‘मॉनसून शूटआउट’ का नया गाना ‘अंधेरी रात’ में दिया हुआ रिलीज़ THE फैक्ट्री कार्नर ने मनाया बालदिवस कई खतरनाक बीमारियों को दूर भगाता है अमरूद, जानिए अभिनेत्री नमिता ने फिल्म निर्माता वीरेंद्र चौधरी संग रचाई शादी DSP ने शादी का झांसा देकर महिला कांस्टेबल से बनाए शारीरिक सम्बन्ध सुस्त मांग से सोने में गिरावट, चांदी स्थिर मिनटों में निखरी और बेदाग त्वचा पाने के लिए दही का करें इस्तेमाल JIO का ऐलान, कल से बंद हो जायेगी ये सर्विस मिस्र के उत्तरी प्रांत में चरमपंथियों का हमला, 85 लोगो की मौत, 80 घायल ईरान: 4.3 की तीव्रता से आया भूकंप, 35 घायल दिल्ली के न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में चलती बस में युवक की चाकू मारकर की हत्या अब इन दोनों कपल का हुआ ब्रेकअप, 4 सालों से कर रहे थे डेट ईरान के पश्चिमी प्रांत में भूकंप के झटके, 36 लोग घायल क्या नोटबंदी के समय किसी सूटवाले को लाइन में देखा था: राहुल गांधी RSS प्रमुख मोहन भागवत का बड़ा बयान, कहा- अयोध्या में राम मंदिर बनेगा इसके अलावा कुछ नहीं टमाटर के दाम 80 रुपये प्रति किलोग्राम हुए, यह हैं वजह सागरिका संग विवाह बंधन में बंधने पर जहीर को इस खिलाड़ी ने दी ये नेक सलाह... 27 नवंबर को गुजरात में PM मोदी, पांच दिन में 17 जनसभाओं को करेंगे संबोधित अक्टूबर में किराया बढ़ाने की वजह से दिल्ली मेट्रो में रोजाना घटे 3 लाख यात्री लिखे गए नोट होंगे वैध: RBI
पाकिस्‍तान में चीनी प्रोजेक्ट 'CPEC' खतरे में : विशेषज्ञ
sanjeevnitoday.com | Saturday, July 15, 2017 | 09:46:00 PM
1 of 1

 

इस्‍लामाबाद। पनामागेट मामले और पाकिस्‍तान की राजनीतिक प्रणाली पर पड़ने वाले इसके असर को लेकर वहां की सेना में खलबली मच गई है। पाक सेना के कई शीर्ष अधिकारी इसको लेकर चीन का दौरा कर रहे हैं, जिसे अपना प्रोजेक्‍ट सीपीइसी (चीन-पाकिस्‍तान इकोनॉमिक कॉरिडोर) खतरे में नजर आ रहा है।

दरअसल, पनामागेट मामले में पाक प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और उनका पूरा परिवार फंसा हुआ है। हजारों करोड़ों के भष्‍ट्राचार के इस मामले में ज्‍वाइंट इंवेस्‍टीगेटिव टीम (जेआइटी) ने हाल ही में सुप्रीम कोर्ट में अपनी फाइनल रिपोर्ट सौंपी है। पनामागेट मामले में शरीफ की सत्‍ता भी छिन सकती है।

दक्षिण एशियाई मामलों के प्रमुख यूरोपीय विशेषज्ञ डॉ. वॉल्फ के मुताबिक पाकिस्तान में हो रहे भ्रष्टाचार को लेकर चीन चिंतित है। डॉ. वॉल्फ का मानना है कि पाकिस्तान में भ्रष्टाचार की जड़े इतनी मजबूत हो चुकी हैं कि इसका असर चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे पर भी पड़ सकता है। डॉ. वॉल्फ के मुताबिक, जिस देश में पारदर्शिता और प्रतिबद्धता नहीं है उसको विदेशी पूंजी के लिए हताश होने की जरूरत नहीं है। 

उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तान में भ्रष्टाचार पर लगाम नहीं लगाई गई तो सीपैक जैसी कई परियोजनाएं टिक नहीं पाएंगी। उन्होंने कहा कि अगर नवाज शरीफ की सरकार गिर जाती है तो सीपैक पर पूरी तरह से सेना का नियंत्रण हो जाएगा। 

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.