सुरक्षित और सम्मिलित साइबर स्पेस देने के प्रति प्रतिबद्ध है भारत : सुषमा स्वराज पद्मावती विवाद: नाहरगढ़ किले पर लटकाया युवक का शव, लिखा- हम पुतले नहीं शव लटकाते है हादसा :पटरी से उत्तरी वास्को-डि-गामा-पटना एक्सप्रेस हाफिज सईद की रिहाई पर अमेरिका ने जताई नाराजगी, कहा- फिर से गिरफ्तार करो दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ाने से किसी को नहीं हुआ फायदा: केजरीवाल मिस्र में अब तक का सबसे भीषण आतंकी हमला, 235 लोगो की मौत वीडियो: वोट देने से किया मना तो दबंगो ने जलाया महिला का घर आधार कार्ड को लेकर दो बड़े फैसले, जल्द कीजिए आप भी नहीं तो सकता है बड़ा नुकसान अभिनेत्री नमिता आज अपने बॉयफ्रेंड वीरेंद्र से रचाई शादी, देखें वीडियो रेसिपी: इस प्रकार बनाएं स्वादिष्ट मैकरोनी कन्‍नौज में दूल्‍हा-दुल्‍हन ने थाने में रचाई शादी, खाईं सात जन्‍मों की कसमें, देखें वीडियो रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ता हैं पपीता, जानिए पद्मावती विरोध: किले में शव मिलने से बॉलीवुड में मचा हड़कंप, जानिए पूरा मामला मिस्र: हिंसक आतंकी हमले में 155 मरे, सैंकड़ों घायल ‘मॉनसून शूटआउट’ का नया गाना ‘अंधेरी रात’ में दिया हुआ रिलीज़ THE फैक्ट्री कार्नर ने मनाया बालदिवस कई खतरनाक बीमारियों को दूर भगाता है अमरूद, जानिए अभिनेत्री नमिता ने फिल्म निर्माता वीरेंद्र चौधरी संग रचाई शादी DSP ने शादी का झांसा देकर महिला कांस्टेबल से बनाए शारीरिक सम्बन्ध सुस्त मांग से सोने में गिरावट, चांदी स्थिर
12 साल की उम्र में राजगद्दी पर बैठा ये युवक, राजनीति में आने की कर रहा है तैयारी
sanjeevnitoday.com | Saturday, July 15, 2017 | 10:57:40 PM
1 of 1

जयपुर। जयपुर राजघराने के सबसे युवा राजा पद्मनाभ सिंह 12 जुलाई को 19 साल के हो गए हैं। जयपुर के पूर्व महाराजा ब्रिगेडियर भवानी सिंह के निधन के बाद 2011 में उनके वारिस के तौर पर महज 12 साल की उम्र में पद्मनाभ सिंह का राजतिलक हुआ था। पद्मनाभ सिंह को 18 साल की उम्र पाने के साथ ही सभी मामलों में उत्तराधिकारी होने के कानूनी अधिकार मिलेंगे। साथ ही भवानी सिंह के नाम से जुड़ी सभी अदालती कार्रवाइयां पद्मनाभ सिंह के नाम से लड़ी जाएंगी। 18 साल के उम्र में पद्मनाभ सिंह का इंडियन पोलो टीम में सिलेक्शन हुआ था। वे वल्र्ड कप मैच में भारत की और से खेलने  वाले सबसे यंगेस्ट पोलो प्लेयर हैं।पद्मनाभ सिंह पढ़ाई के बाद वे राजनीति में आकर देश की सेवा करना चाहते है।

जयपुर राजघराने के पास अरबों की संपत्ति है लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने राजपरिवार की कई संपत्तियों पर वर्ष 1992 से रिसीवर नियुक्त कर रखा है। तब से अब तक इन पर कोई फैसला नहीं हो पाया है। भवानी सिंह के पिता सवाई मानसिंह द्वितीय की जो भी संपत्ति थी, मानसिंह के बाद भवानी सिंह उसके उत्तराधिकारी बने। तब से वर्ष 1986 तक सब कुछ ठीक-ठाक रहा, उसके बाद संपूर्ण संपत्ति के बंटवारे को लेकर पूर्व राजमाता गायत्री देवी, भवानी सिंह के भाई जयसिंह, पृथ्वी सिंह और जगतसिंह एक ओर आ गए। उन्होंने दिल्ली हाईकोर्ट में संपत्ति बंटवारे का दावा कर दिया। तब से अब तक राजपरिवार की काफी संपत्तियों पर केस चल रहे हैं।

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.