मैं भी हिंदू हूं पर हिन्दू अदालत में आने से नहीं डरते: चीफ जस्टिस शीना बोरा हत्याकांड: पीटर मुख़र्जी और इंद्राणी पर हत्या का आरोप निश्चित हरमनप्रीत कौर पर आचार संहिता का उल्लंघन करने का लगा आरोप साइकिल गंवाने के बाद अब यह हो सकती है मुलायम की अगली चाल बॉलीवुड ने किया इस 'दंगल' गर्ल को सपोर्ट Renault ने भारत में 2.93 लाख रूपये में पेश किया Kwid का स्पेशल एडिशन NSG मामला : भारत की सदस्यता को लेकर चीन-अमेरिका में हुई बयानबाजी अयोध्या: सड़क किनारे अलाव तापते लोगों पर पलटा ट्रक, 2 की मौत इस्तीफे की झूठी अफवाहों का खंडन करते हुए विजय ने कहा- पार्टी से कोई नाराजगी नहीं आस्ट्रेलियाई ओपन टूर्नामेंट में सेरेना और नडाल ने किया शानदार प्रदर्शन आखिर कैसे हुआ घूंघट उठाने से महिलाओ के जीवन स्तर में सुधार कांग्रेस और सपा में कभी भी हो सकता है गठबंधन का ऐलान: गुलाब नबी BSF जवान वीडियो मामला: खाने की क्वालिटी पर दिल्ली हाईकोर्ट ने BSF से मांगी रिपोर्ट Kawasaki जल्द लॉन्च करेगी पावरफुल Bike बिग बैश लीग: ब्रैड हॉज के हाथ से छूटा बल्ला, विकेटकीपर का टूटा जबड़ा ये एयरलाइन्स कंपनी लेकर आई है 99 रुपए में हवाई सफर करने का मौका, ये है शर्ते रातों रात लाइमलाइट में आ गई ये पाक सिंगर, 42 मिलियन से ज्यादा मिले यू-ट्यूब व्यूज Samsung ने पेश किया गैलेक्सी J3 इमर्ज स्मार्टफोन यूपी चुनाव: 17वीं विधानसभा के प्रथम चरण की अधिसूचना जारी होने के साथ ही नामांकन शुरू Sanjeevni Today: Top Stories of 1pm
भारत ने आतंकवाद को किसी आतंकी संगठन तक सीमित नही रखा: विदेश मंत्रालय
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 12:46:19 PM
1 of 1

पणजी। ब्रिक्स गोवा एक्शन प्लान में जैश-ए-मोहम्मद या किसी और पाक समर्थित आतंकी संगठन को शामिल नहीं कर पाना भारत की असफलता है, इसे भारत सरकार ने सिरे से नकार दिया। भारत सरकार का कहना है कि 8वीं ब्रिक्स समिट के दौरान मेजबान भारत की कोशिश सिर्फ आंतकवाद को ब्रिक्स- बिमस्टेक जैसे अंतरराष्ट्रीय मंचों पर उठाकर एक आम सहमति बनाने की कोशिश थी और भारत इसमें सफल रहा है। भारत आतंकवाद को एक वैश्विक समस्या मानता है, ना कि किसी देश या आतंकी संगठन से उसे जोड़ता है।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

गोवा में हो हुई 8वीं ब्रिक्स समिट के समापन के बाद सोमवार शाम भारत सरकार की ओर विदेश मंत्रालय ने तीन दिनों को पूरे घटनाक्रम पर सवालों के जवाब दिए। ये पूछे जाने पर कि क्या ब्रिक्स गोवा एक्शन प्लान में पाक समर्थित किसी आतंकी संगठन का नाम शामिल नहीं करना या पाकिस्तान का सीधे तौर पर उल्लेख भारत की असफलता नहीं है, विदेश मंत्रालय ने साफ किया कि वैश्विक राजनायिक परिदृश्य में ये बातें संभव नहीं होती। हमारी कोशिश ब्रिक्स-बिमस्टेक जैसे मंचों पर आतंकवाद के मुद्दे को उठाना था। 

भारत के प्रधानमंत्री ने तो सीधे तौर पर अपने एक पड़ोसी को आतंकवाद की जननी तक कह डाला। इतना ही नहीं भारत ने ब्रिक्स और बिमस्टेक सदस्य देशों के साथ हुई हर बैठक में आतंकवाद, खासकर भारत की सीमा से लगे क्षेत्र से आतंकवाद के पोषण की बात की है। हमारे प्रधानमंत्री ने तो यहां तक कह दिया था कि दुनिया में आतंकवाद का अंधेरा हमारे पड़ोस से ही फैल रहा है। प्रधानमंत्री का पूरी दुनिया को ये इशारा ही काफी था, जब उन्होंने कहा कि ये हमारा दुर्भाग्य है कि वैश्विक आतंकवाद के सूत्र हमारे पड़ोस में भी मिल जाते है।

विदेश मंत्रालय की मानें तो भारत ने जिस तरह से ब्रिक्स और बिमस्टेक को एक साझा मंच पर लाकर आतंकवाद को लेकर एक आम सहमति बनाई है, वैसे पहले कभी नहीं हुआ। इसीलिए ब्रिक्स-बिमस्टेक के इस पूरे आयोजन में भारत का आतंकवाद को लेकर प्रयास सफल रहा है। यह बात दीगर है कि भारत के ब्रिक्स और बिमस्टेक सदस्य देशों के साथ आतंकवाद पर पुरजोर तरीके से बात करना और इशारों में पाकिस्तान को आतंकवाद का जनक बताना चीन को नहीं भाया है। 

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.