26 नवंबर को हरियाणा के 13 जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद IAS ऑफिसर से रिटायरमेंट के पहले ही छीना वेतन, दफ्तर, गाड़ी! गहना ने अर्शी पर साधा निशाना कहा, इस शख्स के साथ लिवइन रिलेशन में रह चुकी हैं उत्तर कोरिया कर सकता हमला,तानाशाह की सूची में15 ठिकाने महिला बॉक्सिंग चैंपियनशिप:भारत की तीन युवा फाइनल में रेप के आरोप में गिरफ्तार हुए 'देवों के देव महादेव' स्टार पीयूष सहदेव लंदन के ऑक्सफ़र्ड सर्कस ट्यूब स्टेशन पर हुई घटना का नहीं मिला सबूत राशिफल : 25 नवंबर: कैसा रहेगा आपके लिए शनिवार का दिन, जानने के लिए क्लिक करें देश और दुनिया के इतिहास में 25 नवंबर की महत्वपूर्ण घटनाएं क्रिकेट के इतिहास में पहली बार, 2 रन पर ऑल आउट हो गई ये टीम माँ की ममता हुई शर्मशार: अपने ही मासूम बच्चे का किया कत्ल कुदरत का करिश्मा: 14 साल बाद परिवार से मिली अयोध्या से मुंबई पहुंची पूजा मानुषी छिल्लर पर हुड्डा व खट्टर में जुबानी जंग शुरू सुरक्षित और सम्मिलित साइबर स्पेस देने के प्रति प्रतिबद्ध है भारत : सुषमा स्वराज पद्मावती विवाद: नाहरगढ़ किले पर लटकाया युवक का शव, लिखा- हम पुतले नहीं शव लटकाते है हादसा :पटरी से उत्तरी वास्को-डि-गामा-पटना एक्सप्रेस हाफिज सईद की रिहाई पर अमेरिका ने जताई नाराजगी, कहा- फिर से गिरफ्तार करो दिल्ली मेट्रो का किराया बढ़ाने से किसी को नहीं हुआ फायदा: केजरीवाल मिस्र में अब तक का सबसे भीषण आतंकी हमला, 235 लोगो की मौत वीडियो: वोट देने से किया मना तो दबंगो ने जलाया महिला का घर
भगवा ब्रिगेड को जोर का झटका धीरे से लगा, कांग्रेस की बड़ी जीत का क्या था राज, जानिए
sanjeevnitoday.com | Monday, November 13, 2017 | 04:45:17 PM
1 of 1

नई दिल्ली। विगत दो महीने से  दिन रात एक किए भगवा ब्रिगेड को जोर का झटका धीरे से लगा है और कांग्रेस खेमे में ख़ुशी को लहर दौड रही हैं। केंद्र से लेकर प्रदेश स्तर तक की पूरी की पूरी बीजेपी इकाई इस सीट को फतेह करने के लिए चुनाव मैदान में उतरी थी। लेकिन परंपरा को बरक़रार रखते हुए पंजे (कांग्रेस) ने भाजपा के मुंह से निवाले की तरह ये सीट छीन ली। खुद सरकार (मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान) की अथक मेहनत भी भगवा ब्रिगेड को जीत का स्वाद न चखा सकी और पूरे चुनाव के दैरान चित्रकूट विधानसभा को विकास के सांतवें आसमान पर पहुंचाने का वादा भी काम न आया।

 

यह भी पढ़े: वीडियो: एक पैर से विकलांग होने के बावजूद भी देखें इस शख्स की मेहनत, रह जाएंगे हैरान

शिवराज सिंह चौहान की अथक मेहनत  पानी में चली गई

चित्रकूट विधानसभा उपचुनाव को यदि कहा जाए कि बीजेपी ने नाक का सवाल बना लिया था तो इसमें कोई संशय नहीं। केंद्र से लेकर प्रदेश स्तर तक के बड़े पदाधिकारी तथा केंद्रीय मंत्री और राज्य सरकार के मंत्रियों की फ़ौज इस चुनाव को जीतने के लिए हाईकमान के फ़रमान पर तैनात की गई थी लेकिन नतीजे ने सबको चौंका दिया। बीजेपी ये तो जानती थी कि ये कांग्रेस की परंपरागत सीट है। विकास की गंगा बहाने का प्रमाण देकर जनता को रिझाने वाले मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की अथक मेहनत भी पानी में चली गई। मतदान से पहले तीन दिन के प्रवास पर चित्रकूट पहुंचे सीएम शिवराज ने जिस गाँव तुर्रा में रात बिताकर जनता को लुभाने का प्रयास किया था वहां से भी कांग्रेस 210 वोटों से आगे रही।

कांग्रेस को मिली सहानुभूति व काम का इनाम

जीत का जश्न मना रही कांग्रेस इस बात से काफी बेफ़िक्र थी कि शायद उसे हार का सामना करना पड़े। इस सीट पर कांग्रेस से तीन बार विधायक रहे प्रेम सिंह के निधन पर यह सीट रिक्त हुई थी। प्रेम सिंह इससे पहले 2013 के विधानसभा चुनाव में बीजेपी को हराकर विजयी हुए थे। बीहड़ का बागी जीवन त्याग राजनीति के गलियारे में पहुंचे पूर्व विधायक प्रेम सिंह अपनी सादगी और गरीबों के प्रति दरियादिली के लिए जाने जाते थे। गरीब कन्याओं की शादी करवाने को लेकर अक्सर वे चर्चा में बने रहते थे। आम जनता के बीच आम छवि लेकर उनसे घुल मिल जाना प्रेम सिंह की खासियत मानी जाती थी। कांग्रेस के पूरे प्रदेश स्तरीय नेताओं में प्रेम सिंह ही ऐसे नेता थे जो पार्टी की किसी भी रैली में सबसे अधिक भीड़ ले जाने के लिए जाने जाते थे। जिन गांवों में विकास की झलक भी न थी वहां प्रेम सिंह ने दस्तक देकर जगह बनाई। ऐसे कई कारणों से कांग्रेस को उनके काम का फायदा मिला और प्रेम सिंह की मृत्यु की वजह से सहानुभूति भी मिली।

यह भी पढ़े: वीडियो : VIDEO : कार सहित बहे आयुष का शव 7 दिन बाद नाले में हुआ बरामद
कुछ  इस तरह रहा चित्रकूट विधानसभा का परिणाम 

चित्रकूट विधानसभा (मध्य प्रदेश) के उपचुनाव में कांग्रेस ने जीत का परचम लहराया जबकि केंद्र व प्रदेश की सत्ता पर आसीन बीजेपी इस चुनाव में अपने अथक परिश्रम का मीठा फल चखने से वंचित रह गई। 9 नवम्बर को इस सीट पर हुए मतदान में लगभग 65 प्रतिशत मतदाताओं ने कांग्रेस के प्रत्याशी नीलांशू चतुर्वेदी और भाजपा के योद्धा शंकर दयाल त्रिपाठी के भाग्य का फैंसला किया। रविवार 12 नवम्बर 2017 को हुई मतगणना में पंजे (कांग्रेस) ने जीत का जश्न मनाया। कांग्रेस प्रत्याशी नीलांशू चतुर्वेदी ने भाजपा प्रत्याशी शंकर दयाल को 14 हजार 333 मतों से पराजित किया। कांग्रेस को कुल 66,810 तथा बीजेपी को कुल 52,477 वोट मिले। पहले राउंड में बीजेपी 527 वोटों से आगे थी लेकिन बाद के चरणों (राउंड) में कांग्रेस ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और कुल 19 राउंड की मतगणना के बाद उसे जीत का स्वाद चखने को मिल गया।

 बीजेपी को पड़ी अनदेखी भारी 

कई वर्षों से मध्य प्रदेश की सत्ता पर काबिज बीजेपी ने भले ही विकास के लाख दावे किए हों परंतु चित्रकूट विधानसभा में अब तक ये सारे दावे हवा हवाई और खोखले साबित होते आए हैं। चित्रकूट की तस्वीर में कोई खास सुधार नहीं हुआ बीजेपी के इतने साल तक सत्ता में रहने के बाद भी।न जाने ऐसे कितने गांव हैं जहाँ आज डिजिटल इण्डिया के 4 जी जमाने में 2 जी का भी नेटवर्क नहीं है, बिजली पानी सड़क तो और दूर की बात है। सीएम शिवराज की वादाखिलाफी से नाराज साधू संतों ने सितम्बर में हफ्ते भर धरना प्रदर्शन कर आंदोलन चलाते हुए आक्रोश प्रकट किया था। नाराजगी व् चुनाव में होने वाले असर को भांपकर खुद सीएम शिवराज दो दिनों के चित्रकूट प्रवास पर पहुंचकर संतो को मनाने पहुंचे थे।

जयपुर में प्लॉट ले मात्र 2.20 लाख में: 09314188188

NOTE: संजीवनी टुडे Youtube चैनल सब्सक्राइब करने के लिए क्लिक करे !



FROM AROUND THE WEB

0 comments

Most Read
Latest News
© 2015 sanjeevni today, Jaipur. All Rights Reserved.