पिछले 900 सालों से वीरान है खजुराहो, जानिए इसके पीछे की कहानी! चोटी काटने की अफवाह पर पूरी तरह लगाम: सृष्टिधर महतो बस कुछ घंटे का इंतजार और फिर ऐसे 500 रुपये में बुक करवा सकते है Jio 4g Phone गोदभराई पर गुलाबी रंग का लहंगा पहने नजर आई ईशा बाल अपराध दिनों-दिन बढ़ रहा है, बच्चों पर बड़े गिरोह का शिकंजा नेपाल के प्रधानमंत्री 'शेर बहादुर देउबा' भारत दौरे पर, PM मोदी के साथ हुए 8 समझौते वीडियो : आज के दिन जन्मा था यह वीर शहीद जानिये जीवन से जुड़े कुछ तथ्य कुत्ते की मौत, पुरे विधि-विधान से लोगों ने किया अंतिम संस्कार Video: 'बादशाहो' का नया गाना 'होशियार रहना तेरे नगर में चोर आवेगा' हुआ रिलीज एक बार फिर निया शर्मा ने हॉट तस्वीरो से इंस्टाग्राम पर लगाई 'आग' आर.बी.आई. कल जारी करेगा 200 रुपए का नोट #LIVE INDvsSL: भारत ने जीता टॉस, पहले गेंदबाजी का किया फैसला साउथ एक्ट्रेस प्रियामणि ने बॉयफ्रेंड संग रचाई शादी एक ऐसी छिपकली, जो मरने के बाद भी रहती है जीवित पाक से होने वाली टी-20 सीरीज में खेल सकते हैं कोलिंगवुड बॉयफ्रेंड से ब्रेकअप की खबरों पर काइली जेनर ने तोड़ी चुप्पी ...तो इसलिए किंग खान ने वुमेन क्रिकेट टीम की कप्तान से मांगी माफी चीन ने दोबारा किया कमाल, बना डाली 30 मंजिला इमारत विश्व के उत्थान के लिए समान लक्ष्य के प्रति प्रतिबद्ध होना जरुरी - बहाई धर्म डॉलर के मुकाबले रूपये में हुई 7 पैसे की बढ़ोतरी
महिलाएं अक्सर अपने परिवार के लिए अपने प्रेम की दे देती है कुर्बानी
sanjeevnitoday.com | Monday, June 19, 2017 | 09:44:21 AM
1 of 1

नई दिल्ली। सुप्रीम कोर्ट ने एक व्यक्ति की उम्रकैद की सजा को खारिज करते हुए टिप्पणी की। इसमें कोर्ट ने कहा है कि भारत में माता पिता के फैसले को स्वीकार करने के लिए महिलाओं का अपने रिश्तों का बलिदान करना बहुत ही आम बात है। 

 

सुनाई उम्रकैद की सजा
कोर्ट ने अपने फैसले में उस व्यक्ति के दोषी साबित होने और उम्र कैद की सजा पाने को खारिज कर दिया जिसने एक महिला के साथ गुपचुप शादी करने के बाद मिलकर आत्महत्या करने का करार किया था, लेकिन इसमें वह बच गया था। 1995 के इस मामले में 23 वर्षीय महिला को बचाया नहीं जा सका था, लेकिन व्यक्ति बच गया था और पुलिस ने उसके खिलाफ महिला की हत्या का मामला दर्ज किया था।

सुप्रीम कोर्ट ने व्यक्ति के बयान को विश्वास करने योग्य माना और कहा कि उसके बयान के अनुसार, महिला को उसके परिवार की ओर से प्रताड़ित किया जाता था और नवंबर 1995 को घटना वाले दिन भी उसे प्रताड़ित किया गया था। कोर्ट ने कहा कि आपराधिक मामलों में अनुमान के आधार पर फैसला नहीं दिया जा सकता। कोर्ट ने व्यक्ति को बरी करते हुए कहा कि अभियोजन पक्ष उसका दोष साबित नहीं कर सका है।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.