गुजरात चुनाव: आंतरिक गुटबाजी और पीएएएस की वजह से कांग्रेस की सूची में विलंब बुन्देलखण्ड को औद्योगिक हब बनाएगी योगी सरकार: मौर्य बद्रीनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बंद पद्मावती, आईएफएफआई विवाद पर हंसल मेहता निराश ISL 2017: गोवा एफसी ने 3-2 से चेन्नईयन एफसी को चटाई धूल व्हाट्सएप पर पोस्ट डालना अधिकारी को पड़ा महंगा, गवानी पड़ी कुर्सी गांव में हो रही है राजपाल यादव की बेटी की शादी, बैंक मैनेजर है दामाद करुणामय संसार बनाने के लिए भारत-चीन को मिलकर करना होगा काम: दलाई लामा एशियन कबड्डी चैंपियनशिप: पुरुष व महिला की टीमें घोषित, हिमालय के 4 खिलाडी शामिल विश्व शौचालय दिवस : स्वच्छ भारत मिशन ने मनाया शौचालय दिवस VVS लक्ष्मण की ड्रीम टेस्‍ट टीम घोषित, जानिए टीम के 11 सदस्य बरेली पुलिस ने अपराध होने से पहले आरोपियों को किया गिरफ्तार प्रति व्यक्ति औसत GDP के लिहाज से भारत ने लगाई छलांग, पहुंचा 126 वें स्थान पर अंडर-19 एशिया कप में पाक को हराकर अफगानिस्‍तान बना चैम्पियन जिम्बाब्वे: रॉबर्ट मुगाबे की पार्टी प्रमुख पद से की छुट्टी, एमर्सन नांगाग्वा संभालेंगे कमान सरहदी नागरिकों ने राजस्थान की तर्ज पर एंट्री टैक्स को माफ करने की मांग उठाई ऐसा होगा राजस्थान पुलिस परीक्षा का पैटर्न, पढ़िए पूरी खबर आमिर व सैफ अली खान के अलावा करीना कपूर भी है लव जिहाद का शिकार मार्च 2018 तक कोई नई नियुक्ति नहीं: एसोचैम कांग्रेस और पाटीदार नेताओं के बीच आरक्षण पर बनी सहमति, आज उम्मीदवारों की पहली लिस्ट
बेटे की बरात ले जाने वाले थे पिता, कंधे पर ढोया बेटे का शव
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 03:57:02 PM
1 of 1

पापड़दा (दौसा)। श्रीनगर के जकूरा में आतंकी हमले के दौरान शहीद घनश्याम गुर्जर का अंतिम संस्कार रविवार को उनके पैतृक गांव में किया गया। उस वक्त पूरा गांव रो पड़ा जब पिता ने बेटे के पार्थिव शरीर को कंधा दिया।  कुछ ही महीनों बाद शहीद की शादी होनी थी। पिता धूम-धाम से बरात ले जाने की तैयारियां भी कर रहे थे।

JAIPUR:  सबसे सस्ते प्लाट और फार्म हाउस CALL: 09313166166

100 गांव के लोग हुए शामिल, लगाए पाकिस्तान मुर्दाबाद के लगे नारे...
राजस्थान के पैतृक गांव खवारावजी में शहीद की अंतिम संस्कार में शामिल हाेने 100 गांव के लोग शामिल हुए थे।वहां मौजूद लोगों के 'घनश्याम तेरा यह बलिदान-कभी न भूले हिंदुस्तान' जैसे नारों से आसमान गूंज गया। शव देखते ही शहीद की दादी सुशीला देवी, मां जानकी देवी समेत परिवार के लोगो की पैरो तले जमीन खिसक गयी। अंतिम संस्कार से पहले शहीद का शव घर के आगे नीम के पेड़ के नीचे एक तख्ते पर रखा गया। 4 वर्षीय भतीजे गौरव ने अपने शहीद चाचा को मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार स्थल पर सशस्त्र सीमा सुरक्षा बल के 26 जवानों ने 3 बार फायर कर शहीद को सलामी दी। इससे पहले सेना के बैंड ने मातमी धुन बजाई। इस दौरान आर्मी अफसरों के साथ जिले के कई अफसर और जनप्रतिनिधि मौजूद थे।
सूत्रों के अनुसार-
शहीद घनश्याम ने साल 2011-12 में खवारावजी सीनियर सेकंडरी स्कूल में पढ़ाई की थी।
स्कूल प्रिंसिपल रामप्रसाद बैरवा ने बताया कि घनश्याम अपनी पढ़ाई के लिए पूरी तरह समर्पित और वक्त का पाबंद था। वह हमेशा आर्मी में नौकरी करने की बात कहता था। अंत्येष्टि स्थल पर लोगों में पाकिस्तान की इस हरकत पर आक्रोश फूट रहा था। हजारों लोगों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए।
दीपावली के बाद होनी थी शहीद घनश्याम शादी...
शहीद के पिता रामकिशोर गुर्जर बोले कि देश का बेटा था, देश के लिए शहीद हो गया, लेकिन आतंकवाद की समस्या का पुख्ता इंतजाम होना चाहिए। शहीद घनश्याम की दीपावली के बाद शादी होने वाली थी,जिसकी तैयारियां भी शुरू कर दी गई थीं। परिवार के लोग शादी के लिए दीपावली के बाद छुट्टियों में उनके आने का इंतजार कर रहे थे। पिता ने कहा- मैं जिस बेटे की बरात ले जाने की तैयारी कर रहा था, आज उसी की अंतिम विदाई करनी पड़ रही है।

यह भी पढ़े : बिस्तर में अपने साथी से कुछ ऐसा चाहती हैं लड़कियां...!!

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े : क्या आप जानते है छोटे स्तन होने के ये 10 फायदे...?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 


FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.