आशिकी-3 में आलिया-सिद्धार्थ करेंगे रोमांस अमिताभ ने किया बहू ऐश्वर्या की सुसाइड की बात को नजर अंदाज। जमीन विवाद को लेकर मारपीट प्रेमी जोड़े ने ट्रेन के आगे कूदकर दी जान शाहरूख एक बुरी लत, जिससे आप छुटकारा नहीं पा सकते: आदित्य आईएसएल में विदेशी खिलाड़ियों के बीच भारतीयों ने भी बिखेरी चमक.. डोनाल्ड ट्रम्प विश्व की समस्याओं को सुलझाने में सक्षम : माइक पेंस विजय के शार्ट पिच गेंदों पर आउट होने को तवज्जो नहीं दें: कुंबले परीक्षा में फेल होने से दुखी छात्रा ने की आत्महत्या सलमान और शाहरुख कर सकते है एक साथ काम जल-स्वावलम्बन अभियान केे दूसरे चरण में नगरीय क्षेत्र भी होंगे प्रदेश के सभी पुस्तकालयों का 31 मार्च तक हो जायेगा डिजिटलाईजेशन इंग्लैंड के खिलाफ चेन्नई टेस्ट को लेकर अभी कोई फैसला नहीं किया गया: बीसीसीआई चार बच्चो को बेचने के आरोपी की जमानत खारिज राजस्थान में मार्च तक हर शहरी निकाय होगा कैश लैस जबरन घर में घुसकर महिला से दुष्कर्म का प्रयास, आरोपी गिरफ्तार बिकने से बची चार नाबालिग बच्चियां, दलाल गिरफ्तार आस्ट्रेलिया ने बड़ी जीत से श्रृंखला पर कब्जा किया.. अंतर्राज्यीय डकैती गिरोह: आठ सदस्य गिरफ्तार उपहार मामले में अंसल बंधुओं को नोटिस
आजमगढ़ के डीएम ने जीता एशियन पैराबैडमिंटन का खिताब
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 02:16:10 PM
1 of 1

आजमगढ़। आजमगढ़ के जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने बीजिंग में एशियन पैराबैडमिंटन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। सुहास ने एसएल4 वर्ग के फाइनल में इंडोनेशिया के हैरी सुशांतो को 21-4, 21-11 से शिकस्त देकर खिताब जीत लिया। बैडमिंटन संघ का कहना है कि सुहास एलवाई संभवतः देश के पहले जिलाधिकारी (डीएम) हैं, जिन्होंने एशियाई स्तर की किसी बैडमिंटन प्रतियोगिता में खिताब जीता है।


सेमीफाइनल में सुहास ने कोरिया के केडब्लू शिन से पहला सेट 16-21 से हारने के बाद 21-10, 21-14 से मात दी। इस प्रतियोगिता में भारत के अलावा श्रीलंका, चीन, चीनी ताइपे और दक्षिण कोरिया के अलावा कई अन्य देशों के शटलरों ने हिस्सा लिया। मनोज व पारूल भी जीते : सुहास के अलावा भारत के मनोज सरकार और पारूल परमार ने अपने-अपने वर्ग में खिताब जीते। सरकार पुरुषों के एसएल3 वर्ग में विजेता रहे। फाइनल में उन्होंने चीन के झियायू चेन को संघर्षपूर्ण मुकाबले में 21-17, 21-14 से हराया। महिला वर्ग में पारूल ने एसएल3 वर्ग में अपने सभी तीनों राउंड रॉबिन मैच जीतते हुए शीर्ष पर रहते हुए खिताब जीता।


बचपन में ही एक पैर खराब हो गया था : एक पैर खराब होने से सुहास को बचपन से ही चलने-फिरने में परेशानी का सामना करना पड़ता था। हालांकि इसके बावजूद उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और लक्ष्य निर्धारित कर उन्हें हासिल किया। 2007 बैच के आईएएस सुहास की पत्नी रितु ने बताया कि वह पिछले डेढ़ माह से इसकी तैयारी कर रहे थे। ड्यूटी पर जाने से पहले तक वह अभ्यास करते थे। छुट्टी वाले दिन वह सुबह और शाम को भी अभ्यास में कोई कसर नहीं छोड़ते। इसी टूर्नामेंट में कुछ साल पहले वह क्वार्टर फाइनल में पहुंचकर हार गए थे। इसके बाद उन्होंने दोगुनी मेहनत की थी।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: यह है दुनिया की 'एकमात्र कामसूत्र' की पाठशाला।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.