किसानों को मिलेगा फायदा, जीएसटी के तहत उर्वरकों कीमतों में आई कमी प्रो कबड्डी लीग: यू-मुंबा ने यूपी योद्धा को 37-34 से दी मात प्रेगनेंसी में सोहा को इस तरह हेल्दी गिफ्ट्स भेज रही हैं भाभी करीना कोटा में अभय कमाण्ड सेंटर का हुआ उद्घाटन, स्मार्ट बनी राजस्थान पुलिस छात्रा की गला घोटकर कर दी हत्या, आरोपी को किया गिरफ्तार 15 साल के इस लड़के की फेरारी कार देख एक्साइटेड हुए सलमान कोच विमल कुमार ने कहा- साइना नेहवाल के लिए सुर्खियों से दूर रहना ठीक अकमल ने कोच आर्थर पर लगाया दुर्व्यवहार का आरोप, PCB ने दिया नोटिस शहरी व ग्रामीण इलाकों में अब मिलेगा एक समान केरोसीन फिल्म 'जुडवां 2' का नया पोस्‍टर हुआ जारी, इस दिन रिलीज होगा फिल्म का ट्रेलर शूटिंग रेंज में ततैयों का हमला, शूटर लवलीन कौर घायल मेट्रो में सफर करने वाली एक युवती का बनाया वीडियो, आरोपी के खिलाफ दर्ज FIR कोटा का हवाई सपना साकार, कोटा से जयपुर इंट्रा स्टेट हवाई सेवा शुरू अवार्ड के लिए कई कोचों की सिफारिश करने वाले एथलीट हो दंडित: अखिल MI के फ़ोन में फिर हुआ धमाका, पूरा परिवार सदमे में बोल्ड ड्रेस में डायरेक्टर के पास पहुंची सारा, इस फिल्म से करेगी बॉलीवुड में डेब्यू पद्म पुरस्कारों के लिये नामांकन की अंतिम तारीख 15 सितंबर नोटों को बिस्तर पर बिछाकर ये बॉक्सर करता है नींद पूरी अगर आपको आधार कार्ड में कुछ अपडेट करने है तो ये तरीके अपनायें राजस्थान को बनाना होगा खुले में शौच से मुक्त: राजेंद्र राठौड़
बच्चों की आध्यात्मिक शिक्षा (बहाई धर्म के अनुसार)
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 07:48:39 PM
1 of 1

दुनिया के बच्चों की आकांक्षाओं के एहसास और  उनकी आध्यात्मिक शिक्षा की जरूरत को समझते हुए , भारत के बहाईयों ने इन बच्चों के हमेशा बढ़ने वाले दलों के लिए प्रयासों को और अधिक विस्तृत कर, दिया जिससे कि ये बच्चों के आकर्षण का केंद्र बन सकें और सामाजिक कार्यों और आध्यात्मिकता की जड़ों को समाज में मजबूत कर सकें. बच्चो को यह समझने ने मदद करना कि वे एक विश्व-नागरिक हैं और यह उनका नैतिक  कर्त्तव्य है कि वे दूसरों की सहायता किसी जाति, रंग या नस्ल का विचार किये बिना करें.
 
बच्चे किसी भी समाज का सर्वाधिक मूल्यवान संसाधन होते हैं. बहाई मानते हैं कि  जीवन में सकारात्मक और जिम्मेदार विकल्प चुनने के लिए बच्चों की क्षमताओं के संपोषण हेतु उनका आध्यात्मिक , सामाजिक और बौद्धिक  प्रशिक्षण आवश्यक है .
"बहाउल्लाह लिखते हैं कि : "मनुष्य को मूल्यवान जवाहरात की खान के रूप में समझो और केवल शिक्षा ही इसके गुणों को बाहर ला सकती है ,इसके कोष को प्रकट कर सकती है तथा मानवजाति को उसके लाभ प्राप्त करवा सकती है".
 
बहाई सभी पृष्ठभूमि के बच्चों के लिए इन कक्षाओं का आयोजन करते हैं.  कक्षाओं का उद्धेश्य आवश्यक गुणों जैसे कि सत्यवादिता, विश्वसनीयता, ईमानदारी और न्याय  को विकसित  करना है. इसका उद्धेश्य एक मजबूत नैतिक ढांचा तैयार करना है ताकि जीवन के भौतिक, बौद्धिक , एवं आध्यात्मिक पहलू में श्रेष्ठता प्राप्त करने में बच्चों की सहायता की जाये.

वर्तमान में बच्चों के लिए 1000 से अधिक बहाई नैतिक कक्षाओं  का आयोजन देश के विभिन्न हिस्सों में किया जा रहा है.

Read more: भारत में बहाई धर्म

Read more बहाई धर्म क्या है, नियम और इस के उद्देश्य

Read more: मानव-आत्मा (बहाई धर्म के अनुसार)

Read more: उपासना (बहाई धर्म के अनुसार)

Read more : उदार जीवन (बहाई धर्म के अनुसार)



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.