loading...
झुग्‍गी अपनाओ अभियान के तहत स्‍लम युवा दौड़ को मिली हरी झंडी : विजय गोयल चीन 0-3 से पराजित कर भारत को सुदिरमन कप के क्वॉर्टर फाइनल में किया बाहर गांजा बेच रहे 2 युवकों को किया गिरफ्तार, मामला दर्ज ऊर्जा, जलदाय, पीडब्ल्यूडी, जल संसाधन विभागों को होगी ऑनलाइन मॉनिटरिंग : वसुन्धरा राजे विश्व के नंबर एक टेनिस खिलाड़ी फ्रेंच ओपन से पहले हुए बीमार: एंडी मरे स्टार्टअप के विशेष पैविलियन में प्रदर्शित हुए किसानों के उत्पाद पीसीबी के चेयरमैन शहरयार खान की जगह अगस्त में लेंगे नजम सेठी इस अभिनेत्री को शादी से पहले मां बनने में नहीं है ऐतराज! दहेज़ उत्पीड़न, महिला ने पति सहित चार लोगों के खिलाफ दर्ज कराया मामला क्रिकेट: इंग्लैंड के स्टार स्पिनर मोईन अली ने कहा- किसी भी क्रम पर बल्लेबाजी के लिए हूं तैयार डांग क्षेत्र में जल संकट से निपटने के लिए नई इबारत लिखेंगे मिनी परकोलेशन टेंक ईपीएफओ ने दिया प्रस्ताव, होम टेक सैलरी में ऐसे होगा इजाफा VIDEO: ये बाबा सिखाते हैं हॉट योगा, साल में एक बार करते हैं स्नान श्रीनगर: खेल मंत्री अंसारी ने किया राज्य की पहली पेशेवर फुटबॉल अकादमी का उद्घाटन ट्रंप ने उत्तर कोरिया की नीतियों पर जताई चिंता, कहा - उत्तर कोरिया बन चूका है दुनिया के लिए खतरा चैंपियंस ट्रॉफी: भारत की आस्ट्रेलिया पर ये जीत रही थी यादगार, सचिन ने जड़े.... Video: केटी पेरी ये हॉट तस्वीरें है वाकई में लाजवाब! VIDEO: वेब सीरीज में दिखाई दिए छोटे पर्दे के कलाकारों के जलवे IT सेक्टर में छंटनी का मुद्दा फिर गरमाया, संस्थापक ने उठाया एक्शन पर सवाल PICS: भोजपुरी फिल्मो में श्रीदेवी के नाम से मशहूर है ये एक्ट्रेस..नाम से ही साइन हो जाती है फिल्में
इस गांव में सुनसान पड़े है सभी बैंक और ATM, जानिए वजह
sanjeevnitoday.com | Tuesday, November 29, 2016 | 05:42:29 PM
1 of 1

नई दिल्ली। जहां एक तरफ 8 नवंबर से PM नरेंद्र मोदी के नोटबंदी के फैसले के बाद पूरे देश में हर बैंक और ATM पर लोग लंबी लंबी कतारों में खड़े है, वहीं गुजरात के एक गांव में इसका कोई फर्क नहीं पड़ा है। यहां बैंक से लेकर ATM तक कोई लाइन आपको कभी भी नजर नहीं आएगी। जानकारी के मुताबिक ऐसा नहीं है कि यहां गांव की कुल आबादी 11000 हजार के करीब है और गांव में भी कुल 13 बैंक हैं। 

दरअसल इस गांव के ज्यादातर लोग NRI हैं। हर साल अमूमन 1500 से 2000 लोग गांव में आते-जाते रहते है। इसलिए लोग न तो बैंक से लोन लेते हैं और न ही बैंको में कभी भीड़ नजर आती है। इस गांव में लेन-देन का ज्यादातर काम डेबिट और क्रेडिट कार्ड से ही होता है। लोगों का कहना है कि उनके गांव की तरह दूसरे गांव और शहरों को भी प्लास्टिक करेंसी का उपयोग करना चाहिए।

यह भी पढ़े: नाक में क्यों होते है दो छेद? जाने वजह

यह भी पढ़े: नोटबंदी के बीच आईएएस अफसरों ने सिर्फ 500 रूपये में रचाई शादी

यह भी पढ़े: ये है दुनिया के सबसे पेचीदा 21 तथ्य जिनका जानना बेहद जरुरी... पढ़े एक बार

यह भी पढ़े : ताज़ा और रोचक ख़बरों से जुड़े रहने के लिए डाउनलोड करें हमारा एंड्राइड न्यूज़ ऍप



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.