किसानों को मिलेगा फायदा, जीएसटी के तहत उर्वरकों कीमतों में आई कमी प्रो कबड्डी लीग: यू-मुंबा ने यूपी योद्धा को 37-34 से दी मात प्रेगनेंसी में सोहा को इस तरह हेल्दी गिफ्ट्स भेज रही हैं भाभी करीना कोटा में अभय कमाण्ड सेंटर का हुआ उद्घाटन, स्मार्ट बनी राजस्थान पुलिस छात्रा की गला घोटकर कर दी हत्या, आरोपी को किया गिरफ्तार 15 साल के इस लड़के की फेरारी कार देख एक्साइटेड हुए सलमान कोच विमल कुमार ने कहा- साइना नेहवाल के लिए सुर्खियों से दूर रहना ठीक अकमल ने कोच आर्थर पर लगाया दुर्व्यवहार का आरोप, PCB ने दिया नोटिस शहरी व ग्रामीण इलाकों में अब मिलेगा एक समान केरोसीन फिल्म 'जुडवां 2' का नया पोस्‍टर हुआ जारी, इस दिन रिलीज होगा फिल्म का ट्रेलर शूटिंग रेंज में ततैयों का हमला, शूटर लवलीन कौर घायल मेट्रो में सफर करने वाली एक युवती का बनाया वीडियो, आरोपी के खिलाफ दर्ज FIR कोटा का हवाई सपना साकार, कोटा से जयपुर इंट्रा स्टेट हवाई सेवा शुरू अवार्ड के लिए कई कोचों की सिफारिश करने वाले एथलीट हो दंडित: अखिल MI के फ़ोन में फिर हुआ धमाका, पूरा परिवार सदमे में बोल्ड ड्रेस में डायरेक्टर के पास पहुंची सारा, इस फिल्म से करेगी बॉलीवुड में डेब्यू पद्म पुरस्कारों के लिये नामांकन की अंतिम तारीख 15 सितंबर नोटों को बिस्तर पर बिछाकर ये बॉक्सर करता है नींद पूरी अगर आपको आधार कार्ड में कुछ अपडेट करने है तो ये तरीके अपनायें राजस्थान को बनाना होगा खुले में शौच से मुक्त: राजेंद्र राठौड़
भारत ने आतंकवाद को किसी आतंकी संगठन तक सीमित नही रखा: विदेश मंत्रालय
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 12:46:19 PM
1 of 1

पणजी। ब्रिक्स गोवा एक्शन प्लान में जैश-ए-मोहम्मद या किसी और पाक समर्थित आतंकी संगठन को शामिल नहीं कर पाना भारत की असफलता है, इसे भारत सरकार ने सिरे से नकार दिया। भारत सरकार का कहना है कि 8वीं ब्रिक्स समिट के दौरान मेजबान भारत की कोशिश सिर्फ आंतकवाद को ब्रिक्स- बिमस्टेक जैसे अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाकर एक आम सहमति बनाने की कोशिश थी और भारत इसमें सफल रहा है। भारत आतंकवाद को एक वैश्विक समस्या मानता है, ना कि किसी देश या आतंकी संगठन से उसे जोड़ता है।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

गोवा में हो हुई 8वीं ब्रिक्स समिट के समापन के बाद सोमवार शाम भारत सरकार की ओर विदेश मंत्रालय ने तीन दिनों को पूरे घटनाक्रम पर सवालों के जवाब दिए। ये पूछे जाने पर कि क्या ब्रिक्स गोवा एक्शन प्लान में पाक समर्थित किसी आतंकी संगठन का नाम शामिल नहीं करना या पाकिस्तान का सीधे तौर पर उल्लेख भारत की असफलता नहीं है, विदेश मंत्रालय ने साफ किया कि वैश्विक राजनायिक परिदृश्य में ये बातें संभव नहीं होती। हमारी कोशिश ब्रिक्स-बिमस्टेक जैसे मंचों पर आतंकवाद के मुद्दे को उठाना था। 

भारत के प्रधानमंत्री ने तो सीधे तौर पर अपने एक पड़ोसी को आतंकवाद की जननी तक कह डाला। इतना ही नहीं भारत ने ब्रिक्स और बिमस्टेक सदस्य देशों के साथ हुई हर बैठक में आतंकवाद, खासकर भारत की सीमा से लगे क्षेत्र से आतंकवाद के पोषण की बात की है। हमारे प्रधानमंत्री ने तो यहां तक कह दिया था कि दुनिया में आतंकवाद का अंधेरा हमारे पड़ोस से ही फैल रहा है। प्रधानमंत्री का पूरी दुनिया को ये इशारा ही काफी था, जब उन्होंने कहा कि ये हमारा दुर्भाग्य है कि वैश्विक आतंकवाद के सूत्र हमारे पड़ोस में भी मिल जाते है।

विदेश मंत्रालय की मानें तो भारत ने जिस तरह से ब्रिक्स और बिमस्टेक को एक साझा मंच पर लाकर आतंकवाद को लेकर एक आम सहमति बनाई है, वैसे पहले कभी नहीं हुआ। इसीलिए ब्रिक्स-बिमस्टेक के इस पूरे आयोजन में भारत का आतंकवाद को लेकर प्रयास सफल रहा है। यह बात दीगर है कि भारत के ब्रिक्स और बिमस्टेक सदस्य देशों के साथ आतंकवाद पर पुरजोर तरीके से बात करना और इशारों में पाकिस्तान को आतंकवाद का जनक बताना चीन को नहीं भाया है। 

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.