दुनिया में एक ऐसी जगह जहां पैदा होते हैं सिर्फ जुड़वां बच्चे एशिया-यूरोप बैठक: उद्घाटन करेंगी आंग सान सू की, हिस्सा लेंगे 51 देश कोलकाता टेस्ट ड्रा: टीम इंडिया की उम्मींद टूटी, श्रीलंका ने गवाए 75/7 हिमाचल प्रदेश के ऊंचे इलाकों में फिर से बर्फबारी, देखें वीडियो महिला टीचर ने छात्रों को बनाया अपनी हवस का शिकार कोलकाता टेस्ट LIVE: भुवनेश्‍वर ने डिकवेला को किया LBW आउट, 69 रन पर गिरे 6 विकेट कोलकाता टेस्ट LIVE: भारत को मो. शमी ने दिलाई पांचवी सफलता, चंदीमल (22) आउट PM नरेंद्र मोदी की इंटरप्रिटेटर, सोशल मीडिया पर तस्वीर चर्चा में पद्मावती: बीजेपी नेता ने कहा- पीएम मोदी अपनी ताकत का इस्‍तेमाल कर रोकें फिल्‍म, देखें वीडियो कोलकाता टेस्ट: विराट ने जड़ा शतक, गांगुली और गावस्कर का तोड़ा रिकॉर्ड टिकट काउंटर पर भीड़ कम करने के लिए रेलवे ने जारी किया नया नियम कोलकाता टेस्ट LIVE: श्रीलंका टीम लड़खड़ाई, 22 रन पर गवाए 4 विकेट 2008 से पैरालिसिस के शिकार कांग्रेस नेता प्रियरंजन दास मुंशी का निधन 'पद्मावती' को लेकर सीएम शिवराज ने दिया ये बड़ा बयान... 'मेरे प्यारे प्राइम मिनिस्टर' का पोस्टर हुआ रिलीज मुकुल रॉय फोन टेपिंग मामला: केंद्र सरकार और पश्चिम बंगाल सरकार को HC का नोटिस जारी IND vs SL Live: विराट ने बनाया 18वां शतक, भारत ने 352 रन बनाकर दूसरी पारी की घोषित हल्की ठण्ड के साथ बढ़े अण्डों के दाम, 15 प्रतिशत की हुई बढ़ोतरी गुजरात विधानसभा चुनाव: बीजेपी की 28 उम्मीदवारों की तीसरी लिस्ट जारी भारत का आकड़ा 300 के पार, शतक के नजदीक विराट
नए मकान की नींव में इसलिए ही गाड़ा जाता है सर्प और कलश : बहुत दिलचस्प है वजह
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 06:58:21 AM
1 of 1

नई दिल्ली। ऐसा माना जाता है कि जमीन के नीचे पाताल लोक है और इसके स्वामी शेषनाग हैं। पौराणिक ग्रंथों में शेषनाग के फण पर पृथ्वी टिकी होने का उल्लेख मिलता है।शेषं चाकल्पयद्देवमनन्तं विश्वरूपिणम्।। यो धारयति भूतानि धरां चेमां सपर्वताम्।। इन परमदेव ने विश्वरूप अनंत नामक देवस्वरूप शेषनाग को पैदा किया, जो पहाड़ों सहित सारी पृथ्वी को धारण किए है। उल्लेखनीय है कि हजार फणों वाले शेषनाग सभी नागों के राजा हैं। भगवान की शय्या बनकर सुख पहुंचाने वाले, उनके अनन्य भक्त हैं। बहुत बार भगवान के साथ-साथ अवतार लेकर उनकी लीला में भी साथ होते हैं। श्रीमद्भागवत के 10 वे अध्याय के 29 वें श्लोक में भगवान कृष्ण ने कहा है- अनन्तश्चास्मि नागानां यानी मैं नागों में शेषनाग हूं।

शेषनाग अपने फण पर पूरी पृथ्वी को धारण किए

नींव पूजन का पूरा कर्मकांड इस मनोवैज्ञानिक विश्वास पर आधारित है कि जैसे शेषनाग अपने फण पर पूरी पृथ्वी को धारण किए हुए हैं, ठीक उसी तरह मेरे इस घर की नींव भी प्रतिष्ठित किए हुए चांदी के नाग के फण पर पूरी मजबूती के साथ स्थापित रहे। शेषनाग क्षीरसागर में रहते हैं। इसलिए पूजन के कलश में दूध, दही, घी डालकर मंत्रों से आह्वान पर शेषनाग को बुलाया जाता है, ताकि वे घर की रक्षा करें। विष्णुरूपी कलश में लक्ष्मी स्वरूप सिक्का डालकर फूल और दूध पूजा में चढ़ाया जाता है, जो नागों को सबसे ज्यादा प्रिय है। भगवान शिवजी के आभूषण तो नाग हैं ही। लक्ष्मण और बलराम भी शेषावतार माने जाते हैं। इसी विश्वास से यह प्रथा जारी है।

यह भी पढ़े : 3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत

यह भी पढ़े : पर्दा प्रथा ! भारत में इस तरह शुरुआत हुई पर्दा प्रथा की, बड़ी दिलचस्प है वजह

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.