loading...
एलेन बॉर्डर मेडल: लगातार दूसरी बार सर्वश्रेष्ठ ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर बने डेविड वॉर्नर टीम इंडिया में चयन बहुत बड़ी ख़ुशी बात, फिर भी निराश हैं परवेज रसूल, जानिए क्यों? भाजपा ने किया 'डिजी युवा' अभियान का शुभारंभ कश्मीर में आतंकी ठिकानों का भंडाफोड़ दिल्ली के लिए शुरू हुआ शाहरुख खान का रेल सफर भतीजे की गला रेत कर हत्या राष्ट्रपति ने किया करौली के सोनू का सम्मान मेरी एक बेहद यादगार गजल नक्श लायलपुरी ने लिखी थी: लता मंगेशकर गेंहू उपार्जन में गड़बड़ी करने वालों पर करें कड़ी कार्रवाई : शिवराज मिश्रित मार्शल आर्ट्स लीग से जुड़े टाइगर श्रॉफ सोशल मीडिया पर छा गए अमिताभ बच्चन प्रधानमंत्री ने 25 बच्चों को वीरता पुरस्कार से सम्मानित किया किंग्स इलेवन पंजाब के रणनीतिकार होंगे सहवाग गोरखपुर: रेलवे स्टेशन उड़ाने की धमकी से मचा हड़कंप भाजपा को उत्तर प्रदेश में मिलेगा दो-तिहाई बहुमत : अमित शाह सलमान के बरी होने पर डेजी ने जताई ख़ुशी देश और समाज के लिए कार्य करें स्वयंसेवक : मोहन भागवत यूपी चुनाव: अखिलेश-राहुल मिलकर करेंगे 14 रैलियां दहेज के लिए विवाहिता की गला दबा कर हत्या टीम इंडिया के खिलाफ आक्रामक अंदाज में खेलना होगा: स्मिथ
नए मकान की नींव में इसलिए ही गाड़ा जाता है सर्प और कलश : बहुत दिलचस्प है वजह
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 06:58:21 AM
1 of 1

नई दिल्ली। ऐसा माना जाता है कि जमीन के नीचे पाताल लोक है और इसके स्वामी शेषनाग हैं। पौराणिक ग्रंथों में शेषनाग के फण पर पृथ्वी टिकी होने का उल्लेख मिलता है।शेषं चाकल्पयद्देवमनन्तं विश्वरूपिणम्।। यो धारयति भूतानि धरां चेमां सपर्वताम्।। इन परमदेव ने विश्वरूप अनंत नामक देवस्वरूप शेषनाग को पैदा किया, जो पहाड़ों सहित सारी पृथ्वी को धारण किए है। उल्लेखनीय है कि हजार फणों वाले शेषनाग सभी नागों के राजा हैं। भगवान की शय्या बनकर सुख पहुंचाने वाले, उनके अनन्य भक्त हैं। बहुत बार भगवान के साथ-साथ अवतार लेकर उनकी लीला में भी साथ होते हैं। श्रीमद्भागवत के 10 वे अध्याय के 29 वें श्लोक में भगवान कृष्ण ने कहा है- अनन्तश्चास्मि नागानां यानी मैं नागों में शेषनाग हूं।

शेषनाग अपने फण पर पूरी पृथ्वी को धारण किए

नींव पूजन का पूरा कर्मकांड इस मनोवैज्ञानिक विश्वास पर आधारित है कि जैसे शेषनाग अपने फण पर पूरी पृथ्वी को धारण किए हुए हैं, ठीक उसी तरह मेरे इस घर की नींव भी प्रतिष्ठित किए हुए चांदी के नाग के फण पर पूरी मजबूती के साथ स्थापित रहे। शेषनाग क्षीरसागर में रहते हैं। इसलिए पूजन के कलश में दूध, दही, घी डालकर मंत्रों से आह्वान पर शेषनाग को बुलाया जाता है, ताकि वे घर की रक्षा करें। विष्णुरूपी कलश में लक्ष्मी स्वरूप सिक्का डालकर फूल और दूध पूजा में चढ़ाया जाता है, जो नागों को सबसे ज्यादा प्रिय है। भगवान शिवजी के आभूषण तो नाग हैं ही। लक्ष्मण और बलराम भी शेषावतार माने जाते हैं। इसी विश्वास से यह प्रथा जारी है।

यह भी पढ़े : 3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत

यह भी पढ़े : पर्दा प्रथा ! भारत में इस तरह शुरुआत हुई पर्दा प्रथा की, बड़ी दिलचस्प है वजह

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.