loading...
उत्तरप्रदेश: कानून से बेख़ौफ़ लुटेरों ने 'गन प्वाइंट' पर दो घरों में की लूटपाट ICC ने पुणे पिच को लेकर BCCI से मांगा जबाव देश की पहली हवाई तीर्थयात्रा योजना का शुभारम्भ, मुख्यमंत्री ने माला पहनाकर किया रवाना कोच कुंबले ने किया इस युवा खिलाडी का सपना साकार उपवास सर्वोच्च उपचार और सर्वमहान आरोग्य तुर्की की एक अदालत ने जर्मन पत्रकार को जेल भेजने का दिया आदेश VIDEO: इस फिल्म से बड़े पर्दे पर वापसी के लिए तैयार है रानी मुखर्जी! सुषमा ने कंसास में बीच-बचाव करने वाले अमेरिकी युवक की बहादुरी को सराहा गाम्बिया के सैन्य प्रमुख जनरल उस्मान बैजी को पद से हटाया भारतीय सीनियर फुटबॉल राष्ट्रीय टीम का अभ्यास शिविर मुंबई में पन्नीरसेल्वम गुट के 12 सांसदों ने राष्ट्रपति से की मुलाकात, जयललिता की मौत की जांच की मांग VIDEO: रिलीज हुआ फिल्म फिल्लौरी का तीसरा शानदार गाना यौन शोषण के आरोप में उबर ने मांगा भारतीय शीर्ष अधिकारी से इस्तीफा WWE रिंग में फ्लेयर के साथ नजर आएगी ये टेनिस स्टार बांग्लादेश में जापानी नागरिक की हत्या में पांच आतंकियों को सजा-ए-मौत SC ने खारिज की 23 हफ्ते के भ्रूण के गर्भपात की याचिका, कहा- हमारे हाथ में हैं एक मासूम की जिंदगी VIDEO: आखिर क्यों शाहरुख़ ने कंगना के साथ काम करने से किया इंकार? इतिहास: भारतीय हिन्दी सिनेमा के प्रसिद्ध संगीतकार और गायक थे रवीन्द्र जैन अफगानिस्तान: पुलिसकर्मी ने अपने सहकर्मियों पर की फायरिंग, 11 की मौत VIDEO: मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने टीम इंडिया को दिया ये संदेश!
BRICS: चीन की वजह से PM मोदी के अरमान नाकामयाब!
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 11:22:43 AM
1 of 1

नई दिल्ली। गोवा में रविवार को 8वां ब्रिक्स सम्मेलन संपन्न हुआ। इस अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पाकिस्तान पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए उसे आतंकवाद की 'जन्मभूमि' करार दिया। लेकिन चीन की वजह से मोदी की रणनीति पूरी तरह से कामयाब नहीं हो पाई।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

सीमा पार आतंकवाद का मुद्दा ठंडे बस्ते में
चीन की मौजूदगी में सीमा पार आतंकवाद का मुद्दा ठंडे बस्ते में ही जाना था, लेकिन भारत को उम्मीद थी कि भारत में सक्रिय लश्कर-ए-तैयबा, जैश-ए-मोहम्मद जैसे आंतकी संगठनों का जिक्र किया जाएगा। समिट सेक्रटरी (इकनॉमिक रिलेशंस) और इंडिया ब्रिक्स टीम की अगुवाई कर रहे अमर सिन्हा ने बताया कि घोषणापत्र में ब्रिक्स देशों के बीच इन आतंकी संगठनों के जिक्र को लेकर आम सहमति नहीं बन सकी। अमर सिन्हा ने माना कि गोवा घोषणा पत्र में सीमा पार आतंकवाद जुमले और जैश-ए-मोहम्मद जैसे आतंकी गुटों को शामिल करने पर सहमति नहीं बन सकी क्योंकि साउथ अफ्रीका और ब्राजील इस तरह की आतंकवादी गतिविधियों को नहीं झेल रहे हैं।

उरी आतंकी हमले की कड़े शब्दों में निंदा 
गोवा घोषणा पत्र में सीमा पार आतंकवाद का जिक्र नहीं किया गया, लेकिन ब्रिक्स के 4 अन्य सदस्यों- रूस, चीन, ब्राजील और साउथ अफ्रीका ने कड़े शब्दों में उरी आतंकी हमले की निंदा की। इन देशों ने द्विपक्षीय और अंतरराष्ट्रीय, दोनों स्तरों पर आतंकवाद के खिलाफ पार्टनरशिप को मजबूत करने पर सहमति जताई।

यह भी पढ़े : क्या आप जानते है छोटे स्तन होने के ये 10 फायदे...?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: फेसबुक पर ऑनलाइन दोस्ती .. और फिर इस तरह दे डाला खुनी वारदात को अंजाम!

यह भी पढ़े: OMG! इस गांव में लड़कियां अपने मां-बाप के सामने बनाती है शारीरिक संबंध



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.