loading...
अनुष्का की तारीफ करते हुए शाहरुख़ ने कहा- असंभव पर भरोसा बनाये रखो लीबिया के पास, भूमध्य सागर में नाव डूबी, 250 अफ्रीकन माइग्रेंट्स के मारे जाने का शक पति के साथ CM योगी आदित्यनाथ से मिलने पहुंचीं अपर्णा यादव धोनी ने संन्यास को लेकर दिया ये बड़ा बयान, कहा... डॉलर के मुकाबले रुपए में हुई 4 बढ़ोतरी DGP जावीद अहमद ने जारी किया फरमान, आइजी करें थानों का औचक निरीक्षण Airtel करेगी तिकोना नेटवर्क्स के 4G बिजनेस का अधिग्रहण मोदी दिखे अलग अंदाज़ में जिन्हें देखकर यूपी के BJP सांसद भी हुए हैरान यूपी बोर्ड परीक्षा: विज्ञान के इम्तिहान में 58 हजार ने छोड़ी परीक्षा पुणे की टीम में मिशेल मार्श की जगह टीम में शामिल हुआ ये खिलाड़ी क्रेडिट कार्ड सेवा को बंद करने के लिए काटा 5 पैसे का चेक 'बेवॉच' का दूसरा ट्रेलर हुआ लॉन्च एंटी रोमियो स्क्वॉयड के बाद भी लेडी IPS अफसर के मुंह पर छोड़ा सिगरेट का धुआं, फिर... विधानसभाउपाध्यक्ष ने संसदीय प्रक्रियाओं के उल्लंघन करने पर जबरदस्त नाराजगी की जाहिर स्वास्थ्य सेवा में ‘बेहतरीन’ काम कर रही हैं भारतीय-अमेरिकी सीमा वर्मा : ट्रंप अवैध नॉन बैंकिंग कंपनियों पर होगी कार्रवाई ट्रिप एडवायर्स की सूची में जयपुर ने को मिला स्थान कपिल के खिलाफ दायर FIR पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाया UP: 100 से साल ज्यादा पुराना ‘टुंडे कबाबी’ रेस्त्रा पर मंडराया बंद होने का खतरा जयपुर की सेंट्रल जेल के कैदी सलाखों के पीछे रहते हुए भी बना ली एक अलग पहचान, जानिए...
चीन में इस नाम से खिलता है ब्रह्म कमल, जानिए इस जुड़ी मान्यताएं...
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 02:41:40 PM
1 of 1

नई दिल्ली। ब्रह्म कमल सुंदर, सुगंधित और दिव्य फूल है। देवताओं का प्रिय यह फूल, आधी रात को खिलता है। वनस्पति शास्त्र में ब्रह्म कमल की 31 प्रजातियां बताई गईं हैं। यह फूल हिमालय पर खिलता है। चीन में भी ब्रह्म कमल खिलता है जिसे यहां 'तानहुआयिझियान' कहते हैं जिसका अर्थ है प्रभावशाली लेकिन कम समय तक ख्याति रखने वाला। इसका वानस्पतिक नाम 'साउसुरिया ओबुवालाटा' है। वर्ष में केवल जुलाई-सितंबर के बीच खिलने वाला यह फूल मध्य रात्रि में बंद हो जाता है। ब्रह्म कमल औषधीय गुणों से भरपूर है। इसे सुखाकर कैंसर रोग की दवा में उपयोग किया जाता है।

 

तो वहीं, इससे निकलने वाले पानी को पीने से थकान मिट जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ब्रह्म कमल देवी नंदा का प्रिय पुष्प है, इसलिए इसे नंदाष्टमी के समय में तोड़ा जाता है और इसके तोडने के भी सख्त नियम होते है। ब्रह्मकमल को अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग नामों से जाना जाता है जैसे उत्तरखंड में ब्रह्मकमल, हिमाचल में दूधाफूल, कश्मीर में गलगल और उत्तर-पश्चिमी भारत में बरगनडटोगेस। उत्तराखंड और हिमालय पर पाया जाने वाले ब्रह्म कमल को हिमाचल प्रदेश में 'दूधाफूल', कश्मीर में 'गलगल', श्रीलंका में 'कदुफूल' और जापान में 'गेक्का विजन' कहते हैं। ब्रह्म कमल का पौधा पानी में नहीं, बल्कि जमीन पर ही होता है।

ब्रह्म कमल से जुड़ी मान्यताएं...

कहते हैं ब्रह्मा का सृजन ही ब्रह्मकमल है। इसके पीछे एक पौराणिक कहानी का उल्लेख मिलता है। किंवदंती है कि माता पार्वती ने जब गणेश जी का सृजन किया तो भोलेनाथ बाहर गए हुए थे। माता पार्वती स्नान कर रही थीं और उन्होंने गणेश को घर के बाहर पहरा देने के लिए कहा। तभी शिव वहां आए। गणेश ने उन्हें अंदर नहीं आने दिया। हुआ यूं कि क्रोध में शिव ने गणेश का सिर त्रिशूल से काट दिया। जब माता पार्वती को पता चला तो वह बहुत गुस्सा हुईं। लेकिन जब उन्हें वास्तविक स्थिति का पता चला तो तो ब्रह्मा जी से आग्रह किया इसके बाद ब्रह्मा ने ब्रह्म कमल का सृजन किया। जिसकी मदद से गणेश जी का सिर हाथी के सिर के रूप में जोड़ा गया।

यह भी पढ़े: यहां पर हवाई सफर से भी महंगा है बैलगाड़ी का किराया!

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े: ये लड़की बिलकुल सामान्य थी 10 साल तक और अब..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.