आरोपी फलाहारी बाबा के आश्रम से मिली सीडी और महिलाओं के आभूषण वीडियो: इन लड़कियों का ऐसा डांस देख आप भी रह जाएंगे दंग यूपी: सपा का 8वां राज्य सम्मेलन शुरू, नरेश उत्तम बने नए प्रदेश अध्यक्ष ईरान ने अमेरिका की चेतावनी को किया नजर अंदाज 23 सितम्बर को कच्चे तेल की अंतर्राष्ट्रीय कीमत 55.51 डॉलर रही मुंबई में पेट्रोल की कीमतों में हो रही वृद्धि के खिलाफ शिवसेना का प्रदर्शन, दो सांसद हिरासत में परिवार के साथ काजोल ने की दुर्गा पूजा, देखें तस्वीरें वीडियो: लड़का सरेआम कर रहा लड़की की पिटाई, इंसानियत को शर्मसार प्रद्युम्न मर्डर केसः CBI की टीम पहुंची रेयान स्कूल, शुरू हुई इनवेस्टिगेशन वीडियो: नई नवेली दुल्हन के इस डांस को देख आप चौंक जाएंगे वीडियो: पूनम पांडे की इन HOT अदाओं ने सोशल मीडिया पर मचाया तहलका वर्तमान आर्थिक हालात पर नहीं थी नोटबंदी की आवश्यकता: मनमोहन सिंह #LIVE वाराणसी: PM मोदी बोले- 2022 तक हर बेघर को देंगे घर इस तरह के पेड़ों को देख आप भी रह जाएंगे हैरान नहर में मिला माँ-बेटी का शव, असलियत आई सामने केरल के खेल मंत्री ने फीफा अंडर-17 वर्ल्ड कप का किया उद्घाटन अनोखा मंदिर: यहां फर्श पर सोते ही प्रेग्नेंट हो जाती हैं औरतें IT विभाग: छापेमारी में आयकर अधिकारी से पहले पहचान पत्र और वारंट की करे जांच Box Office: संजय दत्त की कमबैक फिल्म 'भूमि' ने की धीमी शुरआत, कमाए इतने करोड़ LIVE वाराणसी: PM नरेंद्र मोदी बोले- वोट बैंक के लिए काम करना कुछ लोगों का स्वभाव
नए मकान की नींव में इसलिए ही गाड़ा जाता है सर्प और कलश : बहुत दिलचस्प है वजह
sanjeevnitoday.com | Friday, December 2, 2016 | 06:58:21 AM
1 of 1

नई दिल्ली। ऐसा माना जाता है कि जमीन के नीचे पाताल लोक है और इसके स्वामी शेषनाग हैं। पौराणिक ग्रंथों में शेषनाग के फण पर पृथ्वी टिकी होने का उल्लेख मिलता है।शेषं चाकल्पयद्देवमनन्तं विश्वरूपिणम्।। यो धारयति भूतानि धरां चेमां सपर्वताम्।। इन परमदेव ने विश्वरूप अनंत नामक देवस्वरूप शेषनाग को पैदा किया, जो पहाड़ों सहित सारी पृथ्वी को धारण किए है। उल्लेखनीय है कि हजार फणों वाले शेषनाग सभी नागों के राजा हैं। भगवान की शय्या बनकर सुख पहुंचाने वाले, उनके अनन्य भक्त हैं। बहुत बार भगवान के साथ-साथ अवतार लेकर उनकी लीला में भी साथ होते हैं। श्रीमद्भागवत के 10 वे अध्याय के 29 वें श्लोक में भगवान कृष्ण ने कहा है- अनन्तश्चास्मि नागानां यानी मैं नागों में शेषनाग हूं।

शेषनाग अपने फण पर पूरी पृथ्वी को धारण किए

नींव पूजन का पूरा कर्मकांड इस मनोवैज्ञानिक विश्वास पर आधारित है कि जैसे शेषनाग अपने फण पर पूरी पृथ्वी को धारण किए हुए हैं, ठीक उसी तरह मेरे इस घर की नींव भी प्रतिष्ठित किए हुए चांदी के नाग के फण पर पूरी मजबूती के साथ स्थापित रहे। शेषनाग क्षीरसागर में रहते हैं। इसलिए पूजन के कलश में दूध, दही, घी डालकर मंत्रों से आह्वान पर शेषनाग को बुलाया जाता है, ताकि वे घर की रक्षा करें। विष्णुरूपी कलश में लक्ष्मी स्वरूप सिक्का डालकर फूल और दूध पूजा में चढ़ाया जाता है, जो नागों को सबसे ज्यादा प्रिय है। भगवान शिवजी के आभूषण तो नाग हैं ही। लक्ष्मण और बलराम भी शेषावतार माने जाते हैं। इसी विश्वास से यह प्रथा जारी है।

यह भी पढ़े : 3 तलाक के विरोध में जज को लिख डाला खून से खत

यह भी पढ़े : पर्दा प्रथा ! भारत में इस तरह शुरुआत हुई पर्दा प्रथा की, बड़ी दिलचस्प है वजह

यह भी पढ़े: इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.