महिला विश्वकप 2017 : क्या मिताली राज की शेरनियां ला पायेगी विश्व कप? फिल्मों की दुनिया में आने के लिए करीना की 'जब वी मेट' ने किया आकर्षित: अनुष्‍का 30 किलो गांजे के साथ दो तस्करो को किया गिरफ्तार राशिफल : 23 जुलाई : कैसा रहेगा आपके लिए रविवार का दिन, जानने के लिए क्लिक करें देश और दुनिया के इतिहास के 23 जुलाई की महत्वपूर्ण घटनाएं युवक ने की महिला से छेड़छाड़, मामला दर्ज छेड़छाड़ की रिपोर्ट न लिखने पर इंस्पेक्टर के विरुद्ध मुकदमा दर्ज सफेद हाथी साबित हो रहा है औद्योगिक सुरक्षा एवं स्वास्थ्य निदेशालय स्वास्थ्य विभाग की देखरेख में हो बच्चों का टीकाकरण रामचंद्र चंद्रवंशी ने कहा- झारखंड राज्य को स्वास्थ्य के क्षेत्र में नंबर वन बनाएंगे समाज में संकुचित सोच ही नारी की सबसे बड़ी दुश्मन: गीता सहारण नागरिकों को खुद को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक होने की जरूरत स्वास्थ्य विभाग ने तीन निजी अस्पतालों पर छापा मारा शांति मानवता का मुख्य धर्म व युवा देश की रीढ़ की हड्डी हैं स्वास्थ्य मंत्री अजय चंद्राकर के खिलाफ लगाए मुर्दाबाद के नारे स्वास्थ्य विभाग ने फूड प्वाइज¨नग की आशंका जताई पाक ने सीमा पर फिर किया सीजफायर का उल्लंघन, 2 जवान शहीद वीडियो: योग टीचर पर कहर बनकर टुटा नारियल का पेड़, हुई मौत महिला हाॅकी विश्व लीग के सेमीफाइनल में पराजित होने के बाद भारत रही आठवें स्थान पर महिला SI ने चोर को पकड़ने के लिए बिछाया लव स्टोरी का जाल, भेजा जेल
वीरसागर ने कहा- जीवन में गुरू का बडा महत्व होता है।
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 05:02:00 PM
1 of 1

नीमच। ईश्वर की कृपा से और सद्कर्मों से ही हमें सदगुरू मिलते हैं। गुरू की कृपा से हमें ईश्वर मिल सकता है। गुरू पूजन का बडा महत्व है। गुरूदेव का महापूजन सुख समृद्घि देने वाला है। यह पूजन महामंगलकारी होकर हमारे कष्टों को हरने वाला है। यह बात 107 मुनि वीरसागर महाराज ने कही। वे दिगम्बर जैन मंदिर में बुधवार सुबह सात बजे आयोजित चातुर्मास धर्मसभा में बोल रहे थे।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

मुनिश्री ने कहा कि संसार में मनुश्य बहुत उलझन में रहता है। सदगुरू मनुश्य का सच्चा गाइड होता है। संसार की भूल भूलैया से गाइड निकालता है। महावीर, गौतम, कुन्दकुन्द को गुरू माना है। इन गुरूओं को प्राचीनकाल से आज भी याद किया जा रहा है। आचार्य कुन्दकुन्द ने पावन समय सार, नियमसार सहित 74 शास्त्रों की रचना की और स्वयं ऐसा जीवन जिया कि दिगम्बर साधु का सही स्वरूप क्या होता है। दुनिया को बताया। जब पशुओं की बलि को धर्म माना जा रहा था। तब महावीर ने अहिंसा को धर्म बताया था। मुगलों और अंग्रेजों के शासन में लोग धर्म को भूल चुके थे। उस समय घना अंधकार हो रहा था। उस समय आचार्य शांतिसागर ने एक एक कदम साधना कर आगे बढाया था। वे पूरी प्रतिकूलताओं में आगे बढे। ठीक उसी प्रकार ज्ञानसागर और आचार्य विद्यासागर महाराज ने महान कार्य किया है।

आचार्य विद्यासागर ने 22 वर्ष की आयु में दीक्षा ग्रहण की थी। बुढापे में धर्म नहीं हो पाता है। उस काल में 60 वर्ष की आयु में दीक्षा लेते थे। ऐसे में अल्पायु में दीक्षा ली थी तो वह व्यक्ति कुछ नया करने वाला था। महान वही है जो रास्ते पर चलता है लेकिन नये रास्ते को बनाता भी है। परोपकार के लिए गाय दूध, पेड़ फल, नदी पानी और संत परोपकार का कार्य करते है। वे महान होते हैं। यही कार्य आचार्य विद्यासागर, शांतिसागर महाराज ने किया जो प्रेरणादायी है। जब तक बुढ़ापे का रोग नहीं लगे तभी धर्म शुरू करना चाहिए।

आचार्यश्री धर्मरक्षा के लिए विश्वनीय है। दिगम्बर जीवन मेकं मुनि जीता है उनका वर्तमान अच्छा रहता है उन्हें भविष्य की चिंता नहीं होती है। साधु चिंतित नहीं होते हैं। जो सही नेता होता है वह सामान्य होता है लेकिन असामान्यता के भी धनी होते हैं। अग्नि परीक्षा से सीता की रक्षा करने देवता लोग आए थे। सीता का धर्म के प्रति समर्पण के कारण आये थे। आचार्य विद्यासागर को महान उनके समर्पण ने बनाया था। आपका विरोधी आपके गुणों क्वालिटी को लेकर प्रशंसा करे तो व्यक्ति महान हो जाता है। जन्म से हर व्यक्ति सामान्य होता है। महान तो बाद में बनता है।

यह भी पढ़े: पति-पत्नी जैसा रिस्ता माना जाता है, देवर-भाभी का!..

यह भी पढ़े: भूलकर भी न करे... ऐसे पुरुषों से प्यार करना पड़ सकता है भारी...!

यह भी पढ़े: यहां की औरते 65 की उम्र में भी रहती हैं जवा, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.