पुणे रेलवे पुलिस का अधिकारी बताकर जूलर से ऐंठे 84 हजार गोल्ड की कीमतों में कमी, चांदी चमकी जम्मू कश्मीर को लेकर केंद्र सरकार ने किया रणनीति में बदलाव, करेगी सभी पक्षों से बातचीत शेयर बाजार में बढ़त, सेंसेक्‍स में 117 अंकों की बढ़ोत्‍तरी नाइजीरिया: आत्मघाती हमले में 13 की मौत, 16 घायल साई शब्द का कोई औचित्य नहीं, करे बदलाव: राज्यवर्धन राठौड़ गुजरात चुनाव तारीख घोषणा देरी को लेकर चुनाव आयोग ने रखा अपना पक्ष खूबसूरती बनी लड़की की दुश्मन, चली गई नौकरी 'गोलमाल अगेन' ने तीसरे दिन बॉक्स पर की इतनी कमाई, जानिए इस शख्स के कारनामें को जानकर आप भी रह जाएंगे दंग टीम इंडिया में मुस्लिम खिलाड़ियों को लेकर IPS से ट्विटर पर भिड़े हरभजन सिंह पोर्न स्टार मिया खलीफा हुई ट्रोल, लोगों ने किये भद्दे कमेंट पिछले 30 सालों से सिर्फ चाय पर जिंदा है ये औरत! सहवाग ने रॉस टेलर को कहा 'दर्जी' तो टेलर ने दिया ये करारा जवाब 'फिरंगी' का दूसरा पोस्टर हुआ रिलीज, कल आएगा ट्रेलर जल्द ही गुजरात का दौरा करेंगे शरद यादव, खोलेंगे बीजेपी की पोल यहां हनुमानजी की मूर्ति से निकल रहे है आंसू, देखने ले लिए उमड़ी भीड़ वीडियो : नशे में धुत्त डीएसपी ने चढ़ाई कार, जनता ने की धुनाई अभिनेत्री ईशा देओल ने बेटी को दिया जन्म, धर्मेंद्र-हेमा मालिनी बने नाना-नानी राहुल गांधी ने ट्विटर हैंडल पर लिख कहा- नहीं खरीदा जा सकता गुजरात को
सचिन तेंदुलकर: सभी बहुराष्ट्रीय कंपनियों से अपील है, खिलाड़ियों को नौकरी देना शुरू करें!
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 06:37:46 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सचिन तेंदुलकर ने क्रिकेट से संन्यास ले लिया है, लेकिन  सचिन चाहते हैं कि रोज़ी की फिक्र किसी खिलाड़ी का हुनर ​​न छीनें। खिलाड़ियों की नौकरी को लेकर भारत रत्न सचिन तेंदुलकर भी फिक्रमंद हैं और उन्होंने खिलाड़ियों की नौकरी की सुरक्षा को लेकर आवाज उठाई है। सचिन ने मांग की है कि बहुराष्ट्रीय कंपनियां खिलाड़ियों को नौकरी देना शुरू करें .मौका था मुंबई पुलिस जिमखाना के 69 वें पुलिस आमंत्रण शील्ड के फाइनल का, जिसे कर्नाटक स्पोर्टिंग एसोसिएशन ने एमआईजी क्रिकेट क्लब को हराकर जीता। इस मौके पर सचिन ने कहा, 'पहले अनुबंधित खिलाड़ी कम थे, खिलाड़ियों के पास नौकरी की सुरक्षा थी जो आज नहीं है। 


पहले खिलाड़ियों को दूसरी चीज़ों के बारे में सोचने की ज़रूरत नहीं थी। वे पूरा ध्यान खेल पर लगाते थे। नौकरी की चिंता खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर असर डालती है। मैं सभी बहुराष्ट्रीय कंपनियों से अपील करूंगा कि वे खिलाड़ियों को नौकरी देना शुरू करें, उनका समर्थन करें उन्हें सुरक्षा दें.'मुंबई में स्कूल लीग में अब 14 खिलाड़ी खेल रहे हैं। यह आइडिया भी 'मास्टर ब्लास्टर का था। इसके पीछे का मकसद खिलाड़ियों को अधिक मौके देना था। उन्होंने कहा, 'ये थोड़ा देर से आया, लेकिन न आने से ठीक है 

मैं चाहता था कि ज्यादा खिलाड़ियों को मौका मिले। पहले खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी भी मिल जाती थी, लेकिन बढ़ती आबादी और घटती नौकरियों के बीच ये आंकड़ा घटता गया। अब आसरा निजी कंपनियों से है। वैसे खेल मंत्रालय ने प्रस्ताव दिया है कि ओलिंपिक, एशियाई खेलों या वर्ल्ड चैंपियनशिप में तमगा जीतने वालों को सीधे क्लास 'ए' और 'बी' की नौकरी भी मिले, पहले स्पोर्ट्स कोटा के तहत ये नौकरियां नहीं मिलती थीं। सचिन की गुजारिश निजी कंपनियों से है लेकिन उनके कद को देखते हुए हो सकता है खिलाड़ियों की नौकरी को लेकर सकारात्मक रूख सब रखें।

यह भी पढ़े: तर्क ! इन कारणों को वजह से बढ़ रहा लड़कियों का बलात्कार ...पढ़िए जरा

यह भी पढ़े : 5 बच्चो की थी माँ, हुई कामुक फिर 20 साल के लड़के को कर लिया कमरे में बंद और ...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.