loading...
केंद्र सरकार ने पशु बाजारों में हत्या के लिए मवेशियों की बिक्री पर लगाया प्रतिबंध कश्मीर: बड़ी कामयाबी, 24 घंटों में सेना ने ढेर किए 10 आतंकी श्वेता तिवारी के फैंस के लिए बुरी खबर, श्वेता तिवारी की मौत बादल के लिए मकान बनवाएं और उसे बस्ता दिलवाकर उसकी पढ़ाई की भी व्यवस्था करें: राहुल गांधी दूरदर्शन बनाएगा मोदी सरकार की योजनाओ पर 14 लघु फिल्मे AIR INDIA का स्वामित्व जल्द निजी हाथों में, कर्ज के चलते हुआ बदलाव सीके खन्ना ने गेंदबाजी कर दिखाया अपना जलवा, दिल्ली स्पो‌र्ट्स पर की जीत दर्ज चैंपियंस ट्रॉफी: भारत और न्यूजीलैंड के अभ्यास मैच में नहीं आया नजर ये बल्लेबाज वसुंधरा राजे को "डिजिटल लीडर ऑफ द ईयर अवॉर्ड"से किया सम्मानित महिला के गले पर झपट्टा मार स्कूटी सवार दो बदमाश ने तोड़ी चेन,CCTV में कैद अजीत आगरकर बने एमसीए चयन समिति के नये अध्यक्ष 759 प्राथमिक कृषि ऋण सहकारी समितियों का होगा कम्प्यूटीकरण ब्रिटानिया का मुनाफा 5.9 फीसदी बढ़ा, 22 रुपए प्रति शेयर के लाभांश की घोषणा भारत ने श्रीलंका भेजी राहत सामग्री के साथ मेडिकल और इमर्जेंसी टीम ट्रेविस हेड ने दिया बड़ा बयान, कहा- विश्व कप के अनुभव से होगा चैंपियंस ट्रॉफी में फायदा पाक बजट : रक्षा क्षेत्र में अब 920 अरब रुपये करेगा खर्च सुदिरमन कप बैडमिंटन टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचे चीन और दक्षिण कोरिया इस गांव में सही तरिके से चोरी करना ही सबसे बड़ी योग्यता,जानिए.... VIDEO: अगर अब तक नहीं देखी है तो अब देख लिजिए आईपीएल पार्टीज के ये अजीब तस्वीरें! दरिंदगी: 7 साल की बच्ची का अपहरण के बाद किया दुष्कर्म, हालत गंभीर
ब्रिक्स सम्मेलन : जैश ए मोहम्मद को घोषणापत्र में शामिल करने पर नहीं बनी आम सहमति
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 08:15:10 AM
1 of 1

पणजी। संयुक्त राष्ट्र द्वारा प्रतिबंधित आतंकवादी संगठन जैश ए मोहम्मद को ब्रिक्स सम्मेलन के गोवा घोषणापत्र में शामिल करने पर आज कोई आम सहमति नहीं बन पायी क्योंकि समूह के अन्य देश पाकिस्तान स्थित आतंकवाद से प्रभावित नहीं हैं। घोषणापत्र में आतंकवाद से मुकाबले का आहवान किया गया। यद्यपि भारत के एक शीर्ष राजनयिक ने कहा कि भारत दस्तावेज से काफी खुश है।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

विदेश मंत्रालय के सचिव (आर्थिक संबंध) अमर सिन्हा ने कहा, मुक्षे लगता है कि इससे वे चिंतित नहीं हैं, मुख्य तौर पर ब्रिक्स। यह हमें प्रभावित करता है। ऐसा इसलिए कि पाकिस्तान स्थित आतंकवादी संगठनों का ध्यान गतिविधियों के मामले में भारत पर है। यह पूछे जाने पर कि घोषणापत्र जिसमें आईएसआईएस का नाम लिया गया है।

उसमें पाकिस्तान स्थित आतंकवादी समूहों विशेष तौर पर जैश ए मोहम्मद का उल्लेख नहीं है जिसे संयुक्त राष्ट्र ने प्रतिबंधित किया है, उन्होंने कहा, इसलिए चूंकि़ (यह उन्हें प्रभावित नहीं करता), मेरा मानना है कि हम दोनों को शामिल करने को लेकर वास्तव में आम सहमति नहीं बना पाये। उन्होंने कहा कि बयान में आईएसआईएस और अन्य सम्बद्ध संगठनों का उल्लेख है। 

उन्होंने कहा, मैं समक्षता हूं कि उन आतंकवादी संगठनों का उल्लेख है जिसे संयुक्त राष्ट्र ने प्रतिबंधित किया है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि गोवा घोषणापत्र को पूर्व के सम्मेलनों के घोषणापत्रों के अगले क्रम के रूप में देखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा, कपया पूर्व में हुए सम्मेलन की भाषा देखिये। आतंकवाद पर उस भाषा को देखिये जो अब की है तब आप देखेंगे कि वह निश्चित तौर पर आतंकवाद पर अधिक कड़ी भाषा है।

सिन्हा ने आतंकवाद के मुददे पर विभिन्न सवालों के जवाब में कहा कि बहुपक्षीय शिखर सम्मेलन को मात्र आतंकवाद के मुददे तक ही सीमित नहीं रहना चाहिए। उन्होंने गोवा घोषणापत्र में शब्द सीमापार आतंकवाद शामिल नहीं करने का बचाव किया और कहा कि जोर विचार पर होना चाहिए कि आतंकवाद का कोई भी राजनीतिक तर्क नहीं हो सकता। उन्होंने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि भारत अपने विचारों से सभी को साथ लाने पर सफल रहा है। 

उन्होंने कहा कि यदि ऐसा होता कि तो वे सीसीआईटी का समर्थन नहीं करते। वरिष्ठ राजनयिक ने रेखांकित किया कि भारत गोवा घोषणापत्र से संतुष्ट है। उन्होंने कहा, ऐसी चर्चाओं में प्रत्येक देश अपने राष्ट्रीय रूख से शुरूआत करता है जैसा कि हमने किया और उसके बाद उस पर लंबे सत्र के दौरान तब तक चर्चा होती है जब तक कि आप एक ऐसे निष्कर्ष पर नहीं पहुंच जाते जो कि सभी को स्वीकार हो। उन्होंने कहा कि घोषणापत्र में आतंकवाद को शांति एवं सुरक्षा के लिए अभूतपूर्व वैश्विक खतरा के तौर पर उल्लेख किया गया है। उन्होंने कहा, ये कड़े शब्द हैं। मैं नहीं मानता कि उन्होंने इसे कम करके आंका है।

यह भी पढ़े : क्या आप जानते है छोटे स्तन होने के ये 10 फायदे...?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: फेसबुक पर ऑनलाइन दोस्ती .. और फिर इस तरह दे डाला खुनी वारदात को अंजाम!

यह भी पढ़े: OMG! इस गांव में लड़कियां अपने मां-बाप के सामने बनाती है शारीरिक संबंध



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.