loading...
उत्तरप्रदेश: कानून से बेख़ौफ़ लुटेरों ने 'गन प्वाइंट' पर दो घरों में की लूटपाट ICC ने पुणे पिच को लेकर BCCI से मांगा जबाव देश की पहली हवाई तीर्थयात्रा योजना का शुभारम्भ, मुख्यमंत्री ने माला पहनाकर किया रवाना कोच कुंबले ने किया इस युवा खिलाडी का सपना साकार उपवास सर्वोच्च उपचार और सर्वमहान आरोग्य तुर्की की एक अदालत ने जर्मन पत्रकार को जेल भेजने का दिया आदेश VIDEO: इस फिल्म से बड़े पर्दे पर वापसी के लिए तैयार है रानी मुखर्जी! सुषमा ने कंसास में बीच-बचाव करने वाले अमेरिकी युवक की बहादुरी को सराहा गाम्बिया के सैन्य प्रमुख जनरल उस्मान बैजी को पद से हटाया भारतीय सीनियर फुटबॉल राष्ट्रीय टीम का अभ्यास शिविर मुंबई में पन्नीरसेल्वम गुट के 12 सांसदों ने राष्ट्रपति से की मुलाकात, जयललिता की मौत की जांच की मांग VIDEO: रिलीज हुआ फिल्म फिल्लौरी का तीसरा शानदार गाना यौन शोषण के आरोप में उबर ने मांगा भारतीय शीर्ष अधिकारी से इस्तीफा WWE रिंग में फ्लेयर के साथ नजर आएगी ये टेनिस स्टार बांग्लादेश में जापानी नागरिक की हत्या में पांच आतंकियों को सजा-ए-मौत SC ने खारिज की 23 हफ्ते के भ्रूण के गर्भपात की याचिका, कहा- हमारे हाथ में हैं एक मासूम की जिंदगी VIDEO: आखिर क्यों शाहरुख़ ने कंगना के साथ काम करने से किया इंकार? इतिहास: भारतीय हिन्दी सिनेमा के प्रसिद्ध संगीतकार और गायक थे रवीन्द्र जैन अफगानिस्तान: पुलिसकर्मी ने अपने सहकर्मियों पर की फायरिंग, 11 की मौत VIDEO: मास्टर-ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर ने टीम इंडिया को दिया ये संदेश!
कर्नाटक के जलाशयों में पानी नहीं है: सिद्धारमैया
sanjeevnitoday.com | Wednesday, October 19, 2016 | 09:54:03 AM
1 of 1

बेंगलुरू। उच्चतम न्यायालय के आदेश पर प्रतिक्रिया देते हुए कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने आज कहा कि राज्य के जलाशयों में पानी नहीं है। उच्चतम न्यायालय ने कावेरी से रोजाना 2,000 क्यूसेक पानी तमिलनाडु के लिए अगले आदेश तक छोड़ने को कहा है। मुख्यमंत्री ने संवाददाताओं से बातचीत करते हुए कहा की हमारे जलाशयों में पानी नहीं है, मैंने अभी तक आदेश की प्रति नहीं देखी है। मैं उसे देखने के बाद वकीलों से बात करूंगा।

JAIPUR : मात्र 155/- प्रति वर्गफुट प्लाट बुक करे, कॉल -09314166166

उच्चतम न्यायालय ने अपना निर्देश बरकरार रखते हुए कर्नाटक से अगले आदेश हर दिन 2,000 क्यूसेक पानी तमिलनाडु के लिए छोड़ने को कहा। इसके साथ ही अदालत ने दोनों राज्यों से शांति व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए भी कहा। उन्होंने कहा की अदालत कर्नाटक सरकार के धर्य की परीक्षा लेने के लिए 2,000 क्यूसेक पानी छोड़ने का आदेश दे सकती है..अगर वह दोबारा कल आदेश देंगे तो हम इसे अस्वीकार कर सकते हैं। जब खुद पीने के लिए भी पानी नहीं हो तो फसल के लिए पानी छोड़ना धर्म का काम नहीं है।

यह भी पढ़े: कोड़ी के भाव बेच दिए रिश्ते ! दोनों बेटी को कई बार बेचा, कई बार हुआ रेप लेकिन इसके बावजूद

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप
यह भी पढ़े: जवान होने से पहले ही लड़कियों की जबरन शादी, और फिर..
यह भी पढ़े: अजीब परम्परा! यहां लड़कियों के रेप में लड़को का साथ देते है घरवालें..!

 


FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.