भारतीय पहलवान का पहला दिन खराब, पहले ही दौर में हारे एफआईआर की प्रति अब मिलेगी ऑनलाईन, जानिए कैसे बूढादीत में स्थित प्राचीन सूर्य मंदिर को बनाया निशाना, आरोपियों को पकड़ा कैसे रूक पायेंगे रेल हादसे ? कपिल शर्मा ने सिद्धू के साथ मनमुटाव पर अपनी तोड़ी चुप्पी संदेश ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें बड़ी लीग में खेलना चाहिए: कांस्टेनटाइन काश कि रेल बजट तकनीक केन्द्रित होता राजस्थान ने लॉन्च की 'हैलो इंग्लिश प्रिमियम' एप, अंग्रेजी ज्ञान को बनाएगी बेहतर अतिक्रमण हटाने गए नगर परिषद के कर्मचारियों पर चले लात घूसे एटीपी रैंकिंग में एंडी मरे को पछाड़ नडाल टॉप पर "फिल्मों का बदलता ट्रेंड " सरकार ने बढ़ाई भीम कैशबैक योजना की अवधि, मार्च तक मिलेगा कैशबैक तीन तलाक मुद्दे पर कल सुप्रीम कोर्ट लेगा अहम फैसला मिताली राज का करारा जवाब, कहा- मैंने मैदान पर पसीना बहाया एक्सकेवेटर मशीन की चपेट में आने से गई मासूम की जान राष्ट्रपति ने किया लेह का दौरा, दिल्‍ली से बाहर उनकी प्रथम यात्रा इंडीज क्रिकेट बोर्ड ने दी पाक दौरे को मंजूरी, खेलेंगे T20 इंटरनेशनल मैच विपक्ष की एकता में मायावती ने डाली फुट, लालू की रैली में नहीं होगी शामिल बाइक सवार दो बदमाशों ने महज 57 सैकंड में उड़ाए 57 लाख गर्ल्स टॉयलेट में रिकॉर्डिंग के लिए छिपाया मोबाइल, कोई और नहीं बल्कि स्कूल का ही चौकीदार
सचिन तेंदुलकर: सभी बहुराष्ट्रीय कंपनियों से अपील है, खिलाड़ियों को नौकरी देना शुरू करें!
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 06:37:46 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सचिन तेंदुलकर ने क्रिकेट से संन्यास ले लिया है, लेकिन  सचिन चाहते हैं कि रोज़ी की फिक्र किसी खिलाड़ी का हुनर ​​न छीनें। खिलाड़ियों की नौकरी को लेकर भारत रत्न सचिन तेंदुलकर भी फिक्रमंद हैं और उन्होंने खिलाड़ियों की नौकरी की सुरक्षा को लेकर आवाज उठाई है। सचिन ने मांग की है कि बहुराष्ट्रीय कंपनियां खिलाड़ियों को नौकरी देना शुरू करें .मौका था मुंबई पुलिस जिमखाना के 69 वें पुलिस आमंत्रण शील्ड के फाइनल का, जिसे कर्नाटक स्पोर्टिंग एसोसिएशन ने एमआईजी क्रिकेट क्लब को हराकर जीता। इस मौके पर सचिन ने कहा, 'पहले अनुबंधित खिलाड़ी कम थे, खिलाड़ियों के पास नौकरी की सुरक्षा थी जो आज नहीं है। 


पहले खिलाड़ियों को दूसरी चीज़ों के बारे में सोचने की ज़रूरत नहीं थी। वे पूरा ध्यान खेल पर लगाते थे। नौकरी की चिंता खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर असर डालती है। मैं सभी बहुराष्ट्रीय कंपनियों से अपील करूंगा कि वे खिलाड़ियों को नौकरी देना शुरू करें, उनका समर्थन करें उन्हें सुरक्षा दें.'मुंबई में स्कूल लीग में अब 14 खिलाड़ी खेल रहे हैं। यह आइडिया भी 'मास्टर ब्लास्टर का था। इसके पीछे का मकसद खिलाड़ियों को अधिक मौके देना था। उन्होंने कहा, 'ये थोड़ा देर से आया, लेकिन न आने से ठीक है 

मैं चाहता था कि ज्यादा खिलाड़ियों को मौका मिले। पहले खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी भी मिल जाती थी, लेकिन बढ़ती आबादी और घटती नौकरियों के बीच ये आंकड़ा घटता गया। अब आसरा निजी कंपनियों से है। वैसे खेल मंत्रालय ने प्रस्ताव दिया है कि ओलिंपिक, एशियाई खेलों या वर्ल्ड चैंपियनशिप में तमगा जीतने वालों को सीधे क्लास 'ए' और 'बी' की नौकरी भी मिले, पहले स्पोर्ट्स कोटा के तहत ये नौकरियां नहीं मिलती थीं। सचिन की गुजारिश निजी कंपनियों से है लेकिन उनके कद को देखते हुए हो सकता है खिलाड़ियों की नौकरी को लेकर सकारात्मक रूख सब रखें।

यह भी पढ़े: तर्क ! इन कारणों को वजह से बढ़ रहा लड़कियों का बलात्कार ...पढ़िए जरा

यह भी पढ़े : 5 बच्चो की थी माँ, हुई कामुक फिर 20 साल के लड़के को कर लिया कमरे में बंद और ...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.