पीवी सिंधू के साथ मुकाबले का बेसर्बी से इंतजार कर रही हैं कैरोलिना मारिन लावा ने लॉन्च किया मेटल बॉडी से बना फीचर फोन, कीमत 2,000 आज से 3 दिन बैंक बंद, अब यहा भी नहीं चलेंगे 500 के पुराने नोट नाईजीरिया में आत्मघाती 2 बम धमाके, 45 की मौत राजस्थान हाईकोर्ट ने रद्द किया गुर्जरों समेत 5 जातियो का आरक्षण इन सुविधाओं के साथ जल्द लॉन्च होगी हमसफर PAK को अमेरिका से मिलेगी 40 करोड डॉलर की मदद, रखी ये शर्त भोपाल जेल ब्रेक में शहीद की बेटी की शादी में पहुंचे सीएम शिवराज जूनियर हॉकी विश्व कप: इंग्लैंड के खिलाफ जीत की लय बरकरार रखने उतरेगा भारत जारी है 'ओके जानू' का फर्स्ट लुक POSTER OMG: 20 गाड़ियां आपस में टकराई, बाल-बाल बचे अभय चौटाला भ्रष्टाचार के आरोपों में साउथ कोरिया की राष्ट्रपति के खिलाफ महाभियोग पास महात्मा गांधी सीरीज के तहत 500 के नए नोट जारी करेगा रिजर्व बैंक लोढ़ा समिति की सिफारिशों पर 14 दिसंबर को सुप्रीम कोर्ट में होंगी सुनवाई आयकर विभाग ने बैंक में छापेमारीकर जब्त किए 44 फर्जी खातों से 100 करोड़ डोनाल्ड ट्रंप की जीत के पीछे रूसी हैकिंग तो नहीं, ओबामा ने दिए जांच के आदेश शशिकला ने दी अपने परिवार को पार्टी और सरकार से दूर रहने की हिदायत Sanjeevni Today: Top Stories of 9am 130 रूपए की गिरावट के साथ सोना 28,580 पर पहुंचा नोटबंदी के बाद सरकार ने किया बड़ा ऐलान, जल्द आएंगे प्लास्टिक के नए नोट
बच्चों की आध्यात्मिक शिक्षा (बहाई धर्म के अनुसार)
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 07:48:39 PM
1 of 1

दुनिया के बच्चों की आकांक्षाओं के एहसास और  उनकी आध्यात्मिक शिक्षा की जरूरत को समझते हुए , भारत के बहाईयों ने इन बच्चों के हमेशा बढ़ने वाले दलों के लिए प्रयासों को और अधिक विस्तृत कर, दिया जिससे कि ये बच्चों के आकर्षण का केंद्र बन सकें और सामाजिक कार्यों और आध्यात्मिकता की जड़ों को समाज में मजबूत कर सकें. बच्चो को यह समझने ने मदद करना कि वे एक विश्व-नागरिक हैं और यह उनका नैतिक  कर्त्तव्य है कि वे दूसरों की सहायता किसी जाति, रंग या नस्ल का विचार किये बिना करें.
 
बच्चे किसी भी समाज का सर्वाधिक मूल्यवान संसाधन होते हैं. बहाई मानते हैं कि  जीवन में सकारात्मक और जिम्मेदार विकल्प चुनने के लिए बच्चों की क्षमताओं के संपोषण हेतु उनका आध्यात्मिक , सामाजिक और बौद्धिक  प्रशिक्षण आवश्यक है .
"बहाउल्लाह लिखते हैं कि : "मनुष्य को मूल्यवान जवाहरात की खान के रूप में समझो और केवल शिक्षा ही इसके गुणों को बाहर ला सकती है ,इसके कोष को प्रकट कर सकती है तथा मानवजाति को उसके लाभ प्राप्त करवा सकती है".
 
बहाई सभी पृष्ठभूमि के बच्चों के लिए इन कक्षाओं का आयोजन करते हैं.  कक्षाओं का उद्धेश्य आवश्यक गुणों जैसे कि सत्यवादिता, विश्वसनीयता, ईमानदारी और न्याय  को विकसित  करना है. इसका उद्धेश्य एक मजबूत नैतिक ढांचा तैयार करना है ताकि जीवन के भौतिक, बौद्धिक , एवं आध्यात्मिक पहलू में श्रेष्ठता प्राप्त करने में बच्चों की सहायता की जाये.

वर्तमान में बच्चों के लिए 1000 से अधिक बहाई नैतिक कक्षाओं  का आयोजन देश के विभिन्न हिस्सों में किया जा रहा है.

Read more: भारत में बहाई धर्म

Read more बहाई धर्म क्या है, नियम और इस के उद्देश्य

Read more: मानव-आत्मा (बहाई धर्म के अनुसार)

Read more: उपासना (बहाई धर्म के अनुसार)

Read more : उदार जीवन (बहाई धर्म के अनुसार)



0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.