loading...
loading...
loading...
T20 क्रिकेट: जेसन रॉय के नाम हुआ ये शर्मनाक वर्ड रिकॉर्ड दर्ज एक जुलाई से देश में जीएसटी लागू होने पर व्यापारियों ने पूछे सवाल इस लेडी टीचर ने स्‍टूडेंड और टीचर के पवित्र रिश्ते को किया कलंकित, स्‍टूडेंड से बनाये शारीरिक संबंध वीडियो: राखी सावंत ने अम्बानी को अपने पाप धोने का बताया रास्ता वीडियो: युवक ने की भीड़ के सामने औरत की निर्ममता से पिटाई इस साल चाइना में रिलीज होगी 'सुल्तान', क्या दे पाएगी 'दंगल' को टक्कर? एक ऐसा गांव जिसकी परम्परा को सुनकर आप भी रह जाएंगे दंग चीन में भूस्खलन में दबे लोगो की संख्या बढ़कर हुई 141 सरकार, ट्राई के बीच नीतिगत मुद्दों पर विचार विमर्श पुलिस में होना चाहता था भर्ती, फिजीकल टेस्ट की तैयारी करते वक्त हुई मौत बुलंदशहर में 'लेडी पुलिस सिंघम' ने नियम तोड़ने पर BJP नेता को लगाई फटकार OMG: जुहू का अपना घर छोड़ गोरेगांव के होटेल में शिफ्ट हो गए है शाहिद ये है दुनिया के सबसे खतरनाक ब्रिज, यहां चलना खतरे से नहीं है खाली शहीद पिता को मुखाग्नि देते वक़्त खूब रोया 1 साल का बेटा Snapdeal दे रहा है इन ऑफर्स पर भरी डिस्काउंट महिला को प्यार का झांसा देकर लुटे एक करोड़ रुपए कर्नाटक लोक सेवा आयोग ने निकाली टीचर की भर्ती, आज ही करे ऑनलाइन आवेदन राष्ट्रपति चुनावों की तैयारियों को लेकर रविवार को लखनऊ पहुंचेंगे कोविंद डॉलर के मुकाबले रुपए में हुई 7 पैसे की बढ़ोतरी शिवराज के मंत्री नरोत्तम मिश्र पर लगा 3 साल का बैन: चुनाव आयोग
पढ़िए, रहीम के दोहे अर्थ सहित
sanjeevnitoday.com | Monday, June 19, 2017 | 12:27:34 PM
1 of 1

 

खीरा सिर ते काटि के, मलियत लौंन लगाय। 
रहिमन करुए मुखन को, चाहिए यही सजाय।।

अर्थ : खीरे का कडुवापन दूर करने के लिए उसके ऊपरी सिरे को काटने के बाद नमक लगा कर घिसा जाता है। रहीम कहते हैं कि कड़ुवे मुंह वाले के लिए – कटु वचन बोलने वाले के लिए यही सजा ठीक है। 

 

दोनों रहिमन एक से, जों लों बोलत नाहिं। 
जान परत हैं काक पिक, रितु बसंत के माहिं।।

अर्थ : कौआ और कोयल रंग में एक समान होते हैं। जब तक ये बोलते नहीं तब तक इनकी पहचान नहीं हो पाती।लेकिन जब वसंत ऋतु आती है तो कोयल की मधुर आवाज़ से दोनों का अंतर स्पष्ट हो जाता है। 


रहिमन अंसुवा नयन ढरि, जिय दुःख प्रगट करेइ। 
जाहि निकारौ गेह ते, कस न भेद कहि देइ ।। 

अर्थ : रहीम कहते हैं की आंसू नयनों से बहकर मन का दुःख प्रकट कर देते हैं। सत्य ही है कि जिसे घर से निकाला जाएगा वह घर का भेद दूसरों से कह ही देगा।

 

रहिमन निज मन की बिथा, मन ही राखो गोय। 
सुनी इठलैहैं लोग सब, बांटी न लेंहैं कोय।। 

अर्थ : रहीम कहते हैं की अपने मन के दुःख को मन के भीतर छिपा कर ही रखना चाहिए। दूसरे का दुःख सुनकर लोग इठला भले ही लें, उसे बाँट कर कम करने वाला कोई नहीं होता।

 

पावस देखि रहीम मन, कोइल साधे मौन। 
अब दादुर वक्ता भए, हमको पूछे कौन।। 

अर्थ : वर्षा ऋतु को देखकर कोयल और रहीम के मन ने मौन साध लिया है. अब तो मेंढक ही बोलने वाले हैं। हमारी तो कोई बात ही नहीं पूछता। अभिप्राय यह है कि कुछ अवसर ऐसे आते हैं जब गुणवान को चुप रह जाना पड़ता है। उनका कोई आदर नहीं करता और गुणहीन वाचाल व्यक्तियों का ही बोलबाला हो जाता है।

 

रहिमन विपदा हू भली, जो थोरे दिन होय। 
हित अनहित या जगत में, जान परत सब कोय।। 

अर्थ : रहीम कहते हैं कि यदि विपत्ति कुछ समय की हो तो वह भी ठीक ही है, क्योंकि विपत्ति में ही सबके विषय में जाना जा सकता है कि संसार में कौन हमारा हितैषी है और कौन नहीं।

वे रहीम नर धन्य हैं, पर उपकारी अंग। 
बांटन वारे को लगे, ज्यों मेंहदी को रंग।। 

अर्थ : रहीम कहते हैं कि वे लोग धन्य हैं जिनका शरीर सदा सबका उपकार करता है। जिस प्रकार मेंहदी बांटने वाले के अंग पर भी मेंहदी का रंग लग जाता है, उसी प्रकार परोपकारी का शरीर भी सुशोभित रहता है।

 

समय पाय फल होत है, समय पाय झरी जात। 
सदा रहे नहिं एक सी, का रहीम पछितात।। 

अर्थ : रहीम कहते हैं कि उपयुक्त समय आने पर वृक्ष में फल लगता है। झड़ने का समय आने पर वह झड़ जाता है। सदा किसी की अवस्था एक जैसी नहीं रहती, इसलिए दुःख के समय पछताना व्यर्थ है।

 

वे रहीम नर धन्य हैं, पर उपकारी अंग। 
बांटन वारे को लगे, ज्यों मेंहदी को रंग।। 

अर्थ : रहीम कहते हैं कि वे लोग धन्य हैं जिनका शरीर सदा सबका उपकार करता है. जिस प्रकार मेंहदी बांटने वाले के अंग पर भी मेंहदी का रंग लग जाता है, उसी प्रकार परोपकारी का शरीर भी सुशोभित रहता है।

 

ओछे को सतसंग रहिमन तजहु अंगार ज्यों। 
तातो जारै अंग सीरै पै कारौ लगै।।

अर्थ : ओछे मनुष्य का साथ छोड़ देना चाहिए. हर अवस्था में उससे हानि होती है – जैसे अंगार जब तक गर्म रहता है तब तक शरीर को जलाता है और जब ठंडा कोयला हो जाता है तब भी शरीर को काला ही करता है।

 

वृक्ष कबहूँ नहीं फल भखैं, नदी न संचै नीर। 
परमारथ के कारने, साधुन धरा सरीर।।

अर्थ : वृक्ष कभी अपने फल नहीं खाते, नदी जल को कभी अपने लिए संचित नहीं करती, उसी प्रकार सज्जन परोपकार के लिए देह धारण करते हैं। 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.