loading...
loading...
loading...
कांग्रेस सहित अन्य विपक्षी दल GST बैठक का बहिष्कार करने की सोच रहे है यहां पर 2 नाक के साथ पैदा हुआ ये अनोखा बच्चा! शो 'ये रिश्ता क्या कहलाता है' की नायरा ने करवाया बोल्ड फोटोशूट, देखें तस्वीरें हेड कांस्टेबल ने अपनी ही बेटी को बनाया हवस का शिकार जल्द लॉन्च होगी जगुआर की SUV E-Pace, जानिए फीचर्स 9वीं की छात्रा के साथ दो युवको ने किया सरेआम गैंगरेप केजरीवाल और सत्येंद्र जैन के खिलाफ विधानसभा में सबूत पेश करने के लिए कपिल ने मांगी इजाजत Pics: फैंस को ईद की मुबारकबाद देने शाहरुख के साथ पहुंचे अबराम, अपने नन्हें हाथों से अबराम ने किया सभी को नमस्ते Nokia 6 US में 229 डॉलर की कीमत के साथ होगा लांच यहां पर महिला ने दिया 6 किलो के बच्चे को जन्म! नियंत्रण रेखा से जुड़े गाँवों को पाक ने करवाया खाली केजरीवाल के 'ईद मुबारक' ट्वीट पर कपिल मिश्रा ने किया पलटवार जवाब पंचायत में आयोजित ग्राम सभा से लौट रही युवती का शव नग्न अवस्था में मिला पति के छोटे साइज से तंग आकर पत्नी ने किया ये... अपने आत्मविश्वास को जगाने के लिए करे ये पांच उपाय आधार कार्ड मामले में सुप्रीम कोर्ट ने दिया मोदी सरकार को झटका पिछले 11 दिन में पेट्रोल 1.93 रुपए, डीजल 96 पैसे हुआ सस्ता नीतीश कुमार ने लगाई प्रवक्ताओ को फटकार, कहा- चुनावों को लेकर बेवजह की बयानबाजी ना करें शादी के बाद लड़कियों से ज्यादा लड़कों में आते है ये 5 बड़े परिवर्तन! सारा के बॉलीवुड डेब्यू पर सैफ़ की नाराजगी पर भड़की Ex-Wife अमृता
टाट बोरे पर क्यों बैठते हैं सरकारी स्कूलों के बच्चे: हाईकोर्ट
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 01:05:53 PM
1 of 1

नई दिल्ली। हाईकोर्ट ने प्रदेश सरकार से पूछा है कि प्राथमिक स्कूलों में पढऩे वाले बच्चे दरी या बोरे पर क्यों बैठते हैं। उनको बैठाने के लिए बेंच या कुर्सियों की व्यवस्था क्यों नहीं की जाती है। कोर्ट ने सरकार से प्राइमरी स्कूलों में शौचालय और पेयजल जैसी मूलभूत सुविधाओं की मांगी है। कोर्ट ने प्रमुख सचिव प्राथमिक शिक्षा को निर्देश दिया है कि वह अधिकारियों की बैठक कर कार्ययोजना तय करें और कोर्ट को इस बाबत जानकारी दें।

कृष्ण प्रकाश त्रिपाठी की जनहित याचिका पर सुनवाई कर रही मुख्य न्यायमूर्ति डीबी भोसले और न्यायमूर्ति यशवंत वर्मा की पीठ ने यह आदेश दिया। याची का कहना है कि सरकारी प्राथमिक स्कूलों में बच्चों के बैठने की उचित व्यवस्था नहीं है। बच्चे बोरे या दरी पर बैठ कर बैठते हैं। जाड़ा-गर्मी और बरसात हर मौसम में उनको जमीन पर ही बैठाया जाता है। स्कूलों में शौचालय व पेयजल जैसी मूलभूत आवश्यकताओं की भी कमी है। कोर्ट ने प्रमुख सचिव को निर्देश दिया है कि सुनवाई की अगली तारीख 14 दिसंबर को न्यायालय को अवगत कराया जाए कि क्या प्रबंध किए जा रहे हैं।

यह भी पढ़े: यहां लॉटरी जीतने के बाद, पैसों के बजाए मिलती हैं लड़कियां।

यह भी पढ़े: ये खूबसूरत लड़की बिना अंडरवियर के शोरूम में शॉपिंग करने पहुंची

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

यह भी पढ़े: ये खूबसूरत लड़किया- सड़क किनारे मिनी स्कर्ट में अपना बिजनेस चला रही हैं।



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.