loading...
मैदान से बाहर रहते हुए भी कप्तानी करते नजर आए कोहली संजय नहीं चाहते आमिर की फिल्म से टकराव, बढ़ाई 'भूमि' की रिलीज डेट कृषि की उत्पादकता व विकास के लिये छोटी जोतों को लाभकारी बनाने पर देना होगा जोर : राधामोहन सिंह योगी ने दिया आदेश, 15 जून तक यूपी की सभी सड़कें होनी चाहिये गड्ढा मुक्त प्रदेश में जेनेटिक मॉडिफाइड तकनीक को अनुमति नहीं : कृषि मंत्री कलिखो पुल की आत्महत्या मामले की जांच के लिए दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दायर डेविड वार्नर के विकेट को लेकर कुलदीप ने किया ये खुलासा जस्टिस बीडी अहमद जम्मू कश्मीर और जस्टिस प्रदीप नंदराजोग राजस्थान हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस नियुक्त पुलिस अधिकारी से बदसलूकी के आरोप में इस पूर्व सांसद को जबरन उठाकर ले गयी पुलिस अब नहीं होगा तुष्टिकरण, होगा सबका विकास, महिला सुरक्षा के होंगे पुख्ता इंतजाम : योगी अपनी जिम्मेदारियों को लेकर हरमनप्रीत ने दिया ये बयान विमान में मारपीट मामला: सियासी दल बोले, रवीन्द्र गायकवाड़ तुरंत माफी मांगें चिश्ती के 805वें उर्स का झंडा हजारों आशिकान ए ख्वाजा की मौजूदगी में दरगाह के बुलंद दरवाजे पर चढ़ा राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने ''विश्व पर्यावरण सम्मेलन'' का उद्घाटन किया एक्साइज विभाग ने चलाया अभियान, भारी मात्रा में शराब सहित सात गिरफ्तार 1 अप्रैल से इन्कम टैक्स में होंगे भारी बदलाव, ये है नए नियम एशिया कप: मध्यप्रदेश के शिवांश ने तीरंदाजी में देश को दिलाया स्वर्ण LIVE: गोरखनाथ मंदिर के किये दर्शन, लोगो में भारी उत्साह शिक्षित बेरोजगार महिलाओं को मिलेगा परमिट सहित रिक्शा : शिवसेना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को करेंगे मन की बात
रोसबर्ग ने रच इतिहास, बने पहली बार फार्मूला वन विश्व चैंपियनशिप
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 02:06:06 PM
1 of 1

नई दिल्ली। जर्मनी के निको रोसबर्ग ने अबु धाबी ग्रां प्री में रविवार को कड़े संघर्ष में दूसरे स्थान पर रहने के साथ ही पहली बार फार्मूला वन विश्व चैंपियनशिप जीत ली। रोसबर्ग को फार्मूला वन विश्व चैंपियन बनने के लिए इस रेस में सिर्फ पोडियम पर आना था और उन्होंने दूसरे स्थान के साथ अपने शानदार करिअॅर में वह स्थान हासिल कर लिया जो 34 साल पहले उनके पिता केके ने हासिल किया था। अबु धाबी ग्रां प्री में विजेता बनने का श्रेय रोसबर्ग के मर्सिडीज टीम साथी लुईस हेमिल्टन के हिस्से में गया जिन्होंने सत्र की अपनी 10वीं जीत और लगातार चौथी जीत हासिल की लेकिन वह रोसबर्ग को चैंपियन बनने से नहीं रोक सके।  


हेमिल्टन ने रेस के अंतिम कुछ लैप में जानबूझकर गति को धीमा करने की कोशिश की ताकि उनके और रोसबर्ग के बीच कुछ दूसरे रेसर आ सके। लेकिन रोसबर्ग ने दूसरा स्थान लेकर विश्व खिताब अपने नाम किया। रोसबर्ग इसके साथ ही अपने देश के महान रेसर माइकल शूमाकर और सेबेस्टियन बेटल के साथ तीसरे विश्व चैंपियन बन गए। 1982 के खिताब विजेता केके रोसबर्ग के बेटे निको रोसबर्ग के नाम एक और उपलिध भी आ गयी है। वह ब्रिटेन के डेमन हिल के बाद यह खिताब जीतने वाले किसी विश्व चैंपियन के दूसरे बेटे बन गये हैं।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: यह है दुनिया की 'एकमात्र कामसूत्र' की पाठशाला।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.