इस तरह करेंगे एकादशी व्रत, तो अवश्य मिलेगा दिव्य फल... देश और दुनिया के इतिहास में 18 अगस्त की महत्वपूर्ण घटनाएं आकर्षक दिखने के लिए अपने नेल्स को डिफरेंट लुक कैसे दे, जानिए... कैसे जानें कि वह आपसे प्यार करता है या नहीं घर के इन सामानों की भी होती है एक्सपाइरी डेट शिविर में 500 लोगो का स्वास्थ्य जांचा अजा एकादशी पर व्रत रखकर करें भगवान विष्णु की पूजा, मिलेगी सभी कष्टों से मुक्ति नेवी ब्लू का ये मिक्स-मैच देगा आपको परफेक्ट लुक 18 अगस्त: जानिए अजा एकादशी व्रत और कथा के बारे में… पुरुषों के मुकाबले ज्यादा तेज होता है महिलाओं का दिमाग रोजाना साइकिलिंग करने से रहेगा आपका शरीर एक दम फिट ज्यादातर लोगो की पहली पसंद होती है ब्लैक कलर जानिए, अपने होने वाले पार्टनर से क्या चाहती है लड़की प्रदेश के फायदे की रिफाइनरी को केन्द्र से मिली मंजूरी, एचपीसीएल के साथ कम्पनी गठन का करार मांगो को लेकर 22 अगस्त को बैंककर्मियों की राष्ट्रव्यापी हड़ताल वन्य जीवों के प्रजनन हेतु माकूल है नाहरगढ़ बॉयोलॉजिकल पार्क कानून व्यवस्था को मुद्दा बनाकर कहा, भाजपा सरकार में संगठित तरीके से हो रहा अपराध बार्सिलोना में मौंत बनकर दौड़ी वैन, दो की मौत उदयपुर में बनेगा विश्वस्तरीय बर्ड पार्क, होगा पर्यटन एवं शोध के केन्द्र के रूप में विकसित मलाला को ऑक्‍सफोर्ड विश्वविद्यालय में मिला दाखिला
भारत-अफगानिस्तान के बीच नये हवाई कॉरिडोर की शुरुआत, पाक को किया बाईपास
sanjeevnitoday.com | Tuesday, June 20, 2017 | 08:21:38 AM
1 of 1

 

नई दिल्ली। भारत और अफगानिस्तान के बीच हवाई कॉरिडोर स्थापित हो गया और काबुल से चला एक मालवाहक विमान सोमवार को नई दिल्ली में आकर उतरा। हवाई कॉरिडोर दोनों देशों के बीच व्यापारिक संबंधों को बढ़ावा देने के साथ चारों ओर से जमीन से घिरे अफगानिस्तान को भारत के बाजारों तक पहुंच देगा। इससे अफगानिस्तान के किसानों को खराब होने वाली वस्तुओं की भारतीय बाजारों तक जल्द और सीधी पहुंच से लाभ होगा। एक समपर्ति हवाई कॉरिडोर के उद्घाटन के बाद यह मालवाहक विमान काबुल से दिल्ली पहुंचा है। इस संबंध में सितंबर 2016 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी के बीच बैठक में निर्णय किया गया था।

 

मोदी ने ट्वीट करके कहा कि भारत और अफगानिस्तान के बीच सीधा हवाई संपर्क समृद्धि लेकर आएगा। उन्होंने कहा, 'मैं राष्ट्रपति अशरफ गनी को उनकी इस पहल के लिए धन्यवाद देता हूं।' विमान के 60 टन माल में से ज्यादातर हींग थी। विमान की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, नागरिक उड्डयन मंत्री गजपति राजू, विदेश राज्यमंत्री एम जे अकबर आदि ने अगवानी की। 

मालूम हो कि चारों तरफ से विदेशी जमीनों से घिरे अफगानिस्तान का एक्सपोर्ट और इम्पोर्ट पड़ोसी देशों पर निर्भर है। लेकिन, मौजूदा वक्त में पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बीच आतंकियों को पनाह देने के आरोपों को लेकर तल्खी चल रही है। राष्ट्रपति बनने के बाद अशरफ गनी भारत के दौरे पर 2015 में आए थे। ये उनका पहला भारत दौरा भी था। इस दौरान दोनों देशों के बीच एअर कॉरिडोर बनाने पर फैसला लिया गया था। बता दें कि भारत में अभी तक सड़क के रास्ते अफगानिस्तान से प्रोडक्ट्स आते हैं। 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.