loading...
इतिहास के पन्नों से- आखिर क्यों भारत छोड़ने को उतारू थी ताकतवर प्रधानमंत्रियों में से एक इंदिरा गाँधी! आज का राशिफल (24 मार्च 2017, शुक्रवार) जानिए नवरात्रों में क्यों रखते हैं 9 दिन तक उपवास, क्या हैं महत्व! क्या कोलंबस ने ही की थी अमेरिका की खोज, जानिए क्या कहता हैं इतिहास! जानिए बाल छोटे क्यों रखते हैं सैनिक! शारीरिक संबंधों को बेहतर बनाने के लिए रात को तेज आवाज में सुने संगीत! LG ने भारत में लॉन्च किया Stylus 3, फीचर्स और कैमरा हैं खासियत Take a Selfie: दोस्तों के साथ सेल्फी लेने से बढ़ती हैं खुशियां! खौफनाक मंजर.. प्यार के लिए सिर झुकाकर खाई छड़ी से मार! दावा: इस तरीके से रेगिस्तान को बनाया जा सकता हैं उपजाऊ! जानिए मन में क्यों आते हैं अजीब विचार, क्या कहते थे सर आइंस्टीन? Amazing: इस मंदिर में जलाया जाता हैं घी की जगह पानी का दीपक! पीलिया पीड़ित मरीजों के लिए बेहतर इलाज हैं चींटी का डंक! सीएम योगी एक्शन का असर, प्रशासन चुस्त-दुरुस्त, कई विभागों से मचा हुआ हैं हड़कंप! अमेरिका की 271 अवैध लोगों की सूची को भारत ने किया अस्वीकार एक्सेल एंटरटेनमेंट फिल्म 'गोल्ड' में हॉकी कोच बनेंगे कुणाल एसवाईएल मुद्दे पर शुक्रवार को राजनाथ से मिलेगा हरियाणा का सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल पुलिस वाहन चालक की हत्या के मामले में दो गिरफ्तार सपा राज में बने आगरा-लख़नऊ एक्सप्रेस वे समेत सभी सड़कों की जांच कराएगी UP सरकार होमगार्ड के प्लाटून कमांडर को 3 हजार की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा
बच्चों की आध्यात्मिक शिक्षा (बहाई धर्म के अनुसार)
sanjeevnitoday.com | Tuesday, October 18, 2016 | 07:48:39 PM
1 of 1

दुनिया के बच्चों की आकांक्षाओं के एहसास और  उनकी आध्यात्मिक शिक्षा की जरूरत को समझते हुए , भारत के बहाईयों ने इन बच्चों के हमेशा बढ़ने वाले दलों के लिए प्रयासों को और अधिक विस्तृत कर, दिया जिससे कि ये बच्चों के आकर्षण का केंद्र बन सकें और सामाजिक कार्यों और आध्यात्मिकता की जड़ों को समाज में मजबूत कर सकें. बच्चो को यह समझने ने मदद करना कि वे एक विश्व-नागरिक हैं और यह उनका नैतिक  कर्त्तव्य है कि वे दूसरों की सहायता किसी जाति, रंग या नस्ल का विचार किये बिना करें.
 
बच्चे किसी भी समाज का सर्वाधिक मूल्यवान संसाधन होते हैं. बहाई मानते हैं कि  जीवन में सकारात्मक और जिम्मेदार विकल्प चुनने के लिए बच्चों की क्षमताओं के संपोषण हेतु उनका आध्यात्मिक , सामाजिक और बौद्धिक  प्रशिक्षण आवश्यक है .
"बहाउल्लाह लिखते हैं कि : "मनुष्य को मूल्यवान जवाहरात की खान के रूप में समझो और केवल शिक्षा ही इसके गुणों को बाहर ला सकती है ,इसके कोष को प्रकट कर सकती है तथा मानवजाति को उसके लाभ प्राप्त करवा सकती है".
 
बहाई सभी पृष्ठभूमि के बच्चों के लिए इन कक्षाओं का आयोजन करते हैं.  कक्षाओं का उद्धेश्य आवश्यक गुणों जैसे कि सत्यवादिता, विश्वसनीयता, ईमानदारी और न्याय  को विकसित  करना है. इसका उद्धेश्य एक मजबूत नैतिक ढांचा तैयार करना है ताकि जीवन के भौतिक, बौद्धिक , एवं आध्यात्मिक पहलू में श्रेष्ठता प्राप्त करने में बच्चों की सहायता की जाये.

वर्तमान में बच्चों के लिए 1000 से अधिक बहाई नैतिक कक्षाओं  का आयोजन देश के विभिन्न हिस्सों में किया जा रहा है.

Read more: भारत में बहाई धर्म

Read more बहाई धर्म क्या है, नियम और इस के उद्देश्य

Read more: मानव-आत्मा (बहाई धर्म के अनुसार)

Read more: उपासना (बहाई धर्म के अनुसार)

Read more : उदार जीवन (बहाई धर्म के अनुसार)



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.