loading...
इतिहास के पन्नों से- आखिर क्यों भारत छोड़ने को उतारू थी ताकतवर प्रधानमंत्रियों में से एक इंदिरा गाँधी! आज का राशिफल (24 मार्च 2017, शुक्रवार) जानिए नवरात्रों में क्यों रखते हैं 9 दिन तक उपवास, क्या हैं महत्व! क्या कोलंबस ने ही की थी अमेरिका की खोज, जानिए क्या कहता हैं इतिहास! जानिए बाल छोटे क्यों रखते हैं सैनिक! शारीरिक संबंधों को बेहतर बनाने के लिए रात को तेज आवाज में सुने संगीत! LG ने भारत में लॉन्च किया Stylus 3, फीचर्स और कैमरा हैं खासियत Take a Selfie: दोस्तों के साथ सेल्फी लेने से बढ़ती हैं खुशियां! खौफनाक मंजर.. प्यार के लिए सिर झुकाकर खाई छड़ी से मार! दावा: इस तरीके से रेगिस्तान को बनाया जा सकता हैं उपजाऊ! जानिए मन में क्यों आते हैं अजीब विचार, क्या कहते थे सर आइंस्टीन? Amazing: इस मंदिर में जलाया जाता हैं घी की जगह पानी का दीपक! पीलिया पीड़ित मरीजों के लिए बेहतर इलाज हैं चींटी का डंक! सीएम योगी एक्शन का असर, प्रशासन चुस्त-दुरुस्त, कई विभागों से मचा हुआ हैं हड़कंप! अमेरिका की 271 अवैध लोगों की सूची को भारत ने किया अस्वीकार एक्सेल एंटरटेनमेंट फिल्म 'गोल्ड' में हॉकी कोच बनेंगे कुणाल एसवाईएल मुद्दे पर शुक्रवार को राजनाथ से मिलेगा हरियाणा का सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल पुलिस वाहन चालक की हत्या के मामले में दो गिरफ्तार सपा राज में बने आगरा-लख़नऊ एक्सप्रेस वे समेत सभी सड़कों की जांच कराएगी UP सरकार होमगार्ड के प्लाटून कमांडर को 3 हजार की रिश्वत लेते हुए रंगे हाथों पकड़ा
बीमार युवक को अस्पताल पहुंचाने के लिए गांव वालों ने बनाई "Water Ambulance"
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 10:50:35 AM
1 of 1

 

नई दिल्ली। कहते हैं जब इंसान पर विपत्ति आती है, तो वो उससे बाहर निकलने के लिए कोई न कोई रास्ता खोज ही लेता है। कई आविष्कार और जुगाड़ इसी की देन है। अब इसी घटना को ले लीजिए। बिहार के भागलपुर जिले में रहने वाले वीरेंद्र मंडल के पिता की तबियत अचानक ख़राब हो गयी। 

JAIPUR:  सबसे सस्ते प्लाट और फार्म हाउस CALL: 09313166166

वीरेंदर का घर भागलपुर के नवगछिया के इस्माइलपुर में है, जो बाढ़ प्रभावित क्षेत्र है। तभी वीरेंद्र के पिता ने सांस फूलने और पेट में तेज़ दर्द की शिकायत की। घर से बाहर निकलते ही बाढ़ का पानी था। नवगछिया शहर भी बाढ़ की चपेट में है और रिंग रोड टूटने नवगछिया का सड़क संपर्क टूट चुका है। अब वीरेंद्र के सामने बड़ी समस्या ये थी कि अपने पिता को हॉस्पिटल कैसे ले जाए?

तब आया वाटर एम्बुलेंस का आइडिया
जब गांव के और लोगों को वीरेंद्र के पिता के बारे में पता चला तो, वीरेंद्र की मदद करने में जुट गये। गांव के लड़के ट्रक का ट्यूब ले आये और उसमें हवा भर दी। अब हवा भरे ट्यूब को सही से व्यवस्थित करके उस पर बांस से बैठने लायक जगह बना दिया। अंत में उस पर एक खाट डाल दी गई और इस तरह तैयार हुआ 'वाटर एम्बुलेंस'। वीरेंद्र के पिता इस पर चढ़ने से डर रहे थे, तब गांव के लोगों के समझाने पर वो तैयार हुए। इसी एम्बुलेंस से करीब 10 मिनट में वीरेंद्र के पिता को लड़कों ने सूखी जगह पर पहुंचा दिया, जहां से उन्हें भागलपुर हॉस्पिटल ले जाया गया।

बाढ़ में लोगों को सामान निकालते देख कर सुझा ऐसा
भादो मंडल नाम के एक ग्रामीण ने बताया कि हमने बचपन से देखा है कि बाढ़ आने पर केले के तने पर सामान लाद कर बाहर निकाला जाता है। तब हमें ऐसा ख्याल आया कि अगर सामान जा सकता है, तो आदमी क्यों नहीं? हमने सोचा कि ट्यूब पर खाट तो ले जाई जा सकता है। इस तरह से बना हमारा 'वाटर एम्बुलेंस'।

यह भी पढ़े : Shameful... वेश्‍यावृत्ति में शामिल हो रहे हैं यहां स्‍कूलों में पढ़ने वाले बच्‍चे..!!
यह भी पढ़े : युवती को इस्‍लाम स्वीकार न करने पर किया दुष्कर्म, भाई को चीखें सुनने पर किया मजबूर

यह भी पढ़े : ये है दुनिया का एकमात्र Brown Panda

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.