‘गोलमाल अगेन’ को लेकर लोगों ने दिया ये Compliment, अजय ने दिए कुछ ऐसे मजेदार जवाब वीरेंद्र सहवाग के ‘दर्जी’ बुलाने पर रॉस टेलर ने दिया कुछ ऐसा जवाब... छेड़खानी के डर से लोकल ट्रेन से कूद गई छात्रा 'मर्सल' के GST वाले सीन से राजनीतिक में मची हलचल, रजनीकांत ने की तारीफ श्रीलंका के खिलाफ 3 टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए भारतीय का ऐलान प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि केंन्द्र योजना का लाभ उठाकर आप कमा सकते है 30 से 35 हजार मैं फक्कड़ हूं लेकिन दुनिया के खातिर अपनी लाइफस्टाइल नहीं छोड़ सकती: राधे मां बेकाबू होकर ब्रिज से नीचे गिरी बाइक, छात्र की हुई मौत फिल्म प्रमोशन के दौरान राजकुमार राव की टूटी टांग, पहुंचे अस्पताल जन्मदिन पर प्रभास ने फैंस को दिया ये खास तोहफा युवक के मुंह में तमंचा ठूंसकर मार दी गई गोली राजधानी एक्सप्रेस का टिकट कन्फर्म नहीं हुआ तो रेलवे देगा फ्लाइट का टिकट! भारतीय डॉक्टर एेसे कर रहा ISIS की हेल्प, खोज में जुटीं जांच एजेंसियां बिलकिस बानो गैंगरेप मामला: सुप्रीम कोर्ट ने गुजरात सरकार से 4 हफ्तों में मांगी विस्तार रिपोर्ट देवी षष्ठी माता और भगवान सूर्य को प्रसन्न करने के लिए की जाती है छठ पूजा मोहसिन रजा ने शिया और सुन्नी वक्फ बोर्ड को मिलाने के लिए मांगी विधिक राय राजस्थान सरकार के विवादित बिल पर हंगामा, कांग्रेस ने मुंह पर काली पट्टी बांध किया विरोध प्रदर्शन ...तो इसलिए न्यूजीलैंड से पराजित हुई टीम इंडिया क्या सचमुच युद्ध की कोई साजिश रच रहा था चीन? अब 50,000 से ज्यादा कैश ट्रांजेक्शन पर आवश्यक है ओरिजिनल ID
टाट बोरे पर क्यों बैठते हैं सरकारी स्कूलों के बच्चे: हाईकोर्ट
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 01:05:53 PM
1 of 1

नई दिल्ली। हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार से पूछा है कि प्राथमिक स्कूलों में पढऩे वाले बच्चे दरी या बोरे पर क्यों बैठते हैं। उनको बैठाने के लिए बेंच या कुर्सियों की व्यवस्था क्यों नहीं की जाती है। कोर्ट ने सरकार से प्राइमरी स्कूलों में शौचालय और पेयजल जैसी मूलभूत सुविधाओं की मांगी है। कोर्ट ने प्रमुख सचिव प्राथमिक शिक्षा को निर्देश दिया है कि वह अधिकारियों की बैठक कर कार्ययोजना तय करें और कोर्ट को इस बाबत जानकारी दें।

कृष्ण प्रकाश त्रिपाठी की जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही मुख्य न्यायमूर्ति डीबी भोसले और न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की पीठ ने यह आदेश दिया। याची का कहना है कि सरकारी प्राथमिक स्कूलों में बच्चों के बैठने की उचित व्यवस्था नहीं है। बच्चे बोरे या दरी पर बैठ कर बैठते हैं। जाड़ा-गर्मी और बरसात हर मौसम में उनको जमीन पर ही बैठाया जाता है। स्कूलों में शौचालय व पेयजल जैसी मूलभूत आवश्यकताओं की भी कमी है। कोर्ट ने प्रमुख सचिव को निर्देश दिया है कि सुनवाई की अगली तारीख 14 दिसंबर को न्यायालय को अवगत कराया जाए कि क्या प्रबंध किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़े: यहां लॉटरी जीतने के बाद, पैसों के बजाए मिलती हैं लड़कियां।

यह भी पढ़े: ये खूबसूरत लड़की बिना अंडरवियर के शोरूम में शॉपिंग करने पहुंची

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: ये खूबसूरत लड़किया- सड़क किनारे मिनी स्कर्ट में अपना बिजनेस चला रही हैं।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.