loading...
फर्जी शस्त्र लाइसेंस के मामले में सोहा अली खान पर एफआइआर दर्ज करने के आदेश! LIVE IPL-10 DD VS KXIP: पहले ओवर की लास्ट बॉल पर बिलिंग्स (0) रन पर हुये आउट, संजू सेमसन भीं आउट, तीन ओवर में बनाये सात रन नई करेंसी प्रिंटिंग को लेकर नहीं थम रहे मामले, 500 के नोट पर नहीं मिले गांधीजी रायपुर : अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक आर.के. विज ने सीसीटीएनएस योजना की समीक्षा देश में एक साथ चुनाव करवाना कितना फायदेमंद हो सकता है ? कैटरीना ने खोला राज, 'चिकनी चमेली' से क्यों शरमा रहे थे संजय दत्त! स्वतंत्रता सेनानी लक्ष्मीनारायण झरवाल की पार्थिव देह पंचतत्व में विलीन नौ लाख कम्पनिया नहीं दे रही है सालाना रिटर्न का ब्यौरा : हसमुख अधिया प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना: अरहर और मक्का फसल का होगा बीमा किसानों को राहत IPL-10 DD VS KXIP: किंग्स इलेवन पंजाब ने टॉस जीतकर किया बॉलिंग का फैसला, दिल्ली चायेगी प्रीति जिंटा के शेरो को रोकना जन-जागरूकता का प्रयास जरूरी आईवान ग्रेगरी मैन बने उत्तराखंड विधानसभा के एंग्लो इंडियन सदस्य Video: पहली नजर में हुआ प्यार और कर ली शादी, ऐसा है ये कपल! जानिए, कैसे रिकॉर्ड करे अपने एंड्रॉयड स्मार्टफोन की स्क्रीन जुड़वा 2 के लिए जैकलिन ने अपनाया नया अवतार लोकसभा-विधानसभा चुनाव एक साथ करवाने के पक्ष में नीति आयोग 'द कपिल शर्मा शो' में दिखेगा सुमोना का ग्लैमरस अवतार IPL के अगले सीजन में खेलेगी राजस्थान रॉयल्स और चेन्नई सुपरकिंग्स की टीम ...तो इसलिए छोड़ा श्रीजीता ने ब्वायफ्रैंड को अगले 2 साल में 10 लाख घर देगा ईपीएफओ
चीन में इस नाम से खिलता है ब्रह्म कमल, जानिए इस जुड़ी मान्यताएं...
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 02:41:40 PM
1 of 1

नई दिल्ली। ब्रह्म कमल सुंदर, सुगंधित और दिव्य फूल है। देवताओं का प्रिय यह फूल, आधी रात को खिलता है। वनस्पति शास्त्र में ब्रह्म कमल की 31 प्रजातियां बताई गईं हैं। यह फूल हिमालय पर खिलता है। चीन में भी ब्रह्म कमल खिलता है जिसे यहां 'तानहुआयिझियान' कहते हैं जिसका अर्थ है प्रभावशाली लेकिन कम समय तक ख्याति रखने वाला। इसका वानस्पतिक नाम 'साउसुरिया ओबुवालाटा' है। वर्ष में केवल जुलाई-सितंबर के बीच खिलने वाला यह फूल मध्य रात्रि में बंद हो जाता है। ब्रह्म कमल औषधीय गुणों से भरपूर है। इसे सुखाकर कैंसर रोग की दवा में उपयोग किया जाता है।

 

तो वहीं, इससे निकलने वाले पानी को पीने से थकान मिट जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार ब्रह्म कमल देवी नंदा का प्रिय पुष्प है, इसलिए इसे नंदाष्टमी के समय में तोड़ा जाता है और इसके तोडने के भी सख्त नियम होते है। ब्रह्मकमल को अलग-अलग स्थानों पर अलग-अलग नामों से जाना जाता है जैसे उत्तरखंड में ब्रह्मकमल, हिमाचल में दूधाफूल, कश्मीर में गलगल और उत्तर-पश्चिमी भारत में बरगनडटोगेस। उत्तराखंड और हिमालय पर पाया जाने वाले ब्रह्म कमल को हिमाचल प्रदेश में 'दूधाफूल', कश्मीर में 'गलगल', श्रीलंका में 'कदुफूल' और जापान में 'गेक्का विजन' कहते हैं। ब्रह्म कमल का पौधा पानी में नहीं, बल्कि जमीन पर ही होता है।

ब्रह्म कमल से जुड़ी मान्यताएं...

कहते हैं ब्रह्मा का सृजन ही ब्रह्मकमल है। इसके पीछे एक पौराणिक कहानी का उल्लेख मिलता है। किंवदंती है कि माता पार्वती ने जब गणेश जी का सृजन किया तो भोलेनाथ बाहर गए हुए थे। माता पार्वती स्नान कर रही थीं और उन्होंने गणेश को घर के बाहर पहरा देने के लिए कहा। तभी शिव वहां आए। गणेश ने उन्हें अंदर नहीं आने दिया। हुआ यूं कि क्रोध में शिव ने गणेश का सिर त्रिशूल से काट दिया। जब माता पार्वती को पता चला तो वह बहुत गुस्सा हुईं। लेकिन जब उन्हें वास्तविक स्थिति का पता चला तो तो ब्रह्मा जी से आग्रह किया इसके बाद ब्रह्मा ने ब्रह्म कमल का सृजन किया। जिसकी मदद से गणेश जी का सिर हाथी के सिर के रूप में जोड़ा गया।

यह भी पढ़े: यहां पर हवाई सफर से भी महंगा है बैलगाड़ी का किराया!

यह भी पढ़े: जिंदगी भर के लिए छिन गयी इस लड़की की हंसी... पढ़ना ना भूले

यह भी पढ़े: ये लड़की बिलकुल सामान्य थी 10 साल तक और अब..!

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.