गुजरात चुनाव: आंतरिक गुटबाजी और पीएएएस की वजह से कांग्रेस की सूची में विलंब बुन्देलखण्ड को औद्योगिक हब बनाएगी योगी सरकार: मौर्य बद्रीनाथ के कपाट शीतकाल के लिए बंद पद्मावती, आईएफएफआई विवाद पर हंसल मेहता निराश ISL 2017: गोवा एफसी ने 3-2 से चेन्नईयन एफसी को चटाई धूल व्हाट्सएप पर पोस्ट डालना अधिकारी को पड़ा महंगा, गवानी पड़ी कुर्सी गांव में हो रही है राजपाल यादव की बेटी की शादी, बैंक मैनेजर है दामाद करुणामय संसार बनाने के लिए भारत-चीन को मिलकर करना होगा काम: दलाई लामा एशियन कबड्डी चैंपियनशिप: पुरुष व महिला की टीमें घोषित, हिमालय के 4 खिलाडी शामिल विश्व शौचालय दिवस : स्वच्छ भारत मिशन ने मनाया शौचालय दिवस VVS लक्ष्मण की ड्रीम टेस्‍ट टीम घोषित, जानिए टीम के 11 सदस्य बरेली पुलिस ने अपराध होने से पहले आरोपियों को किया गिरफ्तार प्रति व्यक्ति औसत GDP के लिहाज से भारत ने लगाई छलांग, पहुंचा 126 वें स्थान पर अंडर-19 एशिया कप में पाक को हराकर अफगानिस्‍तान बना चैम्पियन जिम्बाब्वे: रॉबर्ट मुगाबे की पार्टी प्रमुख पद से की छुट्टी, एमर्सन नांगाग्वा संभालेंगे कमान सरहदी नागरिकों ने राजस्थान की तर्ज पर एंट्री टैक्स को माफ करने की मांग उठाई ऐसा होगा राजस्थान पुलिस परीक्षा का पैटर्न, पढ़िए पूरी खबर आमिर व सैफ अली खान के अलावा करीना कपूर भी है लव जिहाद का शिकार मार्च 2018 तक कोई नई नियुक्ति नहीं: एसोचैम कांग्रेस और पाटीदार नेताओं के बीच आरक्षण पर बनी सहमति, आज उम्मीदवारों की पहली लिस्ट
कर्नाटक के जलाशयों में पानी नहीं है: सिद्धारमैया
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 09:54:03 AM
1 of 1

बेंगलुरू। उच्चतम न्यायालय के आदेश पर प्रतिक्रिया देते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने आज कहा कि राज्य के जलाशयों में पानी नहीं है। उच्चतम न्यायालय ने कावेरी से रोजाना 2,000 क्यूसेक पानी तमिलनाडु के लिए अगले आदेश तक छोड़ने को कहा है। मुख्यमंत्री ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा की हमारे जलाशयों में पानी नहीं है, मैंने अभी तक आदेश की प्रति नहीं देखी है। मैं उसे देखने के बाद वकीलों से बात करूंगा।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

उच्चतम न्यायालय ने अपना निर्देश बरकरार रखते हुए कर्नाटक से अगले आदेश हर दिन 2,000 क्यूसेक पानी तमिलनाडु के लिए छोड़ने को कहा। इसके साथ ही अदालत ने दोनों राज्यों से शांति व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा की अदालत कर्नाटक सरकार के धर्य की परीक्षा लेने के लिए 2,000 क्यूसेक पानी छोड़ने का आदेश दे सकती है..अगर वह दोबारा कल आदेश देंगे तो हम इसे अस्वीकार कर सकते हैं। जब खुद पीने के लिए भी पानी नहीं हो तो फसल के लिए पानी छोड़ना धर्म का काम नहीं है।

यह भी पढ़े: कोड़ी के भाव बेच दिए रिश्ते ! दोनों बेटी को कई बार बेचा, कई बार हुआ रेप लेकिन इसके बावजूद

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप
यह भी पढ़े: जवान होने से पहले ही लड़कियों की जबरन शादी, और फिर..
यह भी पढ़े: अजीब परम्परा! यहां लड़कियों के रेप में लड़को का साथ देते है घरवालें..!

 


FROM AROUND THE WEB

0 comments

© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.