आज का राशिफल (18 जनवरी 2017) सुल्तान कुतबुद्दीन ऐबक का इतिहास ये है ऐसा देश जहां मर्द करते है महिलाओ की गुलामी.. जानिये बंदर को भी टीवी देखने में आता है मजा... भारत के महान शहीदों और वीरो से संबंधित जानकारी और तथ्य ...तो जियो यूजर्स को 31 मार्च 2017 के बाद भी मिल सकती है फ्री सेवा इसलिए लिया भगवान श्री गणेश ने विकट अवतार बाप रे! इतनी ठंड की बर्फ में लोमड़ी तक जम गई... OMG यह है अजीबोगरीब परम्परा : यहाँ हजारों लोगों के बीच भस्म हुआ मंदिर... रिकार्ड बनाकर भी न्यूजीलैंड से हारा बांग्लादेश डि'विलियर्स ने अटकलों पर लगाया विराम, नहीं लेंगे किसी भी फॉर्मेट से सन्यास भूमि अधिग्रहण के खिलाफ हिंसक आंदोलन, फायरिंग में एक की मौत 9 बाइक चोर आठ बाइक के साथ रंगे हाथ पकडे गए... हार्दिक ने सरकार को ललकारा, कहा- आरक्षण नहीं देंगे तो छीन कर लेंगे ट्रेलर रिलीज : बोल्डनेस का सबूत देती है 'माया' रिश्वत लेते महिला कर्मी रंगेहाथ गिरफ्तार भारत अकेले शांति के रास्ते पर नहीं चल सकता: मोदी नहीं रहे चांद पर जाने वाले आखिरी व्यक्ति एक वीडियो ने रातों-रात बना दिया स्टार पाक सिंगर को... साईकिल को मिला हाथ का साथ, यूपी में महागठबंधन का फार्मूला तय: कांग्रेस 80, सपा 280 व आरएलडी को 20 सीटें
बलूच नेता की हत्या पर पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 10:56:59 PM
1 of 1

इस्लामाबाद। समाचार पत्र 'डॉन' के अनुसार, बलूचिस्तान उच्च न्यायालय की एक खंडपीठ ने आतंकवाद रोधी अदालत द्वारा पूर्व राष्ट्रपति को बरी किए जाने को चुनौती देने वाली एक पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई करते हुए यह आदेश पर पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया है।  

बलूचिस्तान के कोहलू जिले में तारातानी की दुर्गम पहाड़ियों में एक अभियान के दौरान 26 अगस्त, 2006 को बलूच नेता बुगती की हत्या कर दी गई थी,बुगती ने प्रांतीय स्वायत्तता और बलूचिस्तान के प्राकृतिक संसाधनों से प्राप्त लाभ में एक बड़ी हिस्सेदारी की मांग को लेकर सशस्त्र अभियान का नेतृत्व किया था,  बलूच नेता की मौत के बाद देश के कुछ भागों में विरोध प्रदर्शन हुए थे। 

नवाब अकबर खान बुगती  पाकिस्तान स्थित बलूचिस्तान प्रांत के एक राष्ट्रवादी नेता थे जो बलूचिस्तान को पाकिस्तान से अलग एक देश बनाने के लिए संघर्ष कर रहे थे।cके कोहलू जिले में एक सैन्य कार्रवाई में अकबर बुगती और उनके कई सहयोगियों की हत्या कर दी गई थी।
मुशर्रफ का शासन समाप्त होने के बाद अगली सरकार द्वारा 13 जून 2013 को इस हत्या के सिलसिले में उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया। हालांकि अक्टूबर 2013 में इस मामले में सबूतों के अभाव में उन्हें जमानत दे दी गई।

न्यायमूर्ति जमाल मोखल और न्यायमूर्ति जहीरुद्दीन कक्कर ने दिवंगत अकबर बुगती के पुत्र नवाबजादा जमील बुगती की पुनर्विचार याचिका पर सुनवाई की. पूर्व राष्ट्रपति मुशर्रफ की ओर से अदालत में पेश वकील अख्तर शाह ने तर्क दिया कि यद्यपि उनके मुवक्किल अदालत का सम्मान करते हैं, लेकिन सुरक्षा कारणों से वह अदालत में उपस्थित नहीं हो सकते हैं.

हालांकि, बुगती के वकील ने शिकायत की कि लगातार आदेश दिए जाने के बावजूद पूर्व राष्ट्रपति अदालत के समक्ष पेश होने में विफल हुए हैं. अदालत ने आदेश दिया कि पूर्व राष्ट्रपति की अदालती पेशी के दौरान प्रशासन को उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करनी चाहिए।

यह भी पढ़े: गर्लफ्रैंड के गालों के रंग से जानिए वो कितनी लकी है आपके लिए..!

यह भी पढ़े: तर्क ! इन कारणों को वजह से बढ़ रहा लड़कियों का बलात्कार ...पढ़िए जरा

यह भी पढ़े: लड़कियों के ये अंग उन्हें बनाते है और भी ज्यादा कामुक, बढ़ती है सेक्स की भावना... ये है वो अंग

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.