ट्रक की चपेट में आने से छात्रा की मौत वाह रे किस्मत : अब कुत्ते भी करेंगे बस में सफर... आस्ट्रेलियन ओपन: पेस और आंद्रे सा डबल्स के पहले ही मैच में हारकर बाहर जानिए! आखिर पूजा करते वक्त क्यों जलाते हैं अगरबत्ती? मासूम से गैंगरेप मामले में 3 दोषियों को फांसी की सजा बाप रे! शवों रखते है अपने पास, करते है कई सालो तक सेवा... JIO यूजर्स को 31 मार्च के बाद भी मिलेगा हैप्पी न्यू ईयर ऑफर, ये होंगे प्लान... पीपल्स च्वाइस अवॉर्ड्स में स्टनिंग लुक में दिखी प्रियंका... राष्ट्रीय जांच एजेंसी को आरोपी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर की जमानत से कोई ऐतराज़ नहीं ओबामा को उम्मीद, कोई हिन्दू भी हो सकता है अमेरिका का राष्ट्रपति जयराम और सायना मलेशिया मास्टर्स बैडमिंटन के क्वार्टर फाइनल में एक दम बोल्ड और आशिकाना अंदाज में दिखें कंगना-शाहिद... दिल्ली पुलिस के आयुक्त आलोक कुमार वर्मा नए सीबीआई प्रमुख नियुक्त हरियाणा हैमर्स को हरा पंजाब रॉयल्स बना पीडब्ल्यूएल 2 का चैंपियन भारत का चीन को जवाब, 'गिफ्ट के तौर पर नहीं चाहते एनएसजी सदस्यता' बच्चे को दिया जन्म,पर समझ नई आता पुरुष हैं या महिला स्टार प्लस पर 'कोई लौटकर आया है' जसवंतनगर से ही चुनाव लड़ेंगे शिवपाल शाहरुख खान के बिजनेस पार्टनर पर रेप का आरोप महानदी और उसकी सहायक नदियों पर विचार-विमर्श के लिए समिति गठित
बेटे की बरात ले जाने वाले थे पिता, कंधे पर ढोया बेटे का शव
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 03:57:02 PM
1 of 1

पापड़दा (दौसा)। श्रीनगर के जकूरा में आतंकी हमले के दौरान शहीद घनश्याम गुर्जर का अंतिम संस्कार रविवार को उनके पैतृक गांव में किया गया। उस वक्त पूरा गांव रो पड़ा जब पिता ने बेटे के पार्थिव शरीर को कंधा दिया।  कुछ ही महीनों बाद शहीद की शादी होनी थी। पिता धूम-धाम से बरात ले जाने की तैयारियां भी कर रहे थे।

JAIPUR:  सबसे सस्ते प्लाट और फार्म हाउस CALL: 09313166166

100 गांव के लोग हुए शामिल, लगाए पाकिस्तान मुर्दाबाद के लगे नारे...
राजस्थान के पैतृक गांव खवारावजी में शहीद की अंतिम संस्कार में शामिल हाेने 100 गांव के लोग शामिल हुए थे।वहां मौजूद लोगों के 'घनश्याम तेरा यह बलिदान-कभी न भूले हिंदुस्तान' जैसे नारों से आसमान गूंज गया। शव देखते ही शहीद की दादी सुशीला देवी, मां जानकी देवी समेत परिवार के लोगो की पैरो तले जमीन खिसक गयी। अंतिम संस्कार से पहले शहीद का शव घर के आगे नीम के पेड़ के नीचे एक तख्ते पर रखा गया। 4 वर्षीय भतीजे गौरव ने अपने शहीद चाचा को मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार स्थल पर सशस्त्र सीमा सुरक्षा बल के 26 जवानों ने 3 बार फायर कर शहीद को सलामी दी। इससे पहले सेना के बैंड ने मातमी धुन बजाई। इस दौरान आर्मी अफसरों के साथ जिले के कई अफसर और जनप्रतिनिधि मौजूद थे।
सूत्रों के अनुसार-
शहीद घनश्याम ने साल 2011-12 में खवारावजी सीनियर सेकंडरी स्कूल में पढ़ाई की थी।
स्कूल प्रिंसिपल रामप्रसाद बैरवा ने बताया कि घनश्याम अपनी पढ़ाई के लिए पूरी तरह समर्पित और वक्त का पाबंद था। वह हमेशा आर्मी में नौकरी करने की बात कहता था। अंत्येष्टि स्थल पर लोगों में पाकिस्तान की इस हरकत पर आक्रोश फूट रहा था। हजारों लोगों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए।
दीपावली के बाद होनी थी शहीद घनश्याम शादी...
शहीद के पिता रामकिशोर गुर्जर बोले कि देश का बेटा था, देश के लिए शहीद हो गया, लेकिन आतंकवाद की समस्या का पुख्ता इंतजाम होना चाहिए। शहीद घनश्याम की दीपावली के बाद शादी होने वाली थी,जिसकी तैयारियां भी शुरू कर दी गई थीं। परिवार के लोग शादी के लिए दीपावली के बाद छुट्टियों में उनके आने का इंतजार कर रहे थे। पिता ने कहा- मैं जिस बेटे की बरात ले जाने की तैयारी कर रहा था, आज उसी की अंतिम विदाई करनी पड़ रही है।

यह भी पढ़े : बिस्तर में अपने साथी से कुछ ऐसा चाहती हैं लड़कियां...!!

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े : क्या आप जानते है छोटे स्तन होने के ये 10 फायदे...?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 


FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.