एशियाई शीतकालीन खेलों के लिए तैयार भारतीय दल नाबलिग ने फांसी लगाकर की आत्‍महत्‍या पीसीए की धारा को हटाने के विरोध में पार्टी के खिलाफ जाएंगे सुब्रमण्यम स्वामी खेती की बिजली दरें कम करने से खुश किसानों ने किया मुख्यमंत्री का अभिनन्दन सलमान, सोनम के बाद अब सूरज करेगें अपना एप लांच पुरुष टीम की पहली महिला कोच बनीं चान यूएन टिंग छात्रा पर एसिड हमला, आरोपी गिरफ्तार VIDEO: 'मिर्ची म्यूजिक अवॉर्ड्स में अभिनेत्रियों ने बिखेरा जलवा कमान्डेन्ट चेतन चीता के लिए विश्वविद्यालय परिसर में स्वास्थ्य यज्ञ श्लोक-अर्जुन की जोड़ी ने जीता एपेक्स एलीट टेनिस का खिताब 'जश्न ए रेख्ता' कार्यक्रम में तारिक फतेह का विरोध दस साल की बालिका से दुष्कर्म का प्रयास रामू का कंफ्यूजन- शशिकला या जयाललिता? बिना परमिट के ई-रिक्शों के खिलाफ चलाया जायेगा अभियान ‘आंखें 2' में महानायक अमिताभ बच्चन के साथ नजर आयेंगी ईशा गुप्ता दुनिया के नंबर एक गोल्फर बने डस्टिन जॉनसन शिमला में चौकीदार को बंधक बनाकर लाखों की डकैती मोदी के 'कब्रिस्तान-श्मशान' बयान पर कांग्रेस ने चुनाव आयोग से की सख्त कार्रवाई की मांग सपा प्रत्याशी रिबू श्रीवास्तव ने लिया नाम वापस, गठबंधन को राहत इस फेमस सिंगर के साथ हुआ धोखा, जबरदस्ती करवाई परफॉर्मेंस
इस बार का करवाचौथ होगा खास, महिलाएं कर रहीं जमकर खरीदारी
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 06:09:36 PM
1 of 1

चंडीगढ़। करवाचौथ का व्रत महिलाओं के लिए बहुत ही महत्व रखता है। करवाचौथ पर महिलाएं खरीदारी में पूरे साल की कमी निकाल लेती हैं। ऐसे में उनके लिए त्योहार की खुशी दोगनी हो जाती है। शहर के विभिन्न सेक्टरों में करवाचौथ को लेकर एग्जीबिशन भी लगाई गई है। किसान भवन में लगी प्रदर्शनी भी युवतियों और महिलाओं को काफी लुभा रही है, जिसमें करवाचौथ पर स्पेशल सूट, साड़ी, एसेसरीज, डायमंड ज्वैलरी, गोल्ड ज्वैलरी, सिल्वर और कूदंन ज्वैलरी भी महिलाओं की पहली पंसद बनी हुई है। वहीं शहर के सभी बाजारों में भी इस त्यौहार की खासी रौनक देखने को मिल रही है। बात अगर मेंहदी की करें तो करवाचौथ पर मेंहदी का विशेष महत्व होता है। हर महिला अपने सुहाग के लिए सुंदर से सुंदर मेंहदी लगवाने की चाह रखती हैं। इसी दौरान शहर के बाजारों में जगह-जगह पर मेंहदी लगाने वालों पर अभी से काफी भीड़ भी दिखाई देने लगी है।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

ज्योतिषाचार्य मदन गुप्ता सपाटू के अनुसार कार्तिक कृष्ण पक्ष में करक चतुर्थी अर्थात करवा चौथ का लोकप्रिय व्रत सुहागिन स्त्रियां पति की मंगल कामना एवं दीर्घायु के लिए निर्जल रखती हैं। इस दिन न केवल चंद्र देवता की पूजा होती है अपितु शिव-पार्वती और कार्तिकेय की भी पूजा की जाती है। इस दिन विवाहित महिलाओं और कुंवारी कन्याओं के लिए गौरी पूजन का भी विशेष महात्म्य है। आधुनिक युग में चांद से जुड़ा यह पौराणिक पर्व महिला दिवस से कम नहीं है, जिसे पति व मंगेतर अपनी-अपनी आस्थानुसार मनाते हैं।

इस साल बुधवार को करवाचौथ पर 100 साल बाद दुर्लभ संयोग बन रहा है। ज्योतिष के जानकारों की मानें तो इस बार करवाचौथ का एक व्रत करने से 100 व्रतों का वरदान मिल सकता है। चार संयोग इस बार करवा चौथ को खास बना रहे हैं। बुधवार 19 अक्टूबर को चन्द्रमा वृषभ राशि में और रोहिणी नक्षत्र एक साथ रहेगा। इससे पहले इस तरह का संयोग करवाचौथ के दिन 1916 में बना था। तब करवा पर्व पर चार महासंयोग एक साथ बने थे। ये अद्भुत संयोग करवाचौथ के व्रत को शुभ फलदायी बना रहा है। गणेश चतुर्थी का संयोग इसी दिन है जो ज्योतिषीय दृष्टि से बहुत अच्छा माना जाता है। गणेश जी की पूजा का भी विशेष महत्व रहेगा। चंद्रमा स्वयं शुक्र की राशि बृष में उच्च के होंगे । बुध स्वराशि कन्या  में और शुक्र व शनि एक ही राशि में विराजमान होंगे। यही नहीं ज्योतिष शास़्त्र के अनुसार भी शुक्र  प्रेम का परिचायक है। इस दिन शुक्र ग्रह मंगल की राशि वृश्चिक में  हैं जिससे संबंधों में उष्णता रहेगी।

1 . 19 अक्तूबर को करवाचौथ पर पूजा कथा तथा  चंद्रोदय का शुभ  समय मंगलवार  की रात्रि 11 बजे तक तृतीया तिथि रहेगी
2 . इसके बाद से चतुर्थी तिथि आरंभ होकर बुधवार की सायं 07 : 33 बजे  तक रहेगी ।
3.  कथा एवं पूजा का समय 17:45 से 19: 00 तक
4. चंद्र दर्शन, ट्राईसिटी चंडीगढ़, पंचकूला व मोहाली, 20: 46,अंबाला, 20:49
5 . व्रत खोलने का मुहूर्त रात्रि  चांद दिखने पर  9 बजे  के बाद होगा।
6 . चंद्र किरण 9 बजे से कुछ पहले दिखनी शुरु हो जाएगी, परंतु इस बार चंद्र दर्शन 9 बजे के बाद ही होंगे।

कैसे करें पारंपरिक व्रत
प्रातःकाल सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान करके पति, पुत्र, पत्नी तथा सुख सौभाग्य की कामना की इच्छा का संकल्प लेकर निर्जल व्रत रखें। शिव , पार्वती, गणेश  व कार्तिकेय की प्रतिमा या चित्र का पूजन करें। बाजार में मिलने वाला करवा चौथ का चित्र या कैलेंडर पूजा स्थान पर लगा लें। चंद्रोदय पर अघ्र्य दें। पूजा के बाद  तांबे या मिट्टी के करवे में चावल, उड़द की दाल भरें । सुहाग की सामग्री, कंघी, सिंदूर चूड़ियां, रिबन, रुपये आदि रखकर दान करें। सास के चरण छूकर आर्शीवाद लें और फल, फूल, मेवा, मिष्ठान, बायना, सुहाग सामग्री, 14 पूरियां, खीर आदि उन्हें भेंट करें। विवाह के प्रथम वर्ष तो यह परंपरा सास के लिए अवश्य निभाई जाती है। इससे सास, बहू के रिश्ते और मजबूत होते हैं।

यह भी पढ़े : बिस्तर में अपने साथी से कुछ ऐसा चाहती हैं लड़कियां...!!

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े : क्या आप जानते है छोटे स्तन होने के ये 10 फायदे...?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.