तमिलनाडु विधानसभा में हुआ वाकया लोकतंत्र के लिए शर्मनाक : वेंकैया नायडू बैंकों का एनपीए 6 लाख करोड़ से ज्यादा हुआ मां की डांट से क्षुब्ध बेटे ने लगाई फांसी PM मोदी पर लालू का निशाना, कहा- देश में श्मशान बनाने से किसी ने रोका है क्या? जरीन खान पहुंची ताजनगरी तो उमड़ी फैंस की भीड़ जानिए, IPL 2016 की नीलामी के 10 सबसे महंगे क्रिकेटर ट्रंप ने तेज की सुरक्षा सलाहकार की तलाश, कुछ ही दिनों में नियुक्ति की उम्मीद बिहार में फिर रेल दुर्घटनाएं होते-होते बची, कई ट्रेनें टूटी पटरी से होकर गुजारी! Pics: फिल्म 'रंगून' की स्क्रीनिंग में करीना ने सैफ के पोस्टर के सामने दिया पोज़ मोबाइल टावरों से निकलने वाली हानिकारक तरंगें पक्षियों के लिए नुकसानदायक, जानिए कैसे? हाफिज सईद पर कार्रवाई को भारत ने सराहा, कहा- आतंकवाद से क्षेत्र को मुक्त बनाने की दिशा में पहला तार्किक कदम सुप्रीम कोर्ट ने की अखिलेश सरकार की समाजवादी पेंशन योजना की तारीफ बिहार में बोर्ड परीक्षा के पेपर लीक करने के आरोप में पुलिस ने 7 को किया गिरफ्तार! IPL में चुने जाने पर मोहम्मद नबी ने दिया चौंकाने वाला बड़ा बयान, कहा... जेट एयरवेज का ATC से संपर्क टूटा तो जर्मनी के लड़ाकू विमानों ने घेरा MobiKwik: कनेक्ट ब्रॉडबैंड के बिल भुगतान पर ग्राहकों को दिया जायेगा 15% कैशबैक अक्षय कुमार के बाद अब रोहित शेट्टी करेंगे इस शो को होस्ट टाइम्स स्क्वेयर पर ट्रंप की नीतियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन 56.4% बढ़कर 6,14,72 करोड़ हुआ सरकारी बैंकों का NPA 'मिर्ची म्यूजिक अवॉर्ड्स में अभिनेत्रियों ने बिखेरा जलवा, देखें तस्वीरें
भारत ने आतंकवाद को किसी आतंकी संगठन तक सीमित नही रखा: विदेश मंत्रालय
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 12:46:19 PM
1 of 1

पणजी। ब्रिक्स गोवा एक्शन प्लान में जैश-ए-मोहम्मद या किसी और पाक समर्थित आतंकी संगठन को शामिल नहीं कर पाना भारत की असफलता है, इसे भारत सरकार ने सिरे से नकार दिया। भारत सरकार का कहना है कि 8वीं ब्रिक्स समिट के दौरान मेजबान भारत की कोशिश सिर्फ आंतकवाद को ब्रिक्स- बिमस्टेक जैसे अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाकर एक आम सहमति बनाने की कोशिश थी और भारत इसमें सफल रहा है। भारत आतंकवाद को एक वैश्विक समस्या मानता है, ना कि किसी देश या आतंकी संगठन से उसे जोड़ता है।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

गोवा में हो हुई 8वीं ब्रिक्स समिट के समापन के बाद सोमवार शाम भारत सरकार की ओर विदेश मंत्रालय ने तीन दिनों को पूरे घटनाक्रम पर सवालों के जवाब दिए। ये पूछे जाने पर कि क्या ब्रिक्स गोवा एक्शन प्लान में पाक समर्थित किसी आतंकी संगठन का नाम शामिल नहीं करना या पाकिस्तान का सीधे तौर पर उल्लेख भारत की असफलता नहीं है, विदेश मंत्रालय ने साफ किया कि वैश्विक राजनायिक परिदृश्य में ये बातें संभव नहीं होती। हमारी कोशिश ब्रिक्स-बिमस्टेक जैसे मंचों पर आतंकवाद के मुद्दे को उठाना था। 

भारत के प्रधानमंत्री ने तो सीधे तौर पर अपने एक पड़ोसी को आतंकवाद की जननी तक कह डाला। इतना ही नहीं भारत ने ब्रिक्स और बिमस्टेक सदस्य देशों के साथ हुई हर बैठक में आतंकवाद, खासकर भारत की सीमा से लगे क्षेत्र से आतंकवाद के पोषण की बात की है। हमारे प्रधानमंत्री ने तो यहां तक कह दिया था कि दुनिया में आतंकवाद का अंधेरा हमारे पड़ोस से ही फैल रहा है। प्रधानमंत्री का पूरी दुनिया को ये इशारा ही काफी था, जब उन्होंने कहा कि ये हमारा दुर्भाग्य है कि वैश्विक आतंकवाद के सूत्र हमारे पड़ोस में भी मिल जाते है।

विदेश मंत्रालय की मानें तो भारत ने जिस तरह से ब्रिक्स और बिमस्टेक को एक साझा मंच पर लाकर आतंकवाद को लेकर एक आम सहमति बनाई है, वैसे पहले कभी नहीं हुआ। इसीलिए ब्रिक्स-बिमस्टेक के इस पूरे आयोजन में भारत का आतंकवाद को लेकर प्रयास सफल रहा है। यह बात दीगर है कि भारत के ब्रिक्स और बिमस्टेक सदस्य देशों के साथ आतंकवाद पर पुरजोर तरीके से बात करना और इशारों में पाकिस्तान को आतंकवाद का जनक बताना चीन को नहीं भाया है। 

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.