भारतीय पहलवान का पहला दिन खराब, पहले ही दौर में हारे एफआईआर की प्रति अब मिलेगी ऑनलाईन, जानिए कैसे बूढादीत में स्थित प्राचीन सूर्य मंदिर को बनाया निशाना, आरोपियों को पकड़ा कैसे रूक पायेंगे रेल हादसे ? कपिल शर्मा ने सिद्धू के साथ मनमुटाव पर अपनी तोड़ी चुप्पी संदेश ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें बड़ी लीग में खेलना चाहिए: कांस्टेनटाइन काश कि रेल बजट तकनीक केन्द्रित होता राजस्थान ने लॉन्च की 'हैलो इंग्लिश प्रिमियम' एप, अंग्रेजी ज्ञान को बनाएगी बेहतर अतिक्रमण हटाने गए नगर परिषद के कर्मचारियों पर चले लात घूसे एटीपी रैंकिंग में एंडी मरे को पछाड़ नडाल टॉप पर "फिल्मों का बदलता ट्रेंड " सरकार ने बढ़ाई भीम कैशबैक योजना की अवधि, मार्च तक मिलेगा कैशबैक तीन तलाक मुद्दे पर कल सुप्रीम कोर्ट लेगा अहम फैसला मिताली राज का करारा जवाब, कहा- मैंने मैदान पर पसीना बहाया एक्सकेवेटर मशीन की चपेट में आने से गई मासूम की जान राष्ट्रपति ने किया लेह का दौरा, दिल्‍ली से बाहर उनकी प्रथम यात्रा इंडीज क्रिकेट बोर्ड ने दी पाक दौरे को मंजूरी, खेलेंगे T20 इंटरनेशनल मैच विपक्ष की एकता में मायावती ने डाली फुट, लालू की रैली में नहीं होगी शामिल बाइक सवार दो बदमाशों ने महज 57 सैकंड में उड़ाए 57 लाख गर्ल्स टॉयलेट में रिकॉर्डिंग के लिए छिपाया मोबाइल, कोई और नहीं बल्कि स्कूल का ही चौकीदार
इराकी सरजमीं से ढह रहा ISIS का किला, खत्म होगा बगदादी का ख़ौफ़ !
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 10:17:52 AM
1 of 1

नई दिल्ली । बमों के धमाके और मशीनगन से निकलने वाली हर गोली इस बात की तस्दीक कर रही है कि अब इराक की सरजमीं पर पिछले दो साल से अपने आतंक की बादशाहत कायम करने वाले आतंकवादी संगठन आईएसआईएस के आका अबू बकर अल बगदादी का अंत नजदीक आ चुका है। बगदादी और उसके गुर्गे अब अपनी जान बचा कर भागने पर मजबूर हो जाएंगे क्योंकि इराकी सेना ने अमेरिका की अगुवाई वाली गंठबंधन फौज के साथ मिलकर इराक के दूसरे सबसे बड़ा शहर मोसुल को आईएसआईएस और बगदादी के चंगुल से छुड़ाने के लिए जंग छेड़ दी है। यानि अब बगदादी के पनाह मांगने का वक्त आ गया है क्योंकि उसका सबसे मजबूत किला करीब करीब तबाह हो चुका है।

JAIPUR:  सब से सस्ते प्लाट और फार्म हाउस CALL: 09313166166

 

मोसुल में दो साल तक इंसान और इंसानियत का खून पानी की तरह बहाने वाले, खलीफा कानून के नाम पर मौत और दहशत का कारोबार करने वाले अब खुद मौत से घिर चुके हैं। मोसुल से ना उनके लिए अब भाग पाना मुमकिन है ना जान बचा पाना। रास्ता सिर्फ एक है घुटने टेक दो या मारे जाओ। दहशत पैदा करने वालों के दिलों में यकीकन दहशत काबिज हो चुकी होगी। मोसुल ही वो इलाका है जहां 2014 में आईएसआईएस ने इराकी सेना को हराकर कब्जा किया था। उसके बाद आईएसआईएस का आका अबु अल बक्र बगदादी ने यहीं से खलीफा कानून का ऐलान किया था। यहीं से उसने दुनिया और इंसानों के खिलाफ यलगार किया था। मौजूदा हालात और फिर वक्त की गवाही यही है कि अब ये सब गुजरे वक्त की बात है क्योंकि मोसुल से आईएस के पैर उखड़ चुके हैं।


17 तारीख यानी बीते कल को करीब सुबह सूरज की पहली किरण के साथ इराक ने मिशन मोसुल छेड़ दिया था। 14 हजार पैरामिलट्री फोर्स, 40 हजार पेशमर्गा लड़ाके, 54 हजार इराकी सेना के लाव लश्कर के साथ करीब 500 अमेरिकी जवान भी इस खौफनाक जंग में बगदादी के लड़ाकों को चुन चुन कर मौत के घाट उतार रहे हैं। वो बड़ी तेजी से आगे बढ़ रहे हैं और अब तक उन्होंने मोसुल के बाहरी इलाकों में बसे करीब 9 गांव को आजाद करा लिया है।


हालांकि इस सेना के लिए असल चुनौती तब होगी जब वो शहर के अंदरूनी इलाके में दाखिल होंगी। तब इमारतों, तंग गलियों और यहां रहने वाले लोग को ढाल बनाकर आईएसआईएस के लड़ाके सेना के कदम धीमे कर सकते हैं। अभी भी वहां 10 लाख इराकी लोग रहते हैं और उनकी जिंदगी जरूर दांव पर होगी। इराकी सेना के 90 लड़ाकू विमान आतंकियों के ठिकानों को बारूदी मौत से उड़ाने में लगे हैं। फौज अब बंकरों में छिपे आतंकियों से महज चंद किलोमीटर ही दूर है। यानी कुछ ही देर में जो खूनी खेल खेला जाएगा वो इतिहास के पन्नों के सबसे काले पन्नों में एक बन जाएगा। लेकिन ये भी तय है कि इतनी बड़ी फौज के आगे 7 हजार बेकार साबित होंगे और उनके खात्मे के साथ ही बगदादी भी खत्म हो जाएगा।

यह भी पढ़े : जानिए, शादी के बाद इस वजह से अपना घर छोड़ती हैं लड़कियां

यह भी पढ़े : अजीब है ! इस महिला के अर्धनग्न होते ही शरीर पर चिपक जाती है कई हजार मधुमक्खियां

यह भी पढ़े :अनोखा सैलून- यहाँ लड़कियां NUDE होकर बाल काटती हैं! 

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.