देश और दुनिया के इतिहास में 28 जुलाई की महत्वपूर्ण घटनाएं जानिए खीरे के स्वास्थ्यवर्द्धक और सौन्दर्यवर्द्धक गुण किशमिश स्वास्थ्य के लिए बड़ी ही लाभदायक लगातार ब्रैड के सेवन से स्वास्थ्य के लिए हानिकारक इस तरह करे प्याज का सेवन, होंगे अनेक फायदे रोजाना खाली पेट लहसुन खाने के फायदे जान दंग रह जाएंगे आप... अपहरण के बाद पांच लाख रुपये की फिरौती मांगी अवैध शराब सहित तीन आरोपी गिरफ्तार स्वाइन फ्लू की दस्तक से हिल गया स्वास्थ्य विभाग व्यापार और घर में भी धर्म का पालन करना जरूरी मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य के प्रति लोगों को जागरुक करने की जरुरत बच्चों के स्वास्थ्य की जांच करेगी मोबाइल हेल्थ टीम डॉ.पीके शर्मा ने कहा- स्वास्थ्य की तरह मिट्टी की जांच भी करवानी जरूरी प्रतापगढ़ जिले के कल्पेश राज सोनी को मिला ग्लोबल बिजनेस लीडरशिप अवार्ड राहुल जौहरी को एसजीएम से बाहर करने पर बीसीसीआई पदाधिकारियों को नोटिस SSC CGL 2017 के Admit Card जारी PM मोदी ने भारतीय महिला टीम से की मुलाकात, कहा- 125 करोड़ भारतीयों ने उठाया हार का बोझ ससुराल वालों की प्रताड़ना से परेशान युवक ने खाया जहर, मौत सभी पाठ्यपुस्तकें राज्य के SIRT द्वारा तैयार पाठ्यक्रम के अनुरूप हो: वासुदेव देवनानी सस्ते फ्लैट का झांसा देकर करोड़ों की ठगी करने वाला एक ग‌िरफ्तार
आजमगढ़ के डीएम ने जीता एशियन पैराबैडमिंटन का खिताब
sanjeevnitoday.com | Monday, November 28, 2016 | 02:16:10 PM
1 of 1

आजमगढ़। आजमगढ़ के जिलाधिकारी सुहास एलवाई ने बीजिंग में एशियन पैराबैडमिंटन प्रतियोगिता में स्वर्ण पदक पर कब्जा जमाया। सुहास ने एसएल4 वर्ग के फाइनल में इंडोनेशिया के हैरी सुशांतो को 21-4, 21-11 से शिकस्त देकर खिताब जीत लिया। बैडमिंटन संघ का कहना है कि सुहास एलवाई संभवतः देश के पहले जिलाधिकारी (डीएम) हैं, जिन्होंने एशियाई स्तर की किसी बैडमिंटन प्रतियोगिता में खिताब जीता है।


सेमीफाइनल में सुहास ने कोरिया के केडब्लू शिन से पहला सेट 16-21 से हारने के बाद 21-10, 21-14 से मात दी। इस प्रतियोगिता में भारत के अलावा श्रीलंका, चीन, चीनी ताइपे और दक्षिण कोरिया के अलावा कई अन्य देशों के शटलरों ने हिस्सा लिया। मनोज व पारूल भी जीते : सुहास के अलावा भारत के मनोज सरकार और पारूल परमार ने अपने-अपने वर्ग में खिताब जीते। सरकार पुरुषों के एसएल3 वर्ग में विजेता रहे। फाइनल में उन्होंने चीन के झियायू चेन को संघर्षपूर्ण मुकाबले में 21-17, 21-14 से हराया। महिला वर्ग में पारूल ने एसएल3 वर्ग में अपने सभी तीनों राउंड रॉबिन मैच जीतते हुए शीर्ष पर रहते हुए खिताब जीता।


बचपन में ही एक पैर खराब हो गया था : एक पैर खराब होने से सुहास को बचपन से ही चलने-फिरने में परेशानी का सामना करना पड़ता था। हालांकि इसके बावजूद उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और लक्ष्य निर्धारित कर उन्हें हासिल किया। 2007 बैच के आईएएस सुहास की पत्नी रितु ने बताया कि वह पिछले डेढ़ माह से इसकी तैयारी कर रहे थे। ड्यूटी पर जाने से पहले तक वह अभ्यास करते थे। छुट्टी वाले दिन वह सुबह और शाम को भी अभ्यास में कोई कसर नहीं छोड़ते। इसी टूर्नामेंट में कुछ साल पहले वह क्वार्टर फाइनल में पहुंचकर हार गए थे। इसके बाद उन्होंने दोगुनी मेहनत की थी।

यह भी पढ़े: ...तो लडकिया इस समय सबसे ज्यादा सोचती है सेक्स के बारे में

यह भी पढ़े: यह है दुनिया की 'एकमात्र कामसूत्र' की पाठशाला।

यह भी पढ़े: मनुष्यों के लिये अंग उगाएगी छिपकली की पूंछ!

यह भी पढ़े: चमत्कारी स्प्रे, इसे लगाने के बाद खिंची चली आएंगी लड़कियां..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.