loading...
कैलाश सत्यार्थी ने कहा- भारत में हर घंटे 11 बच्चे लापता हो जाते हैं और... सेरेना विलियम्स के होने वाले बच्चे पर अपशब्द कहना इस खिलाडी को पड़ा भारी, लगा बैन बॉक्स ऑफिस पर नहीं चला 'नूर' का जादू, पहले दिन ही रहा बुरा हाल Microsoft India ने 21 अप्रैल से सभी तरह के पितृत्व अवकाश बढ़ाए योगी सरकार ने की शिवपाल-आजम की सुरक्षा में कटौती मैंने हमेशा अपने मन मुताबिक काम किया है: गौहर खान नगर निगम के दो वार्डों में प्रत्याशियों के निधन के कारण मतदान किया स्थगित Sanjeevni Today: Top Stories of 1pm भारत को भेजे जाने वाले पैसे में आई कमी: विश्व बैंक रिपोर्ट नाती ने की मां की बुरी तरह से पिटाई, अस्पताल में भर्ती Video: 'बाहुबली 2' के इस गाने ने इंटरनेट पर मचाई धूम मेघालय में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात, लोगों ने घर छोड़ स्कूल में ली शरण MCD इलेक्शन: सुस्त वोटिंग के कारण 12 बजे तक 10% से भी काम वोटिंग UP: अयोध्या परिसर में साधु के ‘त्रिशूल’ लेकर जाने पर उठे सवाल FPI ने इस महीने किये 18890 करोड़ निवेश PM नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में नीति आयोग की अहम बैठक सवाल करने वालों को सोनू ने अज़ान का वीडियो ट्वीट कर दिया मुहतोड़ जवाब नवजात शिशु उपचार सेवाओं के लिए बनेगी जिलास्तरीय विशिष्ट कार्ययोजना चूरू जिला परिषद साधारण सभा की बैठक सम्पन्न फ्लाइट लैंडिंग के वक्त बजने लगा राष्ट्रगान, फिर यात्रियों ने किया ये...
बेटे की बरात ले जाने वाले थे पिता, कंधे पर ढोया बेटे का शव
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 03:57:02 PM
1 of 1

पापड़दा (दौसा)। श्रीनगर के जकूरा में आतंकी हमले के दौरान शहीद घनश्याम गुर्जर का अंतिम संस्कार रविवार को उनके पैतृक गांव में किया गया। उस वक्त पूरा गांव रो पड़ा जब पिता ने बेटे के पार्थिव शरीर को कंधा दिया।  कुछ ही महीनों बाद शहीद की शादी होनी थी। पिता धूम-धाम से बरात ले जाने की तैयारियां भी कर रहे थे।

JAIPUR:  सबसे सस्ते प्लाट और फार्म हाउस CALL: 09313166166

100 गांव के लोग हुए शामिल, लगाए पाकिस्तान मुर्दाबाद के लगे नारे...
राजस्थान के पैतृक गांव खवारावजी में शहीद की अंतिम संस्कार में शामिल हाेने 100 गांव के लोग शामिल हुए थे।वहां मौजूद लोगों के 'घनश्याम तेरा यह बलिदान-कभी न भूले हिंदुस्तान' जैसे नारों से आसमान गूंज गया। शव देखते ही शहीद की दादी सुशीला देवी, मां जानकी देवी समेत परिवार के लोगो की पैरो तले जमीन खिसक गयी। अंतिम संस्कार से पहले शहीद का शव घर के आगे नीम के पेड़ के नीचे एक तख्ते पर रखा गया। 4 वर्षीय भतीजे गौरव ने अपने शहीद चाचा को मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार स्थल पर सशस्त्र सीमा सुरक्षा बल के 26 जवानों ने 3 बार फायर कर शहीद को सलामी दी। इससे पहले सेना के बैंड ने मातमी धुन बजाई। इस दौरान आर्मी अफसरों के साथ जिले के कई अफसर और जनप्रतिनिधि मौजूद थे।
सूत्रों के अनुसार-
शहीद घनश्याम ने साल 2011-12 में खवारावजी सीनियर सेकंडरी स्कूल में पढ़ाई की थी।
स्कूल प्रिंसिपल रामप्रसाद बैरवा ने बताया कि घनश्याम अपनी पढ़ाई के लिए पूरी तरह समर्पित और वक्त का पाबंद था। वह हमेशा आर्मी में नौकरी करने की बात कहता था। अंत्येष्टि स्थल पर लोगों में पाकिस्तान की इस हरकत पर आक्रोश फूट रहा था। हजारों लोगों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए।
दीपावली के बाद होनी थी शहीद घनश्याम शादी...
शहीद के पिता रामकिशोर गुर्जर बोले कि देश का बेटा था, देश के लिए शहीद हो गया, लेकिन आतंकवाद की समस्या का पुख्ता इंतजाम होना चाहिए। शहीद घनश्याम की दीपावली के बाद शादी होने वाली थी,जिसकी तैयारियां भी शुरू कर दी गई थीं। परिवार के लोग शादी के लिए दीपावली के बाद छुट्टियों में उनके आने का इंतजार कर रहे थे। पिता ने कहा- मैं जिस बेटे की बरात ले जाने की तैयारी कर रहा था, आज उसी की अंतिम विदाई करनी पड़ रही है।

यह भी पढ़े : बिस्तर में अपने साथी से कुछ ऐसा चाहती हैं लड़कियां...!!

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े : क्या आप जानते है छोटे स्तन होने के ये 10 फायदे...?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 


FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.