loading...
paytm ने किया ‘डिजिटल सोने’ की शुरुआत के लिए MMTC-PAMP के साथ गठबंधन प्लेन हाईजैक को लेकर यात्री ने PM किया ट्वीट, जयपुर में मचा हड़कंप सहारा प्रमुख का पैरोल 19 जून तक बढ़ा, वक्त पर 1,500 करोड़ रुपए भुगतान नहीं किया तो होगी जेल बंगाल में शाह की चुनौती पर बोलीं ममता, कहा- दिल्ली पर कब्जा करेगी तृणमूल वाड्रा ने गलत तरीके से कमाया 50.50 करोड़ रुपये का मुनाफा: ढींगरा कमिशन मेरी प्रॉपर्टी से रॉबर्ट वाड्रा का कोई लेने देना नहीं है: प्रियंका गाँधी चौथी तिमाही में मारुति सुजुकी के शुद्ध लाभ में हुई बढ़ोतरी फिर 8 महीने बाद आतंकी हमला, इन जवानों ने मार गिराया दो आतंकियों को यूनाइटेड एयरलाइंस ने कन्फर्म सीट छोड़ने वाले यात्रियों के लिए हर्जाने का किया ऐलान नोटबंदी से पहले RBI ने 500 और 2000 रुपए के नए नोटों का उचित स्टॉक जुटा लिया था: गवर्नर फिर 8 महीने बाद आतंकी हमला, इन जवानों ने मार गिराया दो आतंकियों को नींबू के छिलकों को फेंकने से पहले जान लो ये फायदे बाथरूम में करते हैं स्मार्टफोन का यूज तो हो जायें सावधान! सुबह उठने के 60 सेकंड्स के अन्दर खाली पेट पीना चाहिए पानी आखिर कौन बने सनी लियोनी के चाहते क्रिकेटर अगर बच्चे के पास आती हैं कामुक तस्वीरें तो माता-पिता को जाएगा अलर्ट मैं ढंग से झूठ नहीं बोल पाती हूं: एमा वाटसन "मैं कॉमेडियन नहीं":सुनील ग्रोवर ये है दुनिया का एक ऐसा देश, जहां मौत पर है पाबंदी नरगिस फाखरी कर रही है एक पाकिस्तानी एक्टर को डेट!
कर्नाटक के जलाशयों में पानी नहीं है: सिद्धारमैया
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 09:54:03 AM
1 of 1

बेंगलुरू। उच्चतम न्यायालय के आदेश पर प्रतिक्रिया देते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने आज कहा कि राज्य के जलाशयों में पानी नहीं है। उच्चतम न्यायालय ने कावेरी से रोजाना 2,000 क्यूसेक पानी तमिलनाडु के लिए अगले आदेश तक छोड़ने को कहा है। मुख्यमंत्री ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा की हमारे जलाशयों में पानी नहीं है, मैंने अभी तक आदेश की प्रति नहीं देखी है। मैं उसे देखने के बाद वकीलों से बात करूंगा।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

उच्चतम न्यायालय ने अपना निर्देश बरकरार रखते हुए कर्नाटक से अगले आदेश हर दिन 2,000 क्यूसेक पानी तमिलनाडु के लिए छोड़ने को कहा। इसके साथ ही अदालत ने दोनों राज्यों से शांति व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा की अदालत कर्नाटक सरकार के धर्य की परीक्षा लेने के लिए 2,000 क्यूसेक पानी छोड़ने का आदेश दे सकती है..अगर वह दोबारा कल आदेश देंगे तो हम इसे अस्वीकार कर सकते हैं। जब खुद पीने के लिए भी पानी नहीं हो तो फसल के लिए पानी छोड़ना धर्म का काम नहीं है।

यह भी पढ़े: कोड़ी के भाव बेच दिए रिश्ते ! दोनों बेटी को कई बार बेचा, कई बार हुआ रेप लेकिन इसके बावजूद

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप
यह भी पढ़े: जवान होने से पहले ही लड़कियों की जबरन शादी, और फिर..
यह भी पढ़े: अजीब परम्परा! यहां लड़कियों के रेप में लड़को का साथ देते है घरवालें..!

 


FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.