नागिन 2 की एक्ट्रेस आशका गोराडिया- ब्रेंट गोबले की शादी की डेट आउट हरमनप्रीत को सचिन की मदद से डायना ने दिलाई प. रेलवे में नौकरी अब रिलायंस इंडस्ट्रीज के शेयर धारक बनेगे करोड़पति अनोखा गांव: यहां प्लास्टिक की बोतलों से बने हुए है घर! अनुष्का शर्मा ने कहा, मुझे बॉलीवुड में भाई-भतीजावाद जैसी किसी चीज का सामना नहीं करना पड़ा लालू-राबड़ी को नहीं मिलेगी अब पटना एयरपोर्ट पर वीवीआईपी सुरक्षा SLC प्रेसिडेंट इलेवन का प्रैक्टिस मैच ड्रॉ, कोहली-राहुल ने ठोके अर्धशतक अनोखा होटल: यहां मरे हुए लोगों को दी जाती है ये खास सुविधाएं भाभी संग मिलकर पति ने पत्नी को जिन्दा जलाया इस औरत के शौक के बारें में जानकर आप भी रह जाएंगे हैरान! BCCI का भारतीय महिला टीम को तोहफा, देंगे 50-50 लाख करीना कपूर के मस्तमौला किरदार ने अनुष्‍का को किया प्रेरित ग्राहकों को कैशबैक में सोना देगा Paytm आज राहुल संग मीटिंग और मोदी संग डिनर करेंगे नितीश चिकन मोमोज़ में मिलाया जा रहा है कुत्ते का मांस राजस्थान के भाजपा सांसद सांवरमल जाट की अमित शाह की मीटिंग के दौरान बिगड़ी तबीयत देखिए VIDEO OMG: इन जुड़वां बेटियों की मां तो एक ही है पर पिता... फॉर्च्‍यून 2017 की टॉप-500 ग्‍लोबल कंपनियों की लिस्‍ट जारी मिताली-वेदा ने हरमनप्रीत की पारी देखकर किया डांस, कैमरा देख शरमाई एक ऐसी जेल, जहां जाने से थर-थर कांपते थे कैदी!
भगवान शिव के दिव्य स्वरूप से जुडी कुछ रहस्यात्मक बाते
sanjeevnitoday.com | Monday, July 17, 2017 | 09:30:46 AM
1 of 1

 

डेस्क।  शिव का रूप-स्वरूप जितना विचित्र है, उतना ही आकर्षक भी। शिव जो धारण करते हैं, उनके भी बड़े व्यापक अर्थ हैं।

1. जटाएं -  शिव की जटाएं अंतरिक्ष का प्रतीक हैं। घने बादलों से काली और उलझी जटाओं में चंद्रमा विराजमान है। इन्हीं से गंगा का अवतरण भी हुआ है। तो यह अनंत अंतरिक्ष का प्रतीक हैं।   

2 . चंद्र - चंद्रमा मन का प्रतीक है। शिव का मन चांद की तरह भोला, निर्मल, उज्ज्वल और जाग्रत है। इसके के बारे में में एक कथा जुडी है एक बार  चंद्र क्षय रोग से पीड़ित होकर मृत्युतुल्य कष्टों को भोग रहे थे। भगवान शिव ने उस दोष का निवारण कर उन्हें पुन:जीवन प्रदान किया अत: हमें उस शिव की आराधना करनी चाहिए जिन्होंने मृत्यु को पहुंचे हुए चंद्र को मस्तक पर धारण किया था।

3 . त्रिनेत्र - शिव की तीन आंखें हैं। इसीलिए इन्हें त्रिलोचन भी कहते हैं। शिव की ये आंखें सत्व, रज, तम (तीन गुणों), भूत, वर्तमान, भविष्य (तीन कालों), स्वर्ग, मृत्यु पाताल (तीनों लोकों) का प्रतीक हैं।

4 . सर्पहार - सर्प जैसा हिंसक जीव शिव के अधीन है। सर्प तमोगुणी व संहारक जीव है, जिसे शिव ने अपने वश में कर रखा है।

5 . त्रिशूल - शिव के हाथ में एक मारक शस्त्र है। त्रिशूल भौतिक, दैविक, आध्यात्मिक इन तीनों तापों को नष्ट करता है।

6 . डमरू - शिव के एक हाथ में डमरू है, जिसे वह तांडव नृत्य करते समय बजाते हैं। डमरू का नाद ही ब्रह्मा रूप है।

7 . मुंडमाला - शिव के गले में मुंडमाला है, जो इस बात का प्रतीक है कि शिव ने मृत्यु को वश में किया हुआ है।

8 . छाल - शिव ने शरीर पर व्याघ्र चर्म यानी बाघ की खाल पहनी हुई है। व्याघ्र हिंसा और अहंकार का प्रतीक माना जाता है। इसका अर्थ है कि शिव ने हिंसा और अहंकार का दमन कर उसे अपने नीचे दबा लिया है।

9. भस्म - शिव के शरीर पर भस्म लगी होती है। शिवलिंग का अभिषेक भी भस्म से किया जाता है। भस्म का लेप बताता है कि यह संसार नश्वर है।

10 वृषभ - शिव का वाहन वृषभ यानी बैल है। वह हमेशा शिव के साथ रहता है। वृषभ धर्म का प्रतीक है। महादेव इस चार पैर वाले जानवर की सवारी करते हैं, जो बताता है कि धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष उनकी कृपा से ही मिलते हैं।


इस तरह शिव-स्वरूप हमें बताता है कि उनका रूप विराट और अनंत है, महिमा अपरंपार है। उनमें ही सारी सृष्टि समाई हुई है।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.