हुए योगी भारत में व्यापार को लेकर Bajaj Auto और Kawasaki हुये अलग सनी लियोनी, शेयर की हैं बिकिनी में हॉट तस्वीरे… 54 टेस्ट मैचों के बाद विराट ने मिस किया ये मैच उत्तर प्रदेश: मुस्लिमो को नमाज के दौरान लाउडस्पीकर का प्रयोग बंद करने की धमकी, पोस्टर बरामद जिला परिषदों में कनिष्ठ लिपिकों की भर्ती प्रक्रिया जारी: राजेन्द्र राठौड़ अमित शाह ने रामलीला मैदान से फूंका MCD चुनाव का बिगुल BSNL देगा डिजिटल इंडिया मुहिम के तहत गैर-इन्टरनेट यूजर्स को 1GB फ्री डेटा
भारत ने आतंकवाद को किसी आतंकी संगठन तक सीमित नही रखा: विदेश मंत्रालय
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 12:46:19 PM
1 of 1

पणजी। ब्रिक्स गोवा एक्शन प्लान में जैश-ए-मोहम्मद या किसी और पाक समर्थित आतंकी संगठन को शामिल नहीं कर पाना भारत की असफलता है, इसे भारत सरकार ने सिरे से नकार दिया। भारत सरकार का कहना है कि 8वीं ब्रिक्स समिट के दौरान मेजबान भारत की कोशिश सिर्फ आंतकवाद को ब्रिक्स- बिमस्टेक जैसे अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाकर एक आम सहमति बनाने की कोशिश थी और भारत इसमें सफल रहा है। भारत आतंकवाद को एक वैश्विक समस्या मानता है, ना कि किसी देश या आतंकी संगठन से उसे जोड़ता है।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

गोवा में हो हुई 8वीं ब्रिक्स समिट के समापन के बाद सोमवार शाम भारत सरकार की ओर विदेश मंत्रालय ने तीन दिनों को पूरे घटनाक्रम पर सवालों के जवाब दिए। ये पूछे जाने पर कि क्या ब्रिक्स गोवा एक्शन प्लान में पाक समर्थित किसी आतंकी संगठन का नाम शामिल नहीं करना या पाकिस्तान का सीधे तौर पर उल्लेख भारत की असफलता नहीं है, विदेश मंत्रालय ने साफ किया कि वैश्विक राजनायिक परिदृश्य में ये बातें संभव नहीं होती। हमारी कोशिश ब्रिक्स-बिमस्टेक जैसे मंचों पर आतंकवाद के मुद्दे को उठाना था। 

भारत के प्रधानमंत्री ने तो सीधे तौर पर अपने एक पड़ोसी को आतंकवाद की जननी तक कह डाला। इतना ही नहीं भारत ने ब्रिक्स और बिमस्टेक सदस्य देशों के साथ हुई हर बैठक में आतंकवाद, खासकर भारत की सीमा से लगे क्षेत्र से आतंकवाद के पोषण की बात की है। हमारे प्रधानमंत्री ने तो यहां तक कह दिया था कि दुनिया में आतंकवाद का अंधेरा हमारे पड़ोस से ही फैल रहा है। प्रधानमंत्री का पूरी दुनिया को ये इशारा ही काफी था, जब उन्होंने कहा कि ये हमारा दुर्भाग्य है कि वैश्विक आतंकवाद के सूत्र हमारे पड़ोस में भी मिल जाते है।

विदेश मंत्रालय की मानें तो भारत ने जिस तरह से ब्रिक्स और बिमस्टेक को एक साझा मंच पर लाकर आतंकवाद को लेकर एक आम सहमति बनाई है, वैसे पहले कभी नहीं हुआ। इसीलिए ब्रिक्स-बिमस्टेक के इस पूरे आयोजन में भारत का आतंकवाद को लेकर प्रयास सफल रहा है। यह बात दीगर है कि भारत के ब्रिक्स और बिमस्टेक सदस्य देशों के साथ आतंकवाद पर पुरजोर तरीके से बात करना और इशारों में पाकिस्तान को आतंकवाद का जनक बताना चीन को नहीं भाया है। 

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.