loading...
LIVE IPL-10 DD VS KXIP: पहले ओवर की लास्ट बॉल पर बिलिंग्स (0) रन पर हुये आउट, संजू सेमसन भीं आउट, तीन ओवर में बनाये सात रन नई करेंसी प्रिंटिंग को लेकर नहीं थम रहे मामले, 500 के नोट पर नहीं मिले गांधीजी रायपुर : अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक आर.के. विज ने सीसीटीएनएस योजना की समीक्षा देश में एक साथ चुनाव करवाना कितना फायदेमंद हो सकता है ? कैटरीना ने खोला राज, 'चिकनी चमेली' से क्यों शरमा रहे थे संजय दत्त! स्वतंत्रता सेनानी लक्ष्मीनारायण झरवाल की पार्थिव देह पंचतत्व में विलीन नौ लाख कम्पनिया नहीं दे रही है सालाना रिटर्न का ब्यौरा : हसमुख अधिया प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना: अरहर और मक्का फसल का होगा बीमा किसानों को राहत IPL-10 DD VS KXIP: किंग्स इलेवन पंजाब ने टॉस जीतकर किया बॉलिंग का फैसला, दिल्ली चायेगी प्रीति जिंटा के शेरो को रोकना जन-जागरूकता का प्रयास जरूरी आईवान ग्रेगरी मैन बने उत्तराखंड विधानसभा के एंग्लो इंडियन सदस्य Video: पहली नजर में हुआ प्यार और कर ली शादी, ऐसा है ये कपल! जानिए, कैसे रिकॉर्ड करे अपने एंड्रॉयड स्मार्टफोन की स्क्रीन जुड़वा 2 के लिए जैकलिन ने अपनाया नया अवतार लोकसभा-विधानसभा चुनाव एक साथ करवाने के पक्ष में नीति आयोग 'द कपिल शर्मा शो' में दिखेगा सुमोना का ग्लैमरस अवतार IPL के अगले सीजन में खेलेगी राजस्थान रॉयल्स और चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम ...तो इसलिए छोड़ा श्रीजीता ने ब्वायफ्रैंड को अगले 2 साल में 10 लाख घर देगा ईपीएफओ Video: 'बेवॉच' के तीसरे ट्रेलर में दिखा प्रियंका का Action Look
बच्चों की आध्यात्मिक शिक्षा (बहाई धर्म के अनुसार)
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 07:48:39 PM
1 of 1

दुनिया के बच्चों की आकांक्षाओं के एहसास और  उनकी आध्यात्मिक शिक्षा की जरूरत को समझते हुए , भारत के बहाईयों ने इन बच्चों के हमेशा बढ़ने वाले दलों के लिए प्रयासों को और अधिक विस्तृत कर, दिया जिससे कि ये बच्चों के आकर्षण का केंद्र बन सकें और सामाजिक कार्यों और आध्यात्मिकता की जड़ों को समाज में मजबूत कर सकें. बच्चो को यह समझने ने मदद करना कि वे एक विश्व-नागरिक हैं और यह उनका नैतिक  कर्त्तव्य है कि वे दूसरों की सहायता किसी जाति, रंग या नस्ल का विचार किये बिना करें.
 
बच्चे किसी भी समाज का सर्वाधिक मूल्यवान संसाधन होते हैं. बहाई मानते हैं कि  जीवन में सकारात्मक और जिम्मेदार विकल्प चुनने के लिए बच्चों की क्षमताओं के संपोषण हेतु उनका आध्यात्मिक , सामाजिक और बौद्धिक  प्रशिक्षण आवश्यक है .
"बहाउल्लाह लिखते हैं कि : "मनुष्य को मूल्यवान जवाहरात की खान के रूप में समझो और केवल शिक्षा ही इसके गुणों को बाहर ला सकती है ,इसके कोष को प्रकट कर सकती है तथा मानवजाति को उसके लाभ प्राप्त करवा सकती है".
 
बहाई सभी पृष्ठभूमि के बच्चों के लिए इन कक्षाओं का आयोजन करते हैं.  कक्षाओं का उद्धेश्य आवश्यक गुणों जैसे कि सत्यवादिता, विश्वसनीयता, ईमानदारी और न्याय  को विकसित  करना है. इसका उद्धेश्य एक मजबूत नैतिक ढांचा तैयार करना है ताकि जीवन के भौतिक, बौद्धिक , एवं आध्यात्मिक पहलू में श्रेष्ठता प्राप्त करने में बच्चों की सहायता की जाये.

वर्तमान में बच्चों के लिए 1000 से अधिक बहाई नैतिक कक्षाओं  का आयोजन देश के विभिन्न हिस्सों में किया जा रहा है.

Read more: भारत में बहाई धर्म

Read more बहाई धर्म क्या है, नियम और इस के उद्देश्य

Read more: मानव-आत्मा (बहाई धर्म के अनुसार)

Read more: उपासना (बहाई धर्म के अनुसार)

Read more : उदार जीवन (बहाई धर्म के अनुसार)



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.