loading...
चॉकलेट बनी विवेक ओबेराय की कमजोरी कश्मीर समस्या के स्थायी निदान का रोडमैप तैयार है: राजनाथ सिंह पूर्व Miss Pakistan शांजे हयात, आज कल चर्चाओं में OMG जब पैदा होने के चंद मिनट बाद ही चलने लगा ये नवजात शिशु, वीडियो वायरल घृणित युद्ध' का सामना कर रही भारतीय सेना को नये तरीके से लड़ने की जरूरत है: बिपिन रावत नारीवाद के प्रति लोगों की धारणा बदली: हुमा कुरैशी 7 दशकों से खतरा बने पाक के खिलाफ हमारी रक्षा तैयारी सर्वोच्च होनी चाहिए: जेटली विन्ध्य महोत्सव से रीवा को मिली नई पहचान, पर्यटन गैलरी का हुआ शुभारंभ किया बॉलीवुड की 'देसी गर्ल' को मिलेगा दादा साहेब फाल्के एकेडमी अवॉर्ड Ind Vs NZ LIVE: भारत ने न्यूजीलैंड को पहले अभ्यास मैच में किया पराजित, डकवर्थ लुईस नियम से हुआ फैसला सन् 2022 तक किसानों की आय में होगा दुगना इजाफा : राधामोहन सिंह लड़की का लिव इन में रहना घर वालो को लगा नागवार,उतारा मौत के घाट आर्सनल ने चेल्सी को पराजित कर एफए कप का 13वीं बार जीता खिताब गोकुल ग्राम की तर्ज पर ‘गिर गाय अभ्यारण्य’ स्थापित करने को मिली मंजूरी जन्म के कुछ ही मिनटों बाद अपने पैरों पर चला बच्चा,वीडियो वाइरल 11 साल की लड़की ने अपने टीचर्स को दी नसीहत,जानिए.... जिम्नास्टिक खेल में लगातार तीन ओलंपिक्स खेलों में भारतीय टीम का कैप्टन अनंत राम को मिला सम्मान एमजेएसए में जल संरचनाओं के निर्माण में दे जोर : यूनुस खान थाना शहर क्षेत्र में नाबालिग लड़की के साथ लड़का फरार Ind Vs NZ LIVE: विराट ने जड़ा अर्धशतक, बारिश ने मैच में डाली बाधा, कोहली-धोनी क्रीज पर
वीरसागर ने कहा- जीवन में गुरू का बडा महत्व होता है।
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 05:02:00 PM
1 of 1

नीमच। ईश्वर की कृपा से और सद्कर्मों से ही हमें सदगुरू मिलते हैं। गुरू की कृपा से हमें ईश्वर मिल सकता है। गुरू पूजन का बडा महत्व है। गुरूदेव का महापूजन सुख समृद्घि देने वाला है। यह पूजन महामंगलकारी होकर हमारे कष्टों को हरने वाला है। यह बात 107 मुनि वीरसागर महाराज ने कही। वे दिगम्बर जैन मंदिर में बुधवार सुबह सात बजे आयोजित चातुर्मास धर्मसभा में बोल रहे थे।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

मुनिश्री ने कहा कि संसार में मनुश्य बहुत उलझन में रहता है। सदगुरू मनुश्य का सच्चा गाइड होता है। संसार की भूल भूलैया से गाइड निकालता है। महावीर, गौतम, कुन्दकुन्द को गुरू माना है। इन गुरूओं को प्राचीनकाल से आज भी याद किया जा रहा है। आचार्य कुन्दकुन्द ने पावन समय सार, नियमसार सहित 74 शास्त्रों की रचना की और स्वयं ऐसा जीवन जिया कि दिगम्बर साधु का सही स्वरूप क्या होता है। दुनिया को बताया। जब पशुओं की बलि को धर्म माना जा रहा था। तब महावीर ने अहिंसा को धर्म बताया था। मुगलों और अंग्रेजों के शासन में लोग धर्म को भूल चुके थे। उस समय घना अंधकार हो रहा था। उस समय आचार्य शांतिसागर ने एक एक कदम साधना कर आगे बढाया था। वे पूरी प्रतिकूलताओं में आगे बढे। ठीक उसी प्रकार ज्ञानसागर और आचार्य विद्यासागर महाराज ने महान कार्य किया है।

आचार्य विद्यासागर ने 22 वर्ष की आयु में दीक्षा ग्रहण की थी। बुढापे में धर्म नहीं हो पाता है। उस काल में 60 वर्ष की आयु में दीक्षा लेते थे। ऐसे में अल्पायु में दीक्षा ली थी तो वह व्यक्ति कुछ नया करने वाला था। महान वही है जो रास्ते पर चलता है लेकिन नये रास्ते को बनाता भी है। परोपकार के लिए गाय दूध, पेड़ फल, नदी पानी और संत परोपकार का कार्य करते है। वे महान होते हैं। यही कार्य आचार्य विद्यासागर, शांतिसागर महाराज ने किया जो प्रेरणादायी है। जब तक बुढ़ापे का रोग नहीं लगे तभी धर्म शुरू करना चाहिए।

आचार्यश्री धर्मरक्षा के लिए विश्वनीय है। दिगम्बर जीवन मेकं मुनि जीता है उनका वर्तमान अच्छा रहता है उन्हें भविष्य की चिंता नहीं होती है। साधु चिंतित नहीं होते हैं। जो सही नेता होता है वह सामान्य होता है लेकिन असामान्यता के भी धनी होते हैं। अग्नि परीक्षा से सीता की रक्षा करने देवता लोग आए थे। सीता का धर्म के प्रति समर्पण के कारण आये थे। आचार्य विद्यासागर को महान उनके समर्पण ने बनाया था। आपका विरोधी आपके गुणों क्वालिटी को लेकर प्रशंसा करे तो व्यक्ति महान हो जाता है। जन्म से हर व्यक्ति सामान्य होता है। महान तो बाद में बनता है।

यह भी पढ़े: पति-पत्नी जैसा रिस्ता माना जाता है, देवर-भाभी का!..

यह भी पढ़े: भूलकर भी न करे... ऐसे पुरुषों से प्यार करना पड़ सकता है भारी...!

यह भी पढ़े: यहां की औरते 65 की उम्र में भी रहती हैं जवा, जानिए वजह

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.