'संयोग और वियोग' दोनों ही प्रकृति के धर्म रक्तदान के बराबर काेई दान नहीं है रघुवर दास के काल में चरमरा गई है स्वास्थ्य सुविधा निशुल्क चिकित्सा शिविर में स्कूली बच्चो का स्वास्थ्य जांचा सांसद राजेश रंजन ने कहा- शिक्षा और स्वास्थ्य का राष्ट्रीयकरण होना जरूरी खंडहर घोषित हो चुकी आवासीय बिल्डिंग से मोह नहीं त्याग कर पा रहे हैं स्वास्थ्य कर्मी अनुसूचितजाति कल्याण परिषद तहसील ठियोग ने मधान क्षेत्र की उपेक्षा पर जताई नाराजगी 12 घंटे के दौरान अस्पताल में मचा दो बार बवाल, स्वास्थ्य कर्मियों में गहराया रोष 3rd ODI: इंदौर में कंगारुओं के सामने विराट सेना की निगाहे सीरीज जीत के चौके पर अपने एक्स BF रणवीर से इस अंदाज में मिली अनुष्का, देखे फोटो हर साल 1000 खिलाडिय़ों को 5-5 लाख रुपए देने की घोषणा: खेल मंत्री प्रो कबड्डी लीग 2017: बंगाल ने बेंगलुरु बुल्स को हराया ऑस्ट्रेलिया हॉकी लीग: भारत की पुरुष और महिला 'ए' टीम हुई रवाना कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला का दाऊद को लेकर बड़ा बयान इस नए प्रोजेक्ट के लिए पत्नी संग जयपुर पहुंचे संजय दत्त, देखे फोटो शहंशापुरः पीएम ने स्वच्छता अभियान में लिया हिस्सा तीसरे वनडे के लिए वार्नर ने AUS के बल्लेबाजों को दिया मूल मंत्र Box office: दो दिन के भीतर ही फिल्म 'जय लव कुश' हुई हिट, कमाए 60 करोड़ पूर्व सेवादार गुरूदास का बडा खुलासा, गुरमीत को ब्लू फिल्म देखने का था शौक टीम में बल्लेबाजी क्रम को लेकर नहीं हूं चिंतित: रहाणे
आजमगढ़ के डीएम ने जीता एशियन पैराबैडमिंटन का खिताब
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 02:16:10 PM
1 of 1

आजमगढ़। आजमगढ़ के जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने बीजिंग में एशियन पैराबैडमिंटन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। सुहास ने एसएल4 वर्ग के फाइनल में इंडोनेशिया के हैरी सुशांतो को 21-4, 21-11 से शिकस्त देकर खिताब जीत लिया। बैडमिंटन संघ का कहना है कि सुहास एलवाई संभवतः देश के पहले जिलाधिकारी (डीएम) हैं, जिन्होंने एशियाई स्तर की किसी बैडमिंटन प्रतियोगिता में खिताब जीता है।


सेमीफाइनल में सुहास ने कोरिया के केडब्लू शिन से पहला सेट 16-21 से हारने के बाद 21-10, 21-14 से मात दी। इस प्रतियोगिता में भारत के अलावा श्रीलंका, चीन, चीनी ताइपे और दक्षिण कोरिया के अलावा कई अन्य देशों के शटलरों ने हिस्सा लिया। मनोज व पारूल भी जीते : सुहास के अलावा भारत के मनोज सरकार और पारूल परमार ने अपने-अपने वर्ग में खिताब जीते। सरकार पुरुषों के एसएल3 वर्ग में विजेता रहे। फाइनल में उन्होंने चीन के झियायू चेन को संघर्षपूर्ण मुकाबले में 21-17, 21-14 से हराया। महिला वर्ग में पारूल ने एसएल3 वर्ग में अपने सभी तीनों राउंड रॉबिन मैच जीतते हुए शीर्ष पर रहते हुए खिताब जीता।


बचपन में ही एक पैर खराब हो गया था : एक पैर खराब होने से सुहास को बचपन से ही चलने-फिरने में परेशानी का सामना करना पड़ता था। हालांकि इसके बावजूद उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और लक्ष्य निर्धारित कर उन्हें हासिल किया। 2007 बैच के आईएएस सुहास की पत्नी रितु ने बताया कि वह पिछले डेढ़ माह से इसकी तैयारी कर रहे थे। ड्यूटी पर जाने से पहले तक वह अभ्यास करते थे। छुट्टी वाले दिन वह सुबह और शाम को भी अभ्यास में कोई कसर नहीं छोड़ते। इसी टूर्नामेंट में कुछ साल पहले वह क्वार्टर फाइनल में पहुंचकर हार गए थे। इसके बाद उन्होंने दोगुनी मेहनत की थी।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: यह है दुनिया की 'एकमात्र कामसूत्र' की पाठशाला।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.