'संयोग और वियोग' दोनों ही प्रकृति के धर्म रक्तदान के बराबर काेई दान नहीं है रघुवर दास के काल में चरमरा गई है स्वास्थ्य सुविधा निशुल्क चिकित्सा शिविर में स्कूली बच्चो का स्वास्थ्य जांचा सांसद राजेश रंजन ने कहा- शिक्षा और स्वास्थ्य का राष्ट्रीयकरण होना जरूरी खंडहर घोषित हो चुकी आवासीय बिल्डिंग से मोह नहीं त्याग कर पा रहे हैं स्वास्थ्य कर्मी अनुसूचितजाति कल्याण परिषद तहसील ठियोग ने मधान क्षेत्र की उपेक्षा पर जताई नाराजगी 12 घंटे के दौरान अस्पताल में मचा दो बार बवाल, स्वास्थ्य कर्मियों में गहराया रोष 3rd ODI: इंदौर में कंगारुओं के सामने विराट सेना की निगाहे सीरीज जीत के चौके पर अपने एक्स BF रणवीर से इस अंदाज में मिली अनुष्का, देखे फोटो हर साल 1000 खिलाडिय़ों को 5-5 लाख रुपए देने की घोषणा: खेल मंत्री प्रो कबड्डी लीग 2017: बंगाल ने बेंगलुरु बुल्स को हराया ऑस्ट्रेलिया हॉकी लीग: भारत की पुरुष और महिला 'ए' टीम हुई रवाना कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला का दाऊद को लेकर बड़ा बयान इस नए प्रोजेक्ट के लिए पत्नी संग जयपुर पहुंचे संजय दत्त, देखे फोटो शहंशापुरः पीएम ने स्वच्छता अभियान में लिया हिस्सा तीसरे वनडे के लिए वार्नर ने AUS के बल्लेबाजों को दिया मूल मंत्र Box office: दो दिन के भीतर ही फिल्म 'जय लव कुश' हुई हिट, कमाए 60 करोड़ पूर्व सेवादार गुरूदास का बडा खुलासा, गुरमीत को ब्लू फिल्म देखने का था शौक टीम में बल्लेबाजी क्रम को लेकर नहीं हूं चिंतित: रहाणे
क्या कहते है सियासी आंकड़े, जब टूटेगा महागठबंधन....
sanjeevnitoday.com | Sunday, July 16, 2017 | 08:14:21 AM
1 of 1

नई दिल्ली। बिहार में महागठबंधन के बीच की डोर कच्ची होती जा रही है। इसका असर केवल बिहार की राजनीति ही नहीं, देश की राजनीति पर भी पड़ेगा। क्योंकि बिहार में जिस तरह से महागठबंधन ने विधानसभा चुनाव में कामयाबी हासिल की, इससे दूसरे राज्यों के क्षेत्रीय दलों में जोश भरा। 

 

बता दे की जब उत्तर प्रदेश में हुए विधानसभा चुनाव में सपा और बसपा की करारी हार हुई तब एक सवाल सामने खड़ा था कि अगर बिहार के तर्ज पर यूपी में सपा और बसपा साथ होते तो चुनाव परिणाम की तस्वीर कुछ और होती। 


अब सबसे बड़ी बात ये है की अगर नीतीश कुमार और लालू यादव अलग होते हैं तो फिर दोनों के लिए आगे के रास्ते आसान होंगे? या फिर यह फैसला दोनों के अस्तित्व को खतरे में डाल देगा? हां ये हो सकता है की इस लड़ाई में गठबंधन का टूटना नीतीश के लिए ज्यादा नुकसानदेह साबित हो। 


महागठबंधन से अगर नितीश कुमार अलग होते हैं तो उनके सामने विकल्प के तौर पर बीजेपी है। नीतीश बीजेपी के समर्थन से सत्ता में बने रहेंगे। लेकिन क्या वो 'मोदी युग' में बीजेपी के साथ होकर अपने फैसलों को बिहार में लागू कर पाएंगे। क्योंकि हाल के दिनों में जिन राज्यों में बीजेपी क्षेत्रीय दलों के साथ सत्ता में भागीदार रही, वहां क्षेत्रीय पार्टियां कमजोर हुई हैं। ऐसे में नीतीश के सामने बीजेपी के साथ गठबंधन चलाने के अलावा अपनी राजनीतिक जमीन को भी बरकरार रखने की चुनौती होगी।


दूसरी ओर नीतीश कुमार के निर्देश में महागठबंधन की सरकार ने बिहार में दो साल का सफर बिना किसी विवाद के तय किया है, जिससे नीतीश कुमार का बिहार के बाहर भी कद बढ़ा है। वहीं, अगर नितीश अलग होने का फैसला लेते है तो गैर-बीजेपी शासित राज्यों में नीतीश-लालू गठबंधन की तरह क्षेत्रीय पार्टियां एक मंच पर आने की सोच रही थीं, वो दूसरे राज्यों में महागठबंधन की नींव पड़ने से पहले खत्म ही ख़त्म हो जाएगी। खासकर उत्तर प्रदेश में इसका ज्यादा असर पड़ेगा।

 

 

वहीं, अगर बात करे लालू यादव की तो आखिरी वक्त तक महागठबंधन को बचाने की कोशिश करेंगे। हालांकि वो फिलहाल तेजस्वी के इस्तीफे पर समझौते से इनकार कर रहे हैं। लेकिन उन्हें पता है कि अगर नीतीश गठबंधन से अलग होते हैं तो आरजेडी के राजनीतिक अस्तित्व पर सवाल खड़ा हो सकता है।

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.