देश और दुनिया के इतिहास में 28 जुलाई की महत्वपूर्ण घटनाएं जानिए खीरे के स्वास्थ्यवर्द्धक और सौन्दर्यवर्द्धक गुण किशमिश स्वास्थ्य के लिए बड़ी ही लाभदायक लगातार ब्रैड के सेवन से स्वास्थ्य के लिए हानिकारक इस तरह करे प्याज का सेवन, होंगे अनेक फायदे रोजाना खाली पेट लहसुन खाने के फायदे जान दंग रह जाएंगे आप... अपहरण के बाद पांच लाख रुपये की फिरौती मांगी अवैध शराब सहित तीन आरोपी गिरफ्तार स्वाइन फ्लू की दस्तक से हिल गया स्वास्थ्य विभाग व्यापार और घर में भी धर्म का पालन करना जरूरी मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य के प्रति लोगों को जागरुक करने की जरुरत बच्चों के स्वास्थ्य की जांच करेगी मोबाइल हेल्थ टीम डॉ.पीके शर्मा ने कहा- स्वास्थ्य की तरह मिट्टी की जांच भी करवानी जरूरी प्रतापगढ़ जिले के कल्पेश राज सोनी को मिला ग्लोबल बिजनेस लीडरशिप अवार्ड राहुल जौहरी को एसजीएम से बाहर करने पर बीसीसीआई पदाधिकारियों को नोटिस SSC CGL 2017 के Admit Card जारी PM मोदी ने भारतीय महिला टीम से की मुलाकात, कहा- 125 करोड़ भारतीयों ने उठाया हार का बोझ ससुराल वालों की प्रताड़ना से परेशान युवक ने खाया जहर, मौत सभी पाठ्यपुस्तकें राज्य के SIRT द्वारा तैयार पाठ्यक्रम के अनुरूप हो: वासुदेव देवनानी सस्ते फ्लैट का झांसा देकर करोड़ों की ठगी करने वाला एक ग‌िरफ्तार
बेटे की बरात ले जाने वाले थे पिता, कंधे पर ढोया बेटे का शव
sanjeevnitoday.com | Monday, October 17, 2016 | 03:57:02 PM
1 of 1

पापड़दा (दौसा)। श्रीनगर के जकूरा में आतंकी हमले के दौरान शहीद घनश्याम गुर्जर का अंतिम संस्कार रविवार को उनके पैतृक गांव में किया गया। उस वक्त पूरा गांव रो पड़ा जब पिता ने बेटे के पार्थिव शरीर को कंधा दिया।  कुछ ही महीनों बाद शहीद की शादी होनी थी। पिता धूम-धाम से बरात ले जाने की तैयारियां भी कर रहे थे।

JAIPUR:  सबसे सस्ते प्लाट और फार्म हाउस CALL: 09313166166

100 गांव के लोग हुए शामिल, लगाए पाकिस्तान मुर्दाबाद के लगे नारे...
राजस्थान के पैतृक गांव खवारावजी में शहीद की अंतिम संस्कार में शामिल हाेने 100 गांव के लोग शामिल हुए थे।वहां मौजूद लोगों के 'घनश्याम तेरा यह बलिदान-कभी न भूले हिंदुस्तान' जैसे नारों से आसमान गूंज गया। शव देखते ही शहीद की दादी सुशीला देवी, मां जानकी देवी समेत परिवार के लोगो की पैरो तले जमीन खिसक गयी। अंतिम संस्कार से पहले शहीद का शव घर के आगे नीम के पेड़ के नीचे एक तख्ते पर रखा गया। 4 वर्षीय भतीजे गौरव ने अपने शहीद चाचा को मुखाग्नि दी। अंतिम संस्कार स्थल पर सशस्त्र सीमा सुरक्षा बल के 26 जवानों ने 3 बार फायर कर शहीद को सलामी दी। इससे पहले सेना के बैंड ने मातमी धुन बजाई। इस दौरान आर्मी अफसरों के साथ जिले के कई अफसर और जनप्रतिनिधि मौजूद थे।
सूत्रों के अनुसार-
शहीद घनश्याम ने साल 2011-12 में खवारावजी सीनियर सेकंडरी स्कूल में पढ़ाई की थी।
स्कूल प्रिंसिपल रामप्रसाद बैरवा ने बताया कि घनश्याम अपनी पढ़ाई के लिए पूरी तरह समर्पित और वक्त का पाबंद था। वह हमेशा आर्मी में नौकरी करने की बात कहता था। अंत्येष्टि स्थल पर लोगों में पाकिस्तान की इस हरकत पर आक्रोश फूट रहा था। हजारों लोगों ने पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए।
दीपावली के बाद होनी थी शहीद घनश्याम शादी...
शहीद के पिता रामकिशोर गुर्जर बोले कि देश का बेटा था, देश के लिए शहीद हो गया, लेकिन आतंकवाद की समस्या का पुख्ता इंतजाम होना चाहिए। शहीद घनश्याम की दीपावली के बाद शादी होने वाली थी,जिसकी तैयारियां भी शुरू कर दी गई थीं। परिवार के लोग शादी के लिए दीपावली के बाद छुट्टियों में उनके आने का इंतजार कर रहे थे। पिता ने कहा- मैं जिस बेटे की बरात ले जाने की तैयारी कर रहा था, आज उसी की अंतिम विदाई करनी पड़ रही है।

यह भी पढ़े : बिस्तर में अपने साथी से कुछ ऐसा चाहती हैं लड़कियां...!!

यह भी पढ़े: स्त्री में सम्भोग की इच्छा बढ़ाने के 4 सबसे आसान घरेलू उपाय...

यह भी पढ़े : क्या आप जानते है छोटे स्तन होने के ये 10 फायदे...?

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप

 


FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.