26 नवंबर को हरियाणा के 13 जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद IAS ऑफिसर से रिटायरमेंट के पहले ही छीना वेतन, दफ्तर, गाड़ी! गहना ने अर्शी पर साधा निशाना कहा, इस शख्स के साथ लिवइन रिलेशन में रह चुकी हैं उत्तर कोरिया कर सकता हमला,तानाशाह की सूची में15 ठिकाने महिला बॉक्सिंग चैंपियनशिप:भारत की तीन युवा फाइनल में रेप के आरोप में गिरफ्तार हुए 'देवों के देव महादेव' स्टार पीयूष सहदेव लंदन के ऑक्सफ़र्ड सर्कस ट्यूब स्टेशन पर हुई घटना का नहीं मिला सबूत राशिफल : 25 नवंबर: कैसा रहेगा आपके लिए शनिवार का दिन, जानने के लिए क्लिक करें देश और दुनिया के इतिहास में 25 नवंबर की महत्वपूर्ण घटनाएं क्रिकेट के इतिहास में पहली बार, 2 रन पर ऑल आउट हो गई ये टीम माँ की ममता हुई शर्मशार: अपने ही मासूम बच्चे का किया कत्ल कुदरत का करिश्मा: 14 साल बाद परिवार से मिली अयोध्या से मुंबई पहुंची पूजा मानुषी छिल्लर पर हुड्डा व खट्टर में जुबानी जंग शुरू सुरक्षित और सम्मिलित साइबर स्पेस देने के प्रति प्रतिबद्ध है भारत : सुषमा स्वराज पद्मावती विवाद: नाहरगढ़ किले पर लटकाया युवक का शव, लिखा- हम पुतले नहीं शव लटकाते है हादसा :पटरी से उत्तरी वास्को-डि-गामा-पटना एक्सप्रेस हाफिज सईद की रिहाई पर अमेरिका ने जताई नाराजगी, कहा- फिर से गिरफ्तार करो दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ाने से किसी को नहीं हुआ फायदा: केजरीवाल मिस्र में अब तक का सबसे भीषण आतंकी हमला, 235 लोगो की मौत वीडियो: वोट देने से किया मना तो दबंगो ने जलाया महिला का घर
यहां पानी की समस्या से निपटने के लिए इस तकनीक का किया जा रहा उपयोग
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 15, 2017 | 03:47:56 PM
1 of 1

मोरक्को। मोरक्को के रेगिस्तान में पानी बनाने के लिए हवाओं की नमी को एकत्रित करने वाली अनूठी तकनीक का उपयोग किया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक, इस नई तकनीक से 5 गांवों को पीने का पानी मिल रहा है। 

 

इसके लिए बंजर टीलों पर कोहरा पकड़ने वाले जाल लगाए गए हैं। इन्हीं जालों के जरिए ना सिर्फ पीने का पानी मिल रहा है बल्कि इस रेगिस्तान में भी पेड़-पौधे भी जीवित हैं। दरअसल, मोरक्को के इस इलाके में साल में 6 माह तक समंदर में कोहरा रहता है।

यह भी पढ़े: VIDEO: कॉलेज में छात्र-छात्रा ने किया गन्दी हरकतों से युक्त डांस

इन जालों से ही बहुत ही आसान तरीके से कोहरे को पानी में बदल दिया जाता है। इन जालों में कोहरे के कण फंस जाते हैं। फिर इन कणों की नमी को एक पाइप से जगह-जगह बने छोटे कुओं में पहुंचा दिया जाता है। इन्हें ठंडा किया जाता है। ठंड पाते ही नमी पानी में बदल जाती है, जिसे छान कर फिर इस्तेमाल किया जाता है।

यह भी पढ़े: वीडियो: लड़की ने घर की छत पर किया 'मैं तेरा बॉयफ्रेंड तू मेरी गर्लफ्रेंड' पर डांस, इंटरनेट पर मचा धमाल

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे ! 

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.