loading...
OMG: 1 करोड़ 11 लाख रुपए हैं इस 11 साल के घोड़े की कीमत! Talent: 12वीं कक्षा के छात्र ने ब्लीच पाउडर से जला दिया बल्ब! Amazing: हर साल लगभग एक इंच तक बढ़ जाता है यह शिवलिंग! क्या आपने कभी सोचा हैं घड़ी के विज्ञापन में 10 बजकर 10 मिनट और 35 सेकेंड ही क्यों होते हैं? गजब: एक लीटर में 100 किलोमीटर की दूरी तय करेगी यह इयोलैब कार! राज की बात! जानिए, क्यों इंसानों की नकल करने में माहिर होते हैं तोते! Unique: इंजीनियरिग छात्रों ने बनाई सस्ती और किफायती कार, जानें कीमत! कैंडी क्रश की लत ने 29 साल के शख्स को पहुँचाया हॉस्पिटल शारीरिक संबंधों को और आवेशित करती हैं ये नई दवा! सोशल साइट्स पर ज्यादा सक्रिय होते हैं चिंताग्रस्त और बहिर्मुखी लोग! बच्चो का दिन में सोना स्वास्थ्य के लिए हानिकारक! आगामी फिल्म में एनआरआई की मां बनेंगी लारा मीडिया के बाद अब सदरलैंड ने भी लिया विराट को आड़े हाथ सीमा पर मादक पदार्थों के साथ पकड़ा एक संदिग्ध सरकार ने डॉक्टरों को दिया रात आठ बजे तक काम पर लौटने का अल्टीमेट, नहीं लौटे तो कटेगी छह महीने की पगार नासा अंतरिक्ष में 2017 के अंत तक भविष्य की घड़ी भेजेगा बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में भाजपा नेताओं के खिलाफ सुनवाई टली सलमान हमेशा दोस्त की तरह मेरे साथ खड़े रहे: रवीना विधानसभा में उत्पात मचाने वाले 19 विधायक निलंबित, विपक्ष ने राज्यपाल से की निलंबन वापस लिए जाने कि मांग युवक की गोली मारकर हत्या
सचिन तेंदुलकर: सभी बहुराष्ट्रीय कंपनियों से अपील है, खिलाड़ियों को नौकरी देना शुरू करें!
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 06:37:46 PM
1 of 1

नई दिल्ली। सचिन तेंदुलकर ने क्रिकेट से संन्यास ले लिया है, लेकिन  सचिन चाहते हैं कि रोज़ी की फिक्र किसी खिलाड़ी का हुनर ​​न छीनें। खिलाड़ियों की नौकरी को लेकर भारत रत्न सचिन तेंदुलकर भी फिक्रमंद हैं और उन्होंने खिलाड़ियों की नौकरी की सुरक्षा को लेकर आवाज उठाई है। सचिन ने मांग की है कि बहुराष्ट्रीय कंपनियां खिलाड़ियों को नौकरी देना शुरू करें .मौका था मुंबई पुलिस जिमखाना के 69 वें पुलिस आमंत्रण शील्ड के फाइनल का, जिसे कर्नाटक स्पोर्टिंग एसोसिएशन ने एमआईजी क्रिकेट क्लब को हराकर जीता। इस मौके पर सचिन ने कहा, 'पहले अनुबंधित खिलाड़ी कम थे, खिलाड़ियों के पास नौकरी की सुरक्षा थी जो आज नहीं है। 


पहले खिलाड़ियों को दूसरी चीज़ों के बारे में सोचने की ज़रूरत नहीं थी। वे पूरा ध्यान खेल पर लगाते थे। नौकरी की चिंता खिलाड़ियों के प्रदर्शन पर असर डालती है। मैं सभी बहुराष्ट्रीय कंपनियों से अपील करूंगा कि वे खिलाड़ियों को नौकरी देना शुरू करें, उनका समर्थन करें उन्हें सुरक्षा दें.'मुंबई में स्कूल लीग में अब 14 खिलाड़ी खेल रहे हैं। यह आइडिया भी 'मास्टर ब्लास्टर का था। इसके पीछे का मकसद खिलाड़ियों को अधिक मौके देना था। उन्होंने कहा, 'ये थोड़ा देर से आया, लेकिन न आने से ठीक है 

मैं चाहता था कि ज्यादा खिलाड़ियों को मौका मिले। पहले खिलाड़ियों को सरकारी नौकरी भी मिल जाती थी, लेकिन बढ़ती आबादी और घटती नौकरियों के बीच ये आंकड़ा घटता गया। अब आसरा निजी कंपनियों से है। वैसे खेल मंत्रालय ने प्रस्ताव दिया है कि ओलिंपिक, एशियाई खेलों या वर्ल्ड चैंपियनशिप में तमगा जीतने वालों को सीधे क्लास 'ए' और 'बी' की नौकरी भी मिले, पहले स्पोर्ट्स कोटा के तहत ये नौकरियां नहीं मिलती थीं। सचिन की गुजारिश निजी कंपनियों से है लेकिन उनके कद को देखते हुए हो सकता है खिलाड़ियों की नौकरी को लेकर सकारात्मक रूख सब रखें।

यह भी पढ़े: तर्क ! इन कारणों को वजह से बढ़ रहा लड़कियों का बलात्कार ...पढ़िए जरा

यह भी पढ़े : 5 बच्चो की थी माँ, हुई कामुक फिर 20 साल के लड़के को कर लिया कमरे में बंद और ...

यह भी पढ़े: दिलचस्प..! लड़कियां न्यूड होकर करती हैं तेज गाड़ियों की स्पीड को कंट्रोल…

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.