loading...
पहले वीकेंड में कमजोर रही 'फिल्लौरी' और 'अनारकली' कस्बों के नाम परिवर्तन की प्रक्रिया प्रस्ताव आने पर की जाएगी प्रारम्भ : राज्यमंत्री शादी का झांसा देकर युवती से दुष्कर्म केंद्रीय कपड़ा मंत्री स्‍मृति इरानी ने किया 33वें इंडिया कारपेट एक्‍सपो का उद्घाटन विश्व में बढ़ती एड्स रोगियों की संख्या चिंता का विषय : डॉ. करीम आईसीसी के प्रमुखों के लिए पहला प्रशिक्षण कार्यक्रम अगले माह होगा : मेनका गांधी एलईडी वितरण योजना में भाजपा ने किया 20 हजार करोड़ का भ्रष्टाचार : कांग्रेस शीतकालीन खेलों के बाद भारत लौटे खिलाड़ियों को खेल मंत्री ने किया सम्मनित डॉक्टरों ने PG कोर्स के लिए आरक्षण का कोटा समाप्त करने को लेकर निकाली रैली पति से झगड़े के बाद महिला आयोग के हस्तक्षेप के बाद हुआ कैंसर पीड़िता का इलाज भारत धर्मशाला में सीरीज पर जीत से 87 रन दूर सिनेमा के माध्यम से मज़बूत होंगे भारत और वियतनाम के रिश्ते : वेंकैया नायडू पेट्रोलियम सप्लाई को लेकर भारत-नेपाल के बीच समझौता आत्महत्या के प्रयास को नहीं माना जायेगा अपराध, मानसिक स्वास्थ्य देखरेख विधेयक राज्यसभा में पारित क्राइम ब्रांच ने भारी मात्रा में गंजे के साथ तस्कर को दबोचा युवा उद्यमियों प्रोत्साहन योजना से लोगो को रोजगार मिलने की संभावना: मंत्री चैनल ने दिया कपिल को जोर का झटका, कलर्स पर आएगा 'कॉमेडी नाइट विद गुत्थी' रेलवे आईटी उद्योग के साथ भागीदारी पर दे जोर : सुरेश प्रभु भाजपा सरकार की कथनी एवं करनी में अंतर : पायलट गोविंदा और शिल्पा शेट्टी पर न्यायालय सख्त, 20 अप्रैल को सशरीर हाजिर होने का फरमान
इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 05:42:29 PM
1 of 1

नई दिल्ली। जहां एक तरफ 8 नवंबर से PM नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले के बाद पूरे देश में हर बैंक और ATM पर लोग लंबी लंबी कतारों में खड़े है, वहीं गुजरात के एक गांव में इसका कोई फर्क नहीं पड़ा है। यहां बैंक से लेकर ATM तक कोई लाइन आपको कभी भी नजर नहीं आएगी। जानकारी के मुताबिक ऐसा नहीं है कि यहां गांव की कुल आबादी 11000 हजार के करीब है और गांव में भी कुल 13 बैंक हैं। 

दरअसल इस गांव के ज्यादातर लोग NRI हैं। हर साल अमूमन 1500 से 2000 लोग गांव में आते-जाते रहते है। इसलिए लोग न तो बैंक से लोन लेते हैं और न ही बैंको में कभी भीड़ नजर आती है। इस गांव में लेन-देन का ज्यादातर काम डेबिट और क्रेडिट कार्ड से ही होता है। लोगों का कहना है कि उनके गांव की तरह दूसरे गांव और शहरों को भी प्लास्टिक करेंसी का उपयोग करना चाहिए।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.