loading...
हाईटेक भिखारी: क्रेडिट और डेबिट कार्ड से भीख लेता हैं यह भिखारी! OMG: दो रुपये के पीछे हुई हाथापाई, वृद्ध ने गवाई जान! ‘कृत्रिम दिल’ की बदौलत 555 दिनों तक जीते रहे ब्रिटेन के लार्किन! गोलगप्पे का स्वाद बढ़ाने के लिए कर डाला ये हैरान कर देने वाला काम! OMG: TV का रिमोट चुराने पर हो गयी 22 साल की जेल! ये हैं भारत के 7 करोड़पति भिखारी, जानें रोज की कमाई? सत्यवादी राजा हरिश्चंद्र के पुत्र रोहिताश्व ने करवाया था इस किले का निर्माण, दीवारों से खून.. जानें इतिहास भारत में मुस्लिम दूसरा सबसे बड़ा बहुसंख्यक: आजाद VIDEO: इस फिल्म में रॉ एजेंट की भूमिका निभायेंगे सुशांत सिंह डॉलर के मुकाबले रुपये में मजबूती, 65 रुपये के स्तर पर आया केजरीवाल सरकार ने दिया था निगम का संपत्ति कर बढ़ाने का निर्देश : मनोज तिवारी संदिग्ध परिस्थितियों में गर्भवती की मौत, हत्या का आरोप नेता सदन के तौर पर योगी तो उनके ठीक सामने नेता प्रतिपक्ष की कुर्सी पर बैठेंगे रामगोविंद चौधरी हथियार सहित शातिर बदमाश गिरफ्तार अवैध देशी शराब की 51 पेटियां बरामद राजा भइया की कोठी पर सजा दरबार, शिकायतों के निस्तारण का कड़ा निर्देश अमर कालोनी : धारदार हथियार से महिला की हत्या PICS: बॉलीवुड की 5 सबसे खूबसूरत अभिनेत्रियां डाकघर बैंक हुआ हिट, दो दर्जन बड़े बैंक चाहते है जुड़ना मगरा व मेवात क्षेत्र की 300 ग्राम पंचायत मुख्यालयों को स्मार्ट विलेज के रूप में किया जाएगा विकसित, ग्राम सेवक का पदनाम होगा ग्राम विकास अधिकारी
नोटबंदी के 20 दिन बाद आखिर क्यों लाई सरकार ब्लैक मनी को वाइट करने की स्कीम?
sanjeevnitoday.com | Wednesday, November 30, 2016 | 09:43:01 AM
1 of 1

नई दिल्ली। नोटबंदी के 20 दिन बाद सरकार ने ब्लैक मनी पर डिस्क्लोजर स्कीम पेश कर सबको चौंका दिया। इसको लेकर कई सवाल उठ रहे हैं। आखिर किस वजह  से सरकार को यह स्कीम लॉन्च करनी पड़ी है। एक्सपर्ट्स के अनुसार हो सकती यह वजह -


देश के मार्केट में इस समय 17 लाख करोड़ रुपये की करंसी है। इसमें 14 लाख करोड़ रुपये की करंसी 500 और 1,000 रुपये के नोट में थी। इन नोटों को सरकार ने बाहर कर दिया। सरकार के मुताबिक, इन 14 लाख करोड़ रुपये में करीब 3 से 4 लाख करोड़ रुपये ब्लैक मनी है। नोटबंदी के जरिए सरकार ब्लैक मनी को मार्केट से बाहर करना चाहती है।

नोटबंदी के बाद जिस तरह से ब्लैकमनी को वाइट बनाने की रफ्तार तेज हुई, उससे सरकार को झटका लगा। लोग अपनी ब्लैकमनी को वाइट बनाने के लिए अधिक मात्रा में गोल्ड खरीद रहे है। 30 से 40 फीसदी कमीशन पर ब्लैक मनी को वाइट किया जा रहा है।

अगर पूरी ब्लैकमनी वाइट हो गई तो नोटबंदी के जरिए ब्लैकमनी को बाहर ले आने के सरकार के दावों का क्या होगा। ऐसे में सरकार पर सवालों की बौछार होगी कि अगर ऐसा ही होना था तो नोटबंदी क्यों की गई। क्यों आम आदमी को यह कहकर परेशानी में डाला गया कि देश के लिए कुछ परेशानियां सहो, क्योंकि इससे पूरे सिस्टम से ब्लैक मनी निकल जाएगी।

नोटबंदी के बाद आरबीआई को करीब 5 लाख करोड़ रुपये अनक्लेम्ड करंसी रह जाने की आशंका है। क्योंकि जिनके पास ब्लैक मनी है, वे या तो इसे नष्ट कर देंगे या फिर उसको क्लेम नहीं करेंगे। ऐसे में सरकारी खजाने में करीब 4 से 5 लाख करोड़ रुपये सीधे तौर पर आने की संभावना है।

ऐसे में आरबीआई फिर इतने नोटों की छपाई कर सकेगा। यह सरकारी खजाने की शोभा बढ़ाएंगे। मगर जो परिस्थितियां बन रही हैं, उसमें अनक्लेम्ड करंसी की संख्या कम होने का खतरा बढ़ता जा रहा है। अब तो यह राशि 2 से 3 लाख करोड़ रुपये रहने की संभावना है।

नोटबंदी के बाद जिस तरह से अफरा-तफरी का माहौल बन रहा है, उसने भी सरकार को ब्लैक मनी डिस्कलोजर स्कीम लाने के लिए शायद बाध्य किया। सबसे अधिक परेशानी की बात यह रही कि जनधन योजना के तहत खुले बैंक खातों में ब्लैक मनी खपाई गई। यह सिलसिला अब भी जारी है।

बैंकों में फर्जी खाते खोलकर ब्लैक मनी को जमा कराया गया। इसके लिए दूसरे के बैंक खातों के इस्तेमाल करने की खबरें सरकार को मिलीं। रियल एस्टेट्स में भी ब्लैक मनी को वाइट कराने की बातें सामनें आईं। इन सब पर सरकार ने कार्रवाई भी की। मगर मैनपावर की कमी ने सरकार के हाथों को बांध दिया है। इनकम टैक्स विभाग के पास मैनपावर कम है और काम ज्यादा है। ऐसे में सरकार को यह भी आशंका है कि कहीं ब्लैक मनी बाहर की बजाय मार्केट में ही वाइट न बन जाए।

एक पेंच यह है कि ब्लैक मनी खुलासा करने के बाद बेशक उसके कुल राशि का 50 प्रतिशत वाइट बन जाएगा। बेशक उस व्यक्ति पर ब्लैक मनी को लेकर कोई मुकदमा नहीं चलेगा। मगर वह इनकम टैक्स विभाग की राडार में रहेगा। रेवेन्यू सेक्रेटरी सचिव हंसमुख अधिया के अनुसार अगर कोई डिस्क्लोजर स्कीम के तहत ब्लैक मनी की घोषणा करता है तो टैक्स विभाग उस आय के सोर्स के बारे में नहीं पूछेगा।

अघोषित धन पर संपत्ति कर, दिवानी कानून तथा टैक्स से जुड़े अन्य कानून से छूट प्राप्त होगी लेकिन उसे फेमा, पीएमएलए, नारकोटिक्स और कालाधन कानून से कोई रियायत नहीं मिलेगी। कोई भी व्यक्ति अपने ब्लैक मनी का खुलासा कर सकता है। सरकार कुल ब्लैक मनी का 50 प्रतिशत टैक्स लेगी। 25 प्रतिशत राशि सरकार चार साल के लिए लॉकइन रखेगी। बाकी 25 प्रतिशत राशि ही व्यक्ति को दी जाएगी।

यह भी पढ़े: चीन की विष कन्‍याएं ISIS और ब्रिटेन के लिए बन रही खतरा ...जानिए कौन है ये

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े:1 करोड़ में नीलम हुई ये 8 लाइन की कविता, 74 साल पहले लिखी गयी

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.