संजीवनी टुडे

News

अपराधों का शहर है क्या दिल्ली ?

Sanjeevni Today 16-07-2017 08:42:17

नई दिल्ली .15 जुलाई को  देश  के स्थानीय पृष्ठ पर ख़बरों की हेडलाइंस इस तरह की हैं। गर्ल्स पीजी केयरटेकर की घर में घुसकर हत्या, सीपी में भाई-बहनों पर बदमाशों ने फायर झोंका, चाकू मारकर युवक की हत्या, न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी से किशोरी को अगवा कर दुष्कर्म, चाकू मारकर युवक की हत्या, दरोगा ने बाइक सवार को रोका तो पेचकस घोंप दिया। चाकू की नोक पर बच्ची से रेप किया। किशोरी के लापता होने पर कोर्ट खफा इत्यादि। कि दिल्ली में कैसे अपराधों का बोलबाला है।

 दिल्ली में हर घंटे एक मोबाइल फोन छीना जा रहा है। इस खबर के अनुसार जहां बेखौफ बदमाश राजधानी की सड़कों पर झपटमारी कर रहे हैं। वहीं दिल्ली पुलिस दो फ़ीसदी से भी कम मोबाइल जब्त कर पा रही है। इस खबर में दिल्ली पुलिस के द्वारा दिए गए आंकड़ों के हवाले से बताया गया है कि झपटमारी की 70 फ़ीसदी वारदातों में बदमाश केवल स्मार्ट फोन छीनते हैं। जबकि 30 फ़ीसदी मामलों में मंगलसूत्र, चेन एवं पर्स इत्यादि ले जाते है।  इस साल 30 जून तक 4500 से अधिक झपटमारी की वारदातें हो चुकी हैं। वहीं 1381 लूट की वारदात हुई हैं। लूट की 25 फीसदी से अधिकतर वारदातों में मोबाइल फोन लुटे जाने की बात सामने आई है। 


नशे का गढ़ बनता जा रहा है दिल्ली
 Delhi turning into India's cocaine capital, अर्थात दिल्ली भारत का कोकीन कैपिटल बन रहा है। इस खबर में नारकोटिक्स कण्ट्रोल ब्यूरो के डाटा के हवाले से बताया गया है। कि पिछले साल 30 किलो कोकीन, जिसकी कीमत लगभग 210 करोड़ रुपए होगी। जबकि पिछले साल केवल 11 किलो कोकीन जब्त किया गया था। 


15 दिन 136 महिलाओं का अपहरण 94 से दुष्कर्म'. इस खबर के मुताबिक दिल्ली में महिलाओं के अपहरण का रिकॉर्ड टूट चुका है। दुष्कर्म की वारदात भी बढ़ी है। राजधानी में 1 जून से 15 जून के बीच 136 महिलाओं का अपहरण किया गया। जबकि 94 महिलाएं दुष्कर्म का शिकार हुई. 


Delhi, Crime
अपराध कम नहीं हुए

यहां अपराधों में 21 फ़ीसदी की बढ़ोतरी हुई है। इसके मुताबिक 2017 के पहले हाफ में दिल्ली में अपराधों की संख्या में ऐतिहासिक वृद्धि हुई है। 
 आम लोग इसको पढ़ के सहमते हैं, डरते हैं। पर पता नहीं शासक वर्ग को ये पढ़ के शर्म का एहसास होता है की नहीं। 

यह वही दिल्ली है, जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रहते हैं। उनके चुनाव में एक नारा  'बहुत हुआ महिलाओं पर अत्याचार, अबकी बार मोदी सरकार'. वो महिलाओं पर हो रहे अपराध रोकने आये थे। दिल्ली का अपराध नियंत्रण उनकी ही जिम्मेदारी है। पर आंकड़े बोल रहे हैं वो ऐसा नहीं कर पाए। हालत और ख़राब ही हुई है। इसी दिल्ली में सोनिया गांधी भी रहती हैं। जब उनकी पार्टी सत्ता में थी तो भी दिल्ली रेप कैपिटल के ही नाम से जाना जाता थ।  यानी की सत्ता बदली पर अपराध नहीं रुका दिल्ली में सरकार किसी की भी हो, पर ऐसा प्रतीत हो रहा है की राज अपराधियों का ही चलता है। 

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

Watch Video

More From national

Recommended