जब बढ़ने लगे वर्कलोड, तो ऐसे करें हैंडल चमेली के फूल से निखारें अपनी सुंदरता अधिक समय तक काम करना सेहत के लिए नुकसानदायक इस गणेश चतुर्थी पर अपने हाथों से बनाएं मोदक सूखा नारियल स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद 18 एईएस रोगी मिलने के बाद स्वास्थ्य महकमा सतर्क जिला अस्पताल में खामियां मिलने पर एडी ने जताई नाराजगी डीसी ने कहा- मौसमी बीमारियों को लेकर सावधानी बेहद जरूरी बाढ़ के बाद महामारी का खतरा, स्वास्थ्य अमला अलर्ट रॉबर्ट वाड्रा के बीकानेर जमीन घोटाले की CBI करेगी जांच नवाज़ुद्दीन ने कहा,चित्रांगदा को 'बाबूमोशाय बंदूकबाज़' की स्क्रिप्ट से थी परेशानी भारतीय जूनियर पुरुष हॉकी टीम की कमान फेलिक्स को सौंपी मॉल में महिला ने लगाई तीसरी मंजिल से छलांग, CCTV कैमरे में कैद हुई घटना नागौर तांगा दौड़ से हटेगी रोक, हाईकोर्ट में दायर होगी याचिका: अजय सिंह एक बार फिर कोहली-स्मिथ में होगी कड़ी जंग: माइक हसी गोदाम विहीन जीएसएस एवं केवीएसएस में होगा गोदामों का निर्माण आमिर ने कहा, सिर्फ खान अभिनेता ही नहीं बॉलीवुड में स्टारडम ड्रेस को लेकर कमेंट करने वाले का मिताली ने किया मुँह बंद शिक्षक नहीं रहेंगे अप्रशिक्षित, डीएलएड कोर्स के लिए 15 Sep. तक करे आवेदन जिस बच्ची का वीडियो देख खफा थे विराट-धवन, वो निकली सिंगर शरीब साबरी की भांजी
इस बार दो दिन मनाई जाएगी जन्माष्टमी, जानें सही तिथि और मुहूर्त
sanjeevnitoday.com | Sunday, August 13, 2017 | 12:48:59 PM
1 of 1

नई दिल्ली। भाद्रपद के कृष्ण पक्ष की अष्टमी की मध्य रात्रि को भगवान कृष्ण का जन्म हुआ था। इसलिए हर साल इस तिथि में भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाया जाता है। इस बार 15 अगस्त को जन्माष्टमी का त्यौहार मनाया जाएगा। हर साल भाद्रपद माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाया जाने वाले इस त्यौहार को लेकर लोगों के दिलों में काफी उत्साह होता है। लेकिन क्या आप जानते हैं की ये त्यौहार क्यों मनाया जाता हैं।  

यह भी पढ़े:पाश्चात्य संस्कृति के कारण कमजोर हो रहा है परिवारों में संस्कार

पौराणिक ग्रथों के मुताबिक़ भगवान विष्णु इस धरती को पापियों से मुक्त करने के लिए भगवान कृष्ण के रूप में अवतरित हुए थे। माता देवकी की कोख से भगवान श्रीकृष्ण ने अत्याचारी मामा कंस का विनाश करने के लिए मथुरा में अवतार लिया लेकिन उनका पालन पोषण माता यशोदा ने किया। श्रीकृष्ण बचपन से ही बहुत नटखट थे और उनकी कई सखियां थी। श्री कृष्ण की गोपियों संग रासलीलाएँ बड़े चाव से सुनी और सुनाई जाती हैं। 

इस वर्ष 14 अगस्त को शाम 7.45 बजे अष्टमी तिथि शुरू होगी और 15 अगस्त को शाम 5.39 तक रहेगी। इसलिए दोनों ही दिन जन्माष्टमी त्योहार मनाया जा सकता है। व्रत वाले दिन पूरे दिन उपवास रखकर अगले दिन रोहिणी नक्षत्र और अष्टमी तिथि समाप्त होने के पश्चात व्रत पारण का संकल्प लेना चाहिए। हिंदू धर्म में व्रत हमारे आत्मसंयम को ही लक्षित किए गए हैं। हिंदू ग्रंथ धर्मसिंधु के अनुसार जोश्रद्धालु लगातार दो दिनों तक उपवास करने में समर्थ नहीं हैं वे जन्माष्टमी के अगले दिन ही सूर्योदय के पश्चात व्रत तोड़ सकते हैं। कृष्ण जन्माष्टमी के दिन हमें भगवान कृष्ण के जीवन से धैर्य और विपरीत परिस्थितियों में सहज होने का गुण सीखना चाहिए।

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

 

 

 

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.