प्रधानमंत्री कौन से धन से चुनाव जीते, यह बताने से कतरा क्यों रहे हैं - गहलोत शिक्षक ने की छात्रा से छेड़खानी 'कहानी 2' के सेट पर विद्या बालन को हो गया था इनसे प्यार सुब्रमण्यम स्वामी को अयोध्या मसले में पक्षकार मानने से मुस्लिम बोर्ड का इन्कार विदेश में नौकरियां आउटसोर्स करने वाली कंपनियों पर 35 फीसदी कर लगाने की ट्रंप ने दी चेतावनी.. राहिल शरीफ बने बहुराष्ट्रीय इस्लामी आतंकवाद विरोधी बल के प्रमुख दक्षिण अफ्रीका ने पहली गोल्फ टेस्ट श्रृंखला में भारत को हराया.. जाधवपुर विश्वविद्यालय के मुख्य छात्रावास में फांसी पर लटका मिला छात्र चंद्रबाबू नायडू की रिश्तेदार दस लाख के पुराने नोटों के साथ पकड़ी गई जर्मन कोच: भारत हाकी विश्व कप में खिताब का प्रबल दावेदार.. महेश भट्ट की बेटी को है यह बीमारी... लूट की योजना बनाते चार गिरफ्तार सम्मेलन में भारत और अफगानिस्तान ने आतंक के मुद्दे पर पाक को घेरा.. सरताज अजीज को स्वर्ण मंदिर मे घुसने से मना किया तीन बार प्यार हुआ, उन्हें बदले में प्यार करने वाली कोई नहीं मिली: करन जौहर जयललिता को पड़ा दिल का दौरा शरीफ हैं ट्रंप से मिलने को इच्छुक, अगले महीने कर सकते हैं अमेरिका यात्रा जेल से पैरोल पर आने के बाद वापस न जाने का आरोपी गिरफ्तार मोदी के बाद अब केजरीवाल भी करेंगे परिवर्तन रैली इंग्लैंड के खिलाफ पहले वनडे से पहले धोनी के लिये कोई मैच नहीं?
10 लाख Google अकाउंट पर मंडरा रहा है खतरा, एंड्रॉइड में 'गूलीगन' मालवेयर का असर
sanjeevnitoday.com | Thursday, December 1, 2016 | 12:02:43 PM
1 of 1

नई दिल्ली। दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन Google से जुड़े 10 लाख अकाउंट्स की सिक्योरिटी पर खतरा मंडरा रहा है। इसकी वजह एंड्रॉइड मालवेयर के नए वर्जन गूलीगन (Gooligan) है। ऑनलाइन सि‍क्‍युरि‍टी कंपनी चेक प्वाइंट सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजीज के मुताबि‍क गूलीगन ने गूगल के 10 लाख से ज्यादा अकाउंट्स का पर्सनल डाटा चुरा लिया है। इस बारे में गूगल ने भी बयान जारी कर कहा है कि उन्हें इसके बारे में जानकारी है और वो इसे लेकर सख्त कदम उठा रहे हैं। 


क्या है मामला

चेक प्‍वाइंट के हेड ऑफ मोबाइल प्रोडक्‍ट्स माइकल शोलोव के मुताबिक गूलीगन ने 10 लाख गूगल अकाउंट में सेंधमारी कर पर्सनल डि‍टेल चोरी की हैं। ये काफी खतरनाक है और यह नेक्‍स्‍ट स्टेज के साइबर अटैक्‍स को दिखलाता है। इससे जीमेल, गूगल फोटो, गूगल प्ले व गूगल डॉक्स से यूजर्स की जानकारी चुराई जा सकती है। माइकल ने बताया कि पिछले एक साल में हैकर्स ने अपनी स्ट्रेटजी को पूरी तरह बदल दिया है। अब हैकर्स पर्सनल कम्प्यूटर्स की जगह मोबाइल डिवाइसेज को टार्गेट कर रहे हैं। 


क्या कर रहा है Gooligan मालवेयर

चेक प्‍वाइंट की रि‍पोर्ट में बताया गया है कि ये मालवेयर रोजना 13,000 डि‍वाइसेस पर असर डाल रहा है। अब तक गूलीगन एंड्रॉइड 4 (जेली बीन, कि‍टकैट) और 5 (लॉलीपॉप) को टारगेट कर रहा है। मार्केट में मौजूद कुल एंड्रॉइड डि‍वाइसेस में इनकी हि‍स्‍सेदारी करीब 74% है। इसमें से 40% डि‍वाइसेस एशि‍या में और करीब 12 फीसदी यूरोप में हैं। इस रिपोर्ट के मुताबिक हैकर्स डि‍वाइसेस पर कंट्रोल करने के बाद गलत तरीके से रेवेन्‍यू जुटाते हैं। वे गूगल प्‍ले से ऐप्‍स इंस्‍टॉल करते हैं और डि‍वाइस के असल मालि‍क की ओर से रेटिंग देते हैं।  रि‍पोर्ट में यह भी कहा गया है कि गूलीगन रोजाना करीब 30 हजार ऐप्‍स इंस्‍टॉल कर रहा है। इन्फेक्शन तब शुरू होता है जब यूजर गूलीगन प्रभावि‍त ऐप डाउनलोड और इंस्‍टॉल करता है। चेक प्‍वाइंट ने कहा कि उन्‍होंने गूगल सि‍क्‍युरि‍टी टीम को इस कैंपेन की जानकारी दी है।   

 
गूगल का क्या कहना है

गूगल के डायरेक्‍टर (एंड्रॉइड सि‍क्‍युरि‍टी) एड्रि‍यन लूडविंग ने कहा, ''हम चेक प्‍वाइंट की पार्टनरशि‍प की सराहना करते हैं और मि‍लकर इस मामले पर एक्‍शन लेंगे। मालवेयर की घोस्‍ट पुश फैमि‍ली से अपने यूजर्स को सुरक्षा देने के लि‍ए कंपनी की ओर से कई कदम उठाए गए हैं और पूरे एंड्रॉइड ईको-सि‍स्‍टम की सि‍क्‍युरि‍टी को सुधारा गया है।

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े : इस शख्स को फरारी कलेक्ट करने का है शौक, खरीद रखी हैं 330 करोड़ की कारें!

यह भी पढ़े :पति ने यौन संबंध बनाने से किया इन्कार, तो पत्नी ने किया ये...

यह भी पढ़े :इतने बड़े खतरनाक हादसे के बाद भी बच निकले ये दोनों बाप-बेटे, VIDEO



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.